Category Archives: Hindi Poem on Insects

Hindi poem on Butterfly – प्यारी तितली


सुंदर पंखों वाली तितली,
रंग रंगीली प्यारी तितली।
पंखों को तू है फड़काती,
फूल-फूल पर है मड़राती।
फूलों को तू बहुत चाहती,
फूल बिना प्यासी रह जाती।
फूलों से तू रस है भरती,
और ना जाने क्या-क्या करती?
कठिन परिश्रम तू है करती,
मानव से तू बहुत है डरती।

– सर्वेश कुमार मारुत

Sunder pankhon wali titli
Rang rangili pyari titli
Pankhon ko tu fadkati
Phul phul par hai mandrati
Phulon ko tu bhut chahti
Phul bina pyasi reh jati
Phulon se tu ras hai bharti
Aur na jane kya kya karti
Kathhin parishrm tu hai karti
Maanav se tu bhot hai darti

-Servesh Kumar Marut

Hindi Poem on Mosquito-मच्छर पर कविता


 

सर्दी की धूप में, गर्मी की छाँव में
शहर की भीड़ में, शांत सुखद गाँव में
कूड़े के ढेर में, पानी के गंदे संग्रह में
मैं मच्छर मिल जाता हूँ हर राह में
कभी मैं डेंगू फैलाऊँ
या मलेरिया मैं ले आऊँ
चिकनकुनिया हो या हो ज़ीका
बीमारी फ़ैलाने का मेरे पास तरीका
यदि रहना है मुझसे दूर
तो पहले रखो गंदे जल को दूर
घर में हो ओडोमॉस आल आउट का वास
लगा दो खूब सारे नीम के वृक्ष आस-पास
देर रात निकलो जो बाहर तो पहनो पूरे कपड़े
यह सब सावधानी से हम किसी को न जकड़ें

-अनुष्का सूरी

Hindi Poem on Ant – चींटी रानी


ant-1350089_960_720

बहुत प्यारी चींटी रानी
बहुत सियानी चींटी रानी
मीठी चीज़ो की दीवानी
हमेशा अपनी मनमानी
जितनी छोटी उतने गुण
सदा करने की काम करने की धून
एक बात दिल में ठानी
वो चींटी कर दिखानी
बहुत प्यारी चींटी रानी
बहुत सियानी चींटी रानी

Bhut piyari Cheenti rani
Bhut siyani Cheenti rani
Mithi chijo ki diwani
Kre hamesha apni manmani
Jitni choti utne gun
Sada kam krne ki dhun
Ek bat jo dil me thani
Wo Cheenti ko kr dekani
Bhut piyari Cheenti rani
Bhut siyani Cheenti rani

Hindi Poem on Ant – चींटी हूँ मैं 


ant-697329_960_720
हाँ चींटी हूँ मैं 
हूँ तो बहूत छोटी सी
बलशाली भी मैं थोड़ी सी
कान मैं घुस जाऊँ अगर कभी
तो जीना मुशकिल कर दूँ अभी
चीनी का टुकड़ा रख दो यही
ढूंढते हुए मैं आ जाऊँ
चींटी हूँ मैं
हाँ चींटी हूँ मैं
– अनुष्का सूरी

 

Cheenti hu main
Han cheenti hu main
Hu to bahut choti si
Balshali bhi main thodi si
Kan mein ghus jau agar kabhi
To jeena mushkil kar doon abhi 
Cheeni ka tukda rakh do yahin
Dhundte hua main aa jaoon 
Cheenti hu main
Han cheenti hu main
– Anushka Suri