Advertisements

Hindi Poem on First Tooth-Pehla Daant Aya Hai

Tags

, , , ,


पहला दांत आया है भैया
बनाओ घर में खीर सेवइया
ये तो बस आरम्भ है बत्तीस की मज़बूत लड़ी का
कबसे इंतज़ार था मात-पिता को शुभ घड़ी का
थोड़ा तो होगा दांत उगने में दर्द
किन्तु हार न मान बच्चे तू है मर्द
अब खाना होगा पौष्टिक आहार
ताकि तेज़ रहे बढ़ने की रफ़्तार

-अनुष्का सूरी

English Translation:

Oh dear, it is my first tooth

Let us celebrate it by cooking rice pudding at home

This is just the start of a strong league of 32 teecth

My parents were anxiously waiting for this auspicious day for long

It might pain a bit while my tooth emerges out

But, I must not quit, and I am brave enough to bear all the pain

Now, I must eat nutritious diet

So that I can grow into a healthy adult

-Anushka Suri

All copyrights reserved. Unauthorized copying and reproduction of this content is strictly prohibited. 

Advertisements

Hindi Poems on Childhood Memories- कभी मिलना उन गलियों में

Tags

, , , , , , , , , , , , ,


कभी मिलना उन गलियों में
जहाँ छुप्पन-छुपाई में हमनें रात जगाई थी
जहाँ गुड्डे-गुड़ियों की शादी में
दोस्तों की बारात बुलाई थी
जहाँ स्कूल खत्म होते ही अपनी हँसी-ठिठोली की
अनगिनत महफिलें सजाई थी
जहाँ पिकनिक मनाने के लिए
अपने ही घर से न जाने कितनी ही चीज़ें चुराई थी
जहाँ हर खुशी हर ग़म में दोस्तों से
गले मिलने के लिए धर्म और जात की दीवारें गिराई थी
कई दफे यूँ ही उदास हुए तो दोस्तों ने
वक़्त बे वक़्त जुगनू पकड़ के जश्न मनाई थी
जब गया कोई दोस्त वो गली छोड़ के तो
याद में आँखों को महीनों रुलाई थी गली अब भी वही है
पर वो वक़्त नहीं, वो दोस्त नहीं हरे घास थे
जहाँ वहाँ बस काई उग आई है।

-सलिल सरोज

Kabhi milna un galiyon me kha
Chupan-chupai me hamne raat jgai thi
Jhan gude-guddiyon ki shadi mein
Doston ki barat bulai thi
Jhan school khtam hote hi apni hasi thitholi ki
Anginat mehfeele sjai thi
Jhan piknik mnanane ke liye
Apne hi ghar se na jane kitni hi chie churai thi
Jhan har khushi har gum mein doston se
Gale milne ke liye dharm aur jaat ki diware girai thi
Kai dafe yoon hi udas huye to doston ne
Waqt ve waqt jugnu pakad ke jashan mnai thi
Jab gya ki dost wo gali chod ke to
yaad mein aankhon ko mhino rulai thi gali ab abhi wahi hai
Par wo waqt nahi wo dost nahi hare ghas the
Jjhan whan bas koi uag aai hai

-Salil saroj

Hindi Poems on Life – अरमान

Tags

, , , , ,


ये तुम्हारी कल्पना और बुद्धि का अंजाम है,
रास्ते हैं दो मगर वो एक ही पैगाम है ।
जब नहीं तुम जानते थे क्या ज़मीन क्या आसमान,
बंदगी जब थी नहीं क्यूं काफिरी बदनाम है।
आये थे जब वो तो आयी थी तुम्हारी इक किताब,
उससे पहले भी जहां में आदमी श्रीमान है।
उंगलियां अब मत उठाओ वक़्त का बदला मिज़ाज़,
था कभी वो वक़्त जब ज़िंदा चुना दीवार है।
कर दिया उसने कलम सिर बढ़ सकी न उसकी शान,
आज भी वो हम सभी के सीने में आबाद है।
मेरी नज़रों में सभी पैग़म्बरों की इक क़िताब,
मैंने देखी है ये गीता और वो कुरान है।
आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए,
इससे बढ़के बंदगी का न कोई फरमान है।
हम रहे या तुम रहो न कोई शिकवा न गिला,
फ़लसफ़ा इक हो ज़मीरी बस यही अरमान है।

– स्मृति तिवारी

Ye tumhari kalpana aur budhi ka anjaam hai
Raaste hai do magar wo ek hi pegaam hai
Jab nahi tum jante they kya jamin kya aasmaan
Bandgi jab thi nahi kyu kafiri badnaam hai
Aaye they jab woto aai thi tumhari ek kitab
Usse phale bhi aadmi jha me shrimaan hai
Ungliyaan ab mat uthao waqt ka badla mizaz hai
Tha kabhi wo waqt jab jinda chuna diwar hai
Kar diya usne kal seer badh saki na uski shaan
Aaj bhi wo hum sabhi ke sine me aabad hai
Meri nazron me sabhi pegambron ki ek kitab
Maine dekhi hai ye geeta aur ye kuran hai
Aadmi ko aadmi se pyar hona chahiye
Esse badke bandgi ka na koi farmaan hai
Hum rhe ya tum rho na koi shikwa na geela
Falsffa ek ho jamiri bs yhi armaan hai.

-Smriti Tiwari

Hindi poem on Butterfly – प्यारी तितली

Tags

, , , , , ,


सुंदर पंखों वाली तितली,
रंग रंगीली प्यारी तितली।
पंखों को तू है फड़काती,
फूल-फूल पर है मड़राती।
फूलों को तू बहुत चाहती,
फूल बिना प्यासी रह जाती।
फूलों से तू रस है भरती,
और ना जाने क्या-क्या करती?
कठिन परिश्रम तू है करती,
मानव से तू बहुत है डरती।

– सर्वेश कुमार मारुत

Sunder pankhon wali titli
Rang rangili pyari titli
Pankhon ko tu fadkati
Phul phul par hai mandrati
Phulon ko tu bhut chahti
Phul bina pyasi reh jati
Phulon se tu ras hai bharti
Aur na jane kya kya karti
Kathhin parishrm tu hai karti
Maanav se tu bhot hai darti

-Servesh Kumar Marut

Hindi Poem on Mother – माँ की गोद

Tags

, , , , ,


माँ की गोद में खेलता बचपन,
पापा के साथ हँसता बचपन |
सीढियों पे दौड़ता बचपन,
झूलों पे झूलता बचपन |
मिट्टी में लुडकता बचपन,
बाइक पे सवारी करता बचपन |
याद आता है मुझे मेरा बचपन,
सोचती हूँ क्यों होता है ये बचपन |
सोचते थे की बड़े हो जाये, तो
सब पर अपना हुकुम चलाये |
पर अब सोचते है फिर से छोटे हो जाये,
तो अनजाने में ही सब पर हुकुम चलाये |
माँ की गोद में खेलता बचपन,
पापा के साथ हँसता बचपन |

-जाह्नवी इस्तवाल

Maa ki god mein khelta bachpan
Papa ke sath hasta bachpan
Siddiyon pe dodta bachpan
Jhulon pe jhulta bachpan
Mitti me ludakata bachapn
Bike pe swari karta bachapn
Yaad aata hai muje mera bachapn
Sochti hu kyu hota hai ye bachapn
Sochte they ki bade ho jayege to
Sab par apna hukum chalaye
Par ab sochte hai fir se chote ho jaye
To anjane me hi sab par hukum chalaye
Maa ki god mein khelta bachpan
Papa ke sath hasta bachpan

-Jahnavi Istwal