Category Archives: Hindi poem on India

Hindi Poem on Corruption-आचार जिनके भ्रष्ट हैं

fifa-3458063__340.jpg

आचार जिनके भ्रष्ट हैं,
विचार जिनके भ्रष्ट हैं,
काले धन को जमा कर,
व्यापार जिनके मस्त हैं।
कर रहे प्रहार नमो,
पकड़कर जिनकी नब्ज़ को,
वे सभी भ्रष्टाचारी आज,
सरकारी नियमों से त्रस्त हैं।
सर्जिकल स्ट्राइक से जो,
मस्त घूमते थे आतंकी,
वे सभी आजकल ,
अपने देश में भी भयग्रस्त हैं।
जनधन औऱ उज्ज्वला से,
जिन्होंने महिलाओं को सशक्त किया,
उन युग पुरुष के मन को सुनने,
आज पूरा देश व्यस्त है।

– मयंक गुप्ता

Aachar jinke bhraṣṭ hain
Vichar jinke bhrast hain
Kale dhan ko jama kar
Vyapar jinke mast hain
Kar rahe parhaar namo
Pakad kar jinki nabaz ko
Ve sabhi bharstachari aaj
Sarkari niyamo se tryast hai
Surgical strike se jo
Mast ghumte they aatnki
Ve sabhi aajkal
Apne desh mein bhi bhyagarst hain
Jandhan aur ujwala se
Jinhone mahilayon ko sshakt kiya
Un yug pursh ke man ko sunne
Aaj pura desh vyast hai

-Mayank Gupta

Patriotic Hindi Poem – Desh Hamara

सबका प्यारा देश हमारा,
सबसे अलग सबसे न्यारा,
इस माटी के जन्में हम हैं,
यह तिरंगा जान से भी प्यारा,
सबका प्यारा देश हमारा….

हर जगह सर्वश्रेष्ठ रहें हम,
हार न कभी मानना काम हमारा,
धरती माँ के लाडले हम हैं,
यह तिरंगा जान से भी प्यारा,
सबका प्यारा देश हमारा…

शीश झुका कर नमन है आपको,
प्यारी धरती माँ,
आपके लिए हम सब पूर्ण समर्पित,
प्यारी धरती माँ,
सबका प्यारा देश हमारा…

– अनुभव मिश्रा

Sabka pyara desh hamara
Sabse alag sabse nayara
Es matti ke janme hum hain
Yeh tiranga jaan se bhi pyara
Sabka pyara desh hamara

Har jagah sarvshesht rahe hum
Haar na kabhi maanna kam hamara
Dharti maa ke ladle hum hain
Yeh tiranga jaan se bhi pyara
Sabka pyara desh hamara

Shish jhuka kar naman hai aapko
Pyari dharti maa
Aapke liye hum sab puran samrpit
Pyari dharti maa
Sabka pyara desh hamara

-Anubhav Mishra