Advertisements

Hindi Poem on Success-वो आज कामयाब है

Tags

, , , , , , , , , , ,


वो आज कामयाब है, क्योंकि
जब वो जग रहे थे रातो में ,
तब हम सो रहे थे ख्वाबो में।
जब वो पढ़ रहे थे किताबो को ,
तब हम पढ़ रहे थे व्हाट्सप्प को।
जब वो कर रहे थे कोशिश
अपनों का सपना पूरा करने की,
तब हम कर रहे थे कोशिश गैरो का
सपना पूरा करने की ।
जब वो नजरबन्द थे एक कमरे में ,
तब हम दिख रहे थे सिटी मॉल,
सिनेमा हालो में । जब वो उलझे थे
किताबो से , तब हम उलझे थे
राजनीतिक मुद्दों से ।
जब वो उलझे थे देश-विदेश की खबरों में ,
तब हम उलझे थे गांव देश की फ़ोन कालो में ।
वो आज कामयाब है.

-राहुल पटेल

Wo aaj kamyaab hai kyuki
Jab wo jaag rahe they raaton mein
Tab hum so rhe they khwabon me
Jab wo padh rhe they kitabon ko
Tab hum padh rhe they whatsapp ko
Jab wo kar rhe they koshish
Apno ka sapna pura karne ki
Tab hum kar rhe thay koshish garon ka sapna pura kane ki
Jab wo nazar band they ek kamre mein
Tab hum dikh rhe they siti mall cinema haalon mein
Jab wo uljhe they kitaabon se
Tab hum uljhe they rajnatik mudho se
Jab wo desh videsh ki khabron mein
Tab hum uljhe they gaon ki phone callon mein
Wo aaj kamyaab hai

-Rahul Patel

Advertisements

Hindi Poem on Flattery-चापलूसी एक कला है

Tags

, , , , , , , , , , , , ,


चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार ,प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियोंके लिए बला है ।
बॉस के पहले जो ऑफिस पहुंच जाएं,
उनके कार के सामने हाथ जोड़ खड़े हो जाए
मुस्कुराकर बस यही जता जाए
कि हम से अधिक ईमानदार आप कोई न पाए
हर क्षण मुस्कुराकर बॉस के चरणों में जो झुक जाए
बॉस के आस -पास गुड पर मक्खी की तरह मंडराये
बिना कारण बॉस के ऑफिस के चक्कर लगाए
सचमुच चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार ,प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियों के लिए बला है ।
इनका होता है केवल एक ही काम
सुबह- शाम जी हुजूरी और यस मैम
बॉस की प्रशंसा कर उसे लुभाना
औरों के सामने एडे बनकर पेडे खाना इनका न होता
कोई धर्म और ईमान चापलूसी का तो बस एक ही भगवान
उच्चाधिकारियों की जय -जयकार और गुणगान
ये तो होते हैं केवल कुर्सी के गुलाम
जो बैठे हैं कुर्सी पर उसी को ठोकते हैं सलाम
सचमुच चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियोंके लिए बला है l
होती हैं इनकी आँखों में चालाकी
और होठों पर मंद- मंद मुस्कान
दूसरों के मन की बात निकालने में ,
ये होते हैं विद्वान
मीठी बोली और मन में कटुता
यही इनकी पहचान
बॉस के पसंद नापसंद का
लगा लेते हैं ये झट से अनुमान
चापलूसी के बल पर कब तक टिकेगी इनकी ये झूठी शान ?
तलवे चाट कर कब तक बने रहेंगे
ये महान ?
एक ना एक दिन तो होगी प्रतिभा की पहचान
छोड़ो चाटुकारिता और चापलूसी की ये झूठी शान
अब तो कर लो ऊपर वाले का ध्यान
अब तो छोड़ो जी हुजूरी और बढ़ाओ अपना ज्ञान
बनकर बुद्धिजीवी और प्रतिभाशाली पाओ जगत में मान और सम्मान।

-अनुपमा

 

Chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye bala hai .
Boss ke pahale jo office pahunch jaye,
Unake car ke saamane hath jod khade ho jaye
Muskuraakar bas yahi jataia jaye
Ki hum se adhik imanadar aap koi n paye
Har kṣaṇa muskurakar boss ke charaṇaon mein jo jhuk jaye
Bosske aas -paas guḍa par makkhee kee tarah mnḍaaraaye
Binaa kaaraṇa bosske ŏfis ke chakkar lagaye
Sach much chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye balaa hai .
Inakaa hota hai keval ek hi kaam
Subah- shaam jee hazori aur yes mam
Boss ke prashnsa kar use lubhana
Auron ke saamane eḍae banakar peḍae khaanaa
Inakaa n hotaa koi dharm aur imaan
Chapalusi ka to bas ek hi bhagawaan
Uchch aadhikaariyon ki jay -jayakaar aur guṇagaan
Ye to hote hain keval kursee ke gulaam
Jo baiṭhe hain kursi par use ko ṭhokate hain salaam
Sach much chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye bala hai .
Hote hain inake aankhon mein chalake
Aur hoṭhon par mnd- mnd muskaan
Doosaron ke man ki baat nikalane mein ,
Ye hote hain vidvaan
Meeṭhe bole aur man men kaṭuta
Yahi inake pahachaan
Boss ke pasand naapasnd ka
Laga lete hain ye jhaṭ se anumaan
Chapalusi ke bal par kab tak ṭikegi inake ye jhooṭhe shaan ?
Talave chaaṭ kar kab tak bane rahenge
Ye mahan ? Ek na ek din to hoge pratibhaa ke pahachaan
Chhodo chaaṭukaarita aur chapalusi kee ye jhooṭhi shaan
Ab to kar lo upar wale ka dhyaan
Ab to chhodo ji hazori aur baḍhao apanaa gyaan
Banakar buddhijevi aur pratibhashalen pao jagat mein maan aur samaan.

-Anupama

Hindi Poem for Father- मेरी ज़िन्दगी का

Tags

, , , , , , , , , , , , , , , , ,


मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा
थाम कर ऊँगली हमारी आप ने चलना सिखाया
हमारे बचपन को मज़ेदार बनाने के लिए आपने क्या नहीं किया पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
मुझे आज भी अच्छी तरह याद है वो बचपन के दिन जब हम स्कूल जाने के लिए तैयार हुआ करते थे 
तब आप मुँख से राम का गुणगान करके बच्चो को भजन सुना के हमारा दिन अच्छा करते थे 
लोग तो यह कहते की मुझे अपने पापा से यह मिला वो मिला 
पर मैं तो यह कहता हूँ की मुझे तो अपना नाम भी आप से ही मिला है पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
स्कूल से कोई भी शिकायत आने पर आप अध्यापिका जी की शामत लगा देते थे 
होली हार्ट स्कूल के सम्मान में कोई भी वार्षिकोत्सव में मुख्य अतिथि बन के आप ही जाते थे न पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
ज्योति केमिकल से बिज़नेस की शरुवात की 
ज्योति केमिकल से दीपशिला ऑटो भी बनाई आपने 
एक ही दिन में दिल्ली गुजरात घूम के पंजाब वापिस आ जाते थे पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
जो काम कोई नहीं कर सकता वो काम आप कर सकते हो,
अरे ! लोग तो अपनों के काम नहीं आते, पर हमने तो आपको दुश्मन का भी साथ देते हुए देखा हैं 
बड़ बड़े बिज़नेसमैन, एडवोकेट, मिनिस्टर आपसे राय लेने आते है 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो  आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
जब समय थोड़ा ख़राब आया तब आपने हिम्मत न हारी,
हमारे चेहरे पे मुस्कान देखने के लिए आपने दिन रात एक कर दिया 
ज़िन्दगी को कैसे जीना, और संघर्ष करके मुश्किलों से कैसे निपटना  तो आपने ही हमे सीखाया है पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
जब आपको हर तरफ से निराशा हाथ लगी,
तब आपने उस निराशा में भी आशा की किरण देखी 
हमारे पालन पोषण के लिए, आपने अपनी ज़िन्दगी को दाव पे लगा दी,
पैसा तो सब कमाते हैं, पर आप जैसी इज़्ज़त कोई नहीं कमा सकता पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
जब मेरी कॉलेज की पढाई शरू हुई, तब आप पे मेरी फ़ीस की ज़िम्मेदरी और बड़ गयी,
तब आप ने  मेरी पढाई के लिये, आपने अपना पेट काट कर पैसा इकठ्ठा किया,
मेरी पढाई के लिए अपनी सारी जमा – पूँजी तक लगा दी,
आप ने अपनी ज़िन्दगी तक लगा दी हमारे वासते, हम भी वो नहीं बन पाए जो चाहते थे पापा !
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो  आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा  नाम हिस्सा हो आप पापा 
डर सा गया था जब मैं उन अँधेरी गलियों से, तब आपने ही मुझे उन गलियों से निकाला था,
खुद रात को जाग कर मुझे पढ़ाया, जब भी मैंने तन्हा महसूस किया तब आपने ही मुझे सहारा दिया
आज आपका बर्थडे है, मुझे ख़ुशी है इस बात की, पर मैं आपको क्या गिफ्ट दू जो बराबरी करे आपकी,
लोग कहते है की भूषण तुम बहुत अच्छा लिखते हो, पर भूषण को लिखने के काबिल बनाया है आपने पापा
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 

-भूषण धवन

Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Tham kar ungli hamari aapne chalna sikhaya
Hamare bachpan ko majedar banane ke liye aapne kya nahi kiya papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Mujhe aaj bhi yaad ha wo bachpan ke din jab hum school jaane ke liye taiyar hua karte the
Tab aap mukh se raam ka gungaan karke bachho ko bhajan suna ke hamara din accha karte the
Log to kehte hai ki mujhe apne papa se yeh mila wo mila
Par main to ye kehta hu mujhe to apna naam bhi aapse hi mila hai papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
School se koi bhi shikayat aane par aap adhyapica ji ki shamat laga dete the
Holy heart school ke samman me koi bhi varshikutsav main mukhya atithi banke aap hi jaate the na papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jyoti chemical se business ki shuruaat ki
Jyoti chemical se deepshila auto bhi banayi aapne
Ek din me hi Delhi se Gujarat ghum Punjab vapis aa jate the papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jo kaam koi ni kr sakta vo aap kar sakte ho
Are log to apno ko kaam nahi aate par hamne to aapko
Dushman ka sath dete huye bhi dekha hai
Bade bade Businessmen Advocate Ministry aapse rai lene aate hai
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jab samay thoda kharab aaya tab aapne himmat nahi hari
Hamare chehre pe muskaan dekhne ke liye aapne din raat ek kar diya
Zindgi ko kaise jeena aur sangharsh karke mushkilo se
kaise nipatna to aapne hi hamein sikhaya hi sikhaya hai papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jab aapko har taraf se nirasha hath lagi
Tab aapne us nirasha me bhi asha ki kiran dekhi
Hamare palan poshan ke liye aapne apni zindgi ko dav pe laga di
Paisa to sab kamate hai par aap jaise izzat koi nahi kama sakta papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jab meri collage ki padayi shuru huyi tab aap pe meri fees ki jimeedari aur bad gayi
Tab aapne meri padayi ke liye apana pet katkar paisa ikattha kiya
Meri padayi ke liye aapne apni sari jama – punji tak laga di
Aap ne apni zindgi tak lga di hamare vaste hum wo bhi nahi ban paye jo aap chahte the papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Dar sa gaya tha jab main un andheri galiyon se, tab aapne hi mujhe un galiyon se nikala tha
Khud raat ko jagkar mujhe padaya jab bhi maine tanha mehsus kiya tab aapne hi mujhe sahara diya
Aaj aapka birthday hai mujhe khushi hai is baat ki par main aapko kya gift du jo barabari kare aapki
Log kehte hai Bhushan tum bahut achha likhte ho, Par Bhushan likhne ke kabil aapne banya papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa

-Bhushn Dhawan

Hindi Poem on Book – मैं एक किताब हूँ

Tags

, , , , , , , , , , , , , , , , , ,


तो अम्बर सी ऊंचाई भी है,
एक ख्वाबों की दुनिया है
तो अत्यधिक सच्चाई भी है
इतिहास समेटू चंद पन्नों पर
तो आज का आइना भी दिखलाऊँ मैं,
रहती हूँ खामोश तो अक्सर
मगर भविष्य भी बन जाऊँ मैं
हर विकास की जड़ भी मैं
तो समस्त शिक्षित की नींव हूँ,
किसी के लिए समस्या बनूँ
तो किसी के लिए समाधान भी हूँ
व्यक्त न हो पाएं जज़्बात जो
उनके लिए वक्ता भी हूँ,
हर पीड़ा की दवा हूँ
तो हर धनवान का स्त्रोत भी हूँ
परम मित्र भी बन जाऊँ मैं
सर्वश्रेष्ठ सलाहकार हूँ,
अकेलेपन की साथी भी हूँ
हाँ, ऐसी मैं एक किताब हूँ 

-आकांक्षा भटनागर

To ambar si unchai bhi hai,
Ek khwaabon ki duniya hai
To atyadhik sacchai bhi hai.
Itihaas sametu chand panno par
To aaj ka aaina bhi dikhlau main,
Rehta hun khamosh to aksar
Magar bhavishya bhi ban jau main.
Har vikas ki jad bhi main
To samast sikshit ki neev hun,
Kisi ke liye samasya banu
To kisi ke liye samadhan bhi hun .
Vyakt na hopaye jazbaat jo
Unke liye vaktaa bhi hun,
Har peed ki dava hun
To har dhanban ka strot bhi hun.
Param Mitra bhi banjau main
Sarvshresth salahkar hun,
Akelepan ki sathi bhi hun
Haan , aise main ek kitab hun.

-Akanksha Bhatnagar

Hindi Poem on Sports – कबड्डी पर कविता

Tags

, , , , , , , , , , , ,


ऐ कबड्डी तू जान है
मेरी तुझसे तो पहचान है
मेरी कबड्डी तुझे सम्मान ना
मिला क्रिकेट जितना पहचान ना
मिला तू ख्वाबों की वो रानी है
अपने देश की कहानी है
तू सभ्यताओं की मेल है
तू सांस्कृतिक वो इस खेल है
ए इस खेल के खिलाड़ी के खिलेगा
तेरा चेहरा भी तुझे भी सम्मान मिलेगा
क्रिकेट जितना पहचान मिलेगा
कबड्डी हमारी शान है
कबड्डी हमारी जान है
यह खेल नहीं है बच्चों का इसमें
दम निकल जाता है अच्छे अच्छों का,

-चंदन कुमार पटेल

Ae Kabaddi tu jaan hai
Meri tujhi se to pehchan hai
Meri kabaddi tujhe samman na
Mila cricket jitna pehchan na
Mila tu khwabon ki wo rani hai
Apne desh ki kahani hai
Tu sabhyataon ki mail hai
Tu sanskritik wo is khel hai
Ae ish khel ke khiladi khilega
Tera chehra bhi tujhe bhi samman milega
Cricket jitna pehchaan milega
Kabaddi hamari shaan hai
Kabaddi hamari jaan hai
Yeh khel nahi hai bacchon ka isme
Dam nikal jata hai achche achchon ka.

-Chandan Kumar Patel