Advertisements

Hindi Poem on Journalist Arnab Goswami-पत्रकार अर्नब गोस्वामी पर कविता

Tags

, , , ,

Arnab Goswami

नाम है मिस्टर अर्नब गोस्वामी
सबको ये याद दिला दें नानी
पहले थे ये टाइम्स नाउ पर
अब दीखते रिपब्लिक टीवी पर
शोर मचा मचा कर इन्होंने
सही को जनता तक पहुँचाया
केवल रिपोर्ट नहीं करते यह
पढ़ जाते हैं खबर के पीछे
चाहे इनको कोई डराए
या इनको कितना धमकाए
ये बने हैं सख्त लोहे के
ये नहीं हटते काम से पीछे
अंग्रेजी इनकी माशा अल्लाह
हिंदी भी थोड़ी बोल लेते हैं
देश प्रेम है दिल के भीतर
कभी कभी उड़ेल देते हैं
कर्म ही पूजा है बस इनकी
सच की सीख ये भी देते हैं
ऐसे प्रशंसनीय पत्रकार की
हम सब वंदना करते हैं
-अनुष्का सूरी

Context: This Hindi poem is composed in honor of famous television anchor and journalist Arnab Goswami. He currently leads Republic TV, his own venture. He was earlier working with Times Now as the channel’s editor in chief.

I have written this poem as his ardent fan. I appreciate the way with which he handles each debate on television. I wish to thank you Mr. Arnab Goswamo for the commendable job you have been doing. Hats off from a common man 🙂

Advertisements

Hindi Poem on Banana-केला पर कविता

Tags

, , , , ,

banana-fruit

पीला छिलका और काला रंग
अंदर से गोरा और नरम ढंग
कैल्शियम विटामिन से हूँ खूब भरा
मुझे खाओ पका या फिर हरा
नवजात को कूट कर खिला दो
बुज़ुर्ग को मुझे बिना दांत खिला दो
मेरे तुम चाहे चिप्स बना लो
या फिर मुझे तुम ऐसे ही खा लो
मेरे पत्ते पर आराम से परोस लो खाना
मेरा नाम हिंदी में केला अंग्रेजी में बनाना
कहते हैं मुझको जन्नत का फल
खाओ मुझे तुम रोज़ आज और कल
-अनुष्का सूरी

English Translation:

Yellow cover with black color

I am white and soft from inside

I am rich in calcium and vitamins

You may eat me ripe or unriped

Babies can consume me after meshing

Elderly can easily eat me without teeth

You may make chips out of me

Or you may like to eat me as it is

You can serve food on my leaves

I am called kela in Hindi and a banana in English

I am called the fruit of paradise

You can eat me everyday – today and tomorrow

Hindi Poem on Towel – Tauliya Par Kavita

Tags

, ,

नहाने के समय मैं याद आता
गीले शरीर को हूँ मैं सुखाता
लपेट लो कमर पर धोती जैसे
या फिर सर पर पगड़ी जैसे
खलाड़ियों का बहता पसीना सूखा दूँ
खान पान वस्त्र पर गिरने से बचा लूँ
करता हूँ मैं सब काम बढ़िया
हाँ मैं हूँ आपका आम तौलिया
-अनुष्का सूरी

How to read:

Nahane ke samay main yaad ata

Geele shareer ko hoon main sukhata

Lapet lo kamar par dhoti jaise

Ya phir sir par pagdi jaise

Khiladiyon ka bahta paseena sukha du

Khan pan vastra par girne se bacha loon

Karta hoon main sab kam badhiya

Haan main hoon apka aam tauliya

English Translation:

You think of me when you are about to take bath

I make your wet body dry

You can drape me around your waist

You you may wrap me on your head

I can wipe off sweat of sportsmen

I can also protect your clothes from getting spoiled while eating

I do every work with perfection

Yes, I am your common towel

 

Hindi Poem on Carrot- Gajar Par Kavita

Tags

, , , ,

लाल रंग में पली हूँ
कोन की तरह ढली हूँ
मेरा नाम है गाजर
मुझमें उम्दा फाइबर
मुझको सलाद में कच्चा खाओ
या मटर आलू संग सब्जी बनाओ
विटामिन में मैं हूँ खूब धनि
खाओ मुझे रोज़ भर पेट खूब जनि
-अनुष्का सूरी

How to read:

Lal rang mein pali hoon

Cone ki tarha dhali hoon

Mera naam hai gajar

Mujhmein umda fiber

Mujhko salad mein kacha khao

Ya matar alu sang sabji banao

Vitamin mein main hoon khoob dhani

Khao mujhe roz bhar pet khoob jani

-Anushka Suri

English Translation

I am raised in red color

I have a conical shape

My name is carrot

I am rich in fiber

You can eat me raw in salad

Or cook me with peas and potato as a vegetable

I am quite rich in Vitamins

Eat me a lot everyone

 

 

Hindi Poem on Calendar – Calendar Par Kavita

Tags

, , , , ,

calendar-picture

दीवार की कील पर हूँ टंगा
तारीखों और महोनों में हूँ रंगा
देखलो मुझमें सब त्यौहार
जान लो कब है कौन सा वार
नवरात्री हो या हो दुर्गा पूजा
बता दूँ कब कोई अवकाश होगा
जनवरी से शुरू होता है मेरा कार्यकाल
३१ दिसंबर के बाद मत पूछो मेरा हाल
नए साल में फिर नया कैलेंडर है आता
मैं अपने सिंघासन से खुद उतर जाता
-अनुष्का सूरी

English Translation:

I am hung on a nail planted on a wall

I am colored with dates and months

You can check all festivals using me

You can check which day is what date via me

Whether it is Navratri or Durga Puja

I can tell you when it is a holiday

My work life starts from January onwards

Do not ask my condition after 31 December

In the new year, a new calendar comes up.

As a result I leave my position