Hindi Poem on Corruption-आचार जिनके भ्रष्ट हैं

आचार जिनके भ्रष्ट हैं, विचार जिनके भ्रष्ट हैं, काले धन को जमा कर, व्यापार जिनके मस्त हैं। कर रहे प्रहार नमो, पकड़कर जिनकी नब्ज़ को, वे सभी भ्रष्टाचारी आज, सरकारी नियमों से त्रस्त हैं। सर्जिकल स्ट्राइक से जो, मस्त घूमते थे आतंकी, वे सभी आजकल , अपने देश में भी भयग्रस्त हैं। जनधन औऱ उज्ज्वला […]

Patriotic Hindi Poem – Desh Hamara

सबका प्यारा देश हमारा, सबसे अलग सबसे न्यारा, इस माटी के जन्में हम हैं, यह तिरंगा जान से भी प्यारा, सबका प्यारा देश हमारा…. हर जगह सर्वश्रेष्ठ रहें हम, हार न कभी मानना काम हमारा, धरती माँ के लाडले हम हैं, यह तिरंगा जान से भी प्यारा, सबका प्यारा देश हमारा… शीश झुका कर नमन […]

%d bloggers like this: