Advertisements

Hindi Poems on Motivation – कुछ बात हो अपनी

Tags

, , , , ,

नई दिशा बहार हो अपनी
कुछ सोचे, कुछ बात हो अपनी
हो समय कुछ भी
अच्छा या बुरा
पर नई शुरुआत हो अपनी
भूत परछाइ से सीखे, हम
आगे न दोहराना होगा
हो ग़लती कुछ भी
अब ना भटकना होगा
सपने हो अछे अछे
कल्पनाओं के रंग हो सच्चे
कोशिश भी हो पक्की पक्की
एक नहीं सो हो सच्ची
फ़लक तो देखो अपना होगा
मन में पहले गड़ना होगा
स्वप्न रंग जिस दिशा में बहते
उस दिशा तो बड़ना होगा
हो परिवर्तन”अभी की अभी”
नहीं तो सुनते खूब सभी
क्या हो तुम “कुछ नहीं”
थे जो पहले हो अभी,
पर देख सोच बदलनी होगी
नई दिशा अब, चुननी होगी

चलो सोचे इक बार जरा “हम”
नई दिशा बहार हो अपनी
कुछ सोचे कुछ बात हो अपनी

-मनोज कुमार बदलानी

Advertisements

Hindi Poem on Objects-हाँ हूँ मैं

Tags

, , ,

हाँ हूँ मैं
नया अभी
कवि नहीं
कवि कभी
जो चाहे कह लो,
जो सोचो
वही सही
हा पर मैं
हूँ कही
था सही
हूँ सही
मन की बात
कहुँ कभी
पर माने मेरी
कोन सही
पागल हूँ मैं
यही सही
क्यो भाई
“हाँ सही”
समाज अभी
क्या कहे
पल में बदले
देखो सभी
जाने कहाँ
मुझे अभी,
अभी कुछ भी
ना सही,
हा कहे
सो कहे
बेकार मुझे
ना कहे
अभी शुरू
हूँ ही,
क्या कहूँ
क्या कहूँ
नया रूप
देख मेरा
मुझसे पूछे
सब अभी
ना कहूँ
क्या कहूँ
“अभी बस शुरूआत सही”
अभी नहीं
अभी नहीं,
हाँ कुछ हूँ
पर अभी नही
याद करेगे
कभी कभी,
इक पागल था
यही कही
हाँ हूँ. मैं
नया अभी
कवि नहीं
कवि कभी
– मनोज कुमार बदलानी

Hindi Poem on Delhi Smog-Kohre Ka Kahar

delhi-smog
आज दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार में है हाहाकार
हाँ भैया हुआ है वायु प्रदुषण का यह तेज़ प्रहार
चारों तरफ छाया है घने कोहरे का कहर
हवा में मिला है कार्बन तत्त्व का ज़हर
बच्चों के विद्यालय कर दिए बंद
पर ऑफिस कैसे हो जाना बंद?
मुँह पर लगा के सब मास्क
दिल्ली वाले करने चले टास्क
रहेगी प्रदुषण एवं हर समस्या बरक़रार
जब तक नहीं होगा शिक्षित हर परिवार
शिक्षा, स्वास्थ्य को बनाओ प्राथमिकता
फिर देखो न होगी कोई समस्या
-अनुष्का सूरी

Hindi Poem on Elections – Main Vote Hu

Tags

, , ,

छोटे से कागज़ में लिप्त हूँ
या मशीन में चिन्ह हूँ
प्रजातंत्र का नोट हूँ
मैं वही वोट हूँ
जब भी हैं चुनाव आते
मेरे लिए हैं सब दौड़ लगाते
कभी कोई पार्टी कभी कोई नेता
मेरे बहुमत बिना न कोई कुछ बनता
सियासत की कुर्सी का मैं ही रखवाला
हाँ मैं ही हूँ सरकार बनाने वाला
-अनुष्का सूरी

How to read:

Chote se kagaz mein lipt hu

Ya machine mein chinha hu

Prajatantra ka note hu 

Main wahi vote hu

Jab bhi hain chunav aate

Mere liye hain sab daud lagate

Kabhi koi party kabhi koi neta

Mere bahumat bina na koi kuch banta 

Siyasat ki kursi ka main hu rakhwala

Haan, main hi hu sarkaar banane wala 

-Anushka Suri

English Translation:

I am in the form of a piece of paper

Or a symbol in an electronic machine

I am the currency of democracy

Yes, I am the same vote

Whenever the elections are about to take place

Every politician is after me

No political party or politician

Can resume power without my majority

I am the one who can safeguard a political party in power

I bring parties to governance

 

 

 

Hindi Poem on Rape of 100 year old woman in India- १०० वर्ष की बुढ़िया संग बलात्कार हुआ

Tags

,

१०० वर्ष की बुढ़िया संग बलात्कार हुआ 

पढ़कर ये खबर देश शर्मसार हुआ 

उज्जवल भारत के सपने देखे थे जिन आँखों ने 

देख कर ये भविष्य ह्रदय में पीड़ा, मन में भय आपार हुआ 

१०० वर्ष की बुढ़िया संग बलात्कार हुआ 

पढ़कर ये खबर देश शर्मसार हुआ 

जिन हाथों को देता कोई सहारा 

जिस माँ को था हर बच्चा प्यारा 

उसी बूढ़े जिस्म पर अत्याचार हुआ 

१०० वर्ष की बुढ़िया संग बलात्कार हुआ 

पढ़कर ये खबर देश शर्मसार हुआ 

पढ़ना लिखना भारतीय होना सब बेकार हुआ  

जिस क्षण भारतीय प्रान्त में ऐसा दुराचार हुआ 

१०० वर्ष की बुढ़िया संग बलात्कार हुआ 

पढ़कर ये खबर देश शर्मसार हुआ 

-अनुष्का सूरी 

This poem has been written after reading the painful news of a 100 year old woman raped by a drunk youth in Uttar Pradesh. It is unfortunate that Indian value system is no more given importance by youth. The disastrous impact of alcohol on human intellect is clearly demonstrated via this incident. It is also a sorry state of affairs for law, ethics and morality in India. I feel ashamed to read such a news story in India. 

Here is an English translation:

A 100 year old woman was raped 

The entire country (India) is ashamed after reading this news 

The eyes which had dreamt about a bright and developed India 

Seeing this future, the heart is full of pain and the mind is fearful 

A 100 year old woman was raped 

The entire country (India) is ashamed after reading this news 

The hands which could have been comforted by the young 

A mother for whom every child was dear 

Her old, weak body was mishandled 

A 100 year old woman was raped 

The entire country (India) is ashamed after reading this news 

It is futile to be educated or be called an Indian as I read this news today 

The moment such a heinous crime was committed in a sector of the land of spirituality- India 

A 100 year old woman was raped 

The entire country (India) is ashamed after reading this news 

-Anushka Suri