Advertisements

Hindi Poem on Success – बदलेगी ये दुनिया

Tags

, ,

बदलेगी ये दुनिया
सोच तो बदल के देखो
ये लक्ष्य होंगे पूरे
मेहनत तो कर के देखो
गरीबी में जिओं
मगर ख़्वाब अमीरो का देखों
सारे खवाब होंगे पूरे
पहले सपने तो देखों
ज़िंदगी सुधर जायेगी
इंसान तो बन कर देखो
जीना मरना सबको है
ज़रा बन कर देखो
झूठ तो बहोत बोले होंगे
कभी सच तो बोल कर देखो
सफल ज़रूर होंगे एक दिन
एक कदम तो बढ़कर देखो

Badlegi ye duniya
Soch to badal ke dekho
Ye lakshay honge pure
Mehnat to karke dekho
Garibi me jio
Magar khawab amiro ka dekho
Sare khawab honge pure
Pahle sapne to dekho
Jindagi sudhar jayegi
Insan to bankar dekho
Jina-Marna to sabko hai
Jara Mahan bankar dekho
Jhuth to bahut bole hoge
Kabhi sach to bolkar dekho
Saphal jarur hoge ek din
Ek kadam to badhakar dekho.

Advertisements

Hindi Poem on Soldier-हे वीर जवानों!

Tags

, ,

sd

हे वीर जवानों! तुम सब कुछ हो,
फ़िर इस जग में और क्या है?
तुम से ही तो देश का अस्तित्त्व रहा,
तुम बिन इस जग में क्या नया है?
जियो चराचर तुम भारत के वीरों,
हम सब जन की उमर लग जाये।
शत-शत नमन करे हम सब तो,
प्यारे वीर जवान अमर हो जाये।
-सर्वेश कुमार मारुत

Hei veer jawano tum sab kuch ho
Fir es jag main aur kya hain
Tum se hi to desh ka aastitab rha
Tum bin es jag me kya nya hai
Jyo chrachar tum bharat k veero
Hum sab jan ki umar lag jaye
Shat shat naman kre hum sab to
Pyare veer jwan amar ho jaye
-Servesh Kumar Marut

Hindi poem on India – हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर

Tags

, , ,

bharat-mataImage source: prernabharti.com

हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर,
लेकर यह अभियान चले।
अपनी जान हथेली पर हम,
तुझ पर होने बलिदान चले।
हम घट-घट के वासी हैं,
जो भी नज़र उठा चले।
हम वीर नहीं-हम वीर नहीं,
इसकी रक्षा करने मिलकर साथ चले।
रोम-रोम बस रोम-रोम,
बस यही हमें याद दिलाता है।
हम रह पाये या न रहें,
यह लेकर मन में प्रतिघात चले।
हमें प्रेम है प्यार बहुत है,
बलिहारी इस पर हम होने चले।
घात-घात है बात-बात है,
घात-बात पर अपना सिर चढ़ा चले।
यह देश नहीं-यह देश नहीं,
हम कहते इसको भारत माता।
जिसने देखा या घात किया,
उसको करने हम ख़ाक चले।
मित्र के साथ मित्रवत् बनें,
हन्त के साथ अरिहन्त बन चले।
देश का जवां बच्चा इस पर,
क्यों न न्यौछावर होना चाहे?
इसे देख सब अचरज में पड़े,
तथा हाथ मलते चले-मलते चले।
इसे देख ऐसा लगता सबको,
हम लोग नहीं सब हैं भारतवासी।
आओ नमन करें सब मिलकर,
जो रक्षा करते चलते चले-चलते चले।
हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर,
लेकर यह अभियान चले।
अपनी जान हथेली पर हम,
तुझ पर होने बलिदान चले।

-रचयिता- सर्वेश कुमार मारुत
Hei matarbhumi teri khatir
Lekar yeh abhiyaan chle
Apni jaan hathali par hum
Tujh par hone balidaan chle
Hum ght ght k basi hai
Jo bhi nazar utha chle
Jum veer nai hum veer nahi
Eski rksha krne mil kar sath chle
Rom rom bs rom rom
Bas yhi hum yaad dilata hai
Hum reh paye ya na rehe
Yeh lekar man me partighat chle
Hme prem hai pyar bhut hai
Balihari es par hum hone chle
Ghaat ghaat hai baat baat hai
Ghaat baat par apna seer chdha chle
Yeh desh nahi yeh desh nahi
Hum khte esko bharat mata
Jisne dekha ya ghaat kiya
Usko krne hum khak chle
Mitar ke sath mitrbat bne
Hant k sath arihant ban chle
Desh ka jwa bcha es par
Kyon na nyochawar hona chahe
Ese dekh sab achraz me pade
Ttha hath malte chle malte chle
Ese dekh esa lagta hai sabko
Hum log nahi sab hai bharat basi
Aao naman kre sab milkar
Jo rkhsha krte chlte chle chalte chle
He matrbhumi teri khatir
Lekar ye abhiyaan chle
Apni jaan hatheli par hum
Tujhpar hone balidaan chle

-Servesh Kumar Marut

Hindi Poem on Makar sakranti

Tags

, , , ,

kites-152760_960_720

आज का दिन है अति पावन
मकर संक्रांति का है दिन
आज उड़ेगी आकाश में पतंग
होंगे लाल पिले सब रंग
गंगा में डुबकी लगाओ
करो शीतल तन और मन
दान करो चीनी चावल धान
कमाओ पुण्या बनाओ परमार्थ
जोड़ो हाथ ईशवर से वर माँगो
सब जन जीवन का हो कल्याण

-अनुष्का सूरी

Aaj ka din hai ati pavan
Makar sakranti ka hai din
Aj udegi akash mein patang
Honge laal peele sab rang
Ganga mein dubki lagao
Karo sheetal tan aur man
Daan karo cheeni chawal dhan
Kamao punya banao parmarth
Jodo hath ishwar se war mango
Sab jan jeevan ka ho kalyan

-Anushka Suri

 

Hindi Poem on Flower – हे फूल

Tags

, , , ,

orange-201761_960_720

मिट्टी से जनमा हे फूल तू कहाँ जा रहा है
हे मित्र ,मै पृभु के चरणो मे सजने जा रहा हूँ
कभी मै किसी सुन्दरी के गजरे मे सजने जा रहा हूँ
तो कभी मै किसी नेता आ सत्कार करने जा रहा हूँ
तो कभी मृत्युशैया मे षृद़ान्जली बनने जा रहा हूँ
मेरा जीवन तो यही है मित्र
मिट्टी  से जनमा हूँ और मिट्टी मे ही मिलने जा रहा हूँ।

-आरती रस्तोगी 

Mitti se janma hei phool tu khan ja rha hai
Hei miter main parbhu k chrno me sajne ja rha hoon
Kabhi main kisi sundri ke gazrei mein sajne ja rha hoon
To kabhi main kisi neta aa satkaar krne ja rha hoon
To kabhi mirtyushya mein prsadnjali banne ja rha hoon
Mera jivan t yhi hai mitar
Mitti se jnma hoon aur mitti mein hi milne ja rha hoon

-Aarti Rastogi