Advertisements

Hindi Poem on Woman – नारी

Tags

, , , , , , , , , , ,


तू ही धरा, तू सर्वथा।
तू बेटी है ,तू ही आस्था।
तू नारी है , मन की व्यथा।
तू परंपरा ,तू ही प्रथा।

तुझसे ही तेरे तपस से ही रहता सदा यहां अमन।
तेरे ही प्रेमाश्रुओं की शक्ति करती वसु को चमन।
तेरे सत्व की कथाओं को ,करते यहाँ सब नमन।
फिर क्यों यहाँ ,रहने देती है सदा मैला तेरा दामन।

तू माँ है,तू देवी, तू ही जगत अवतारी है।
मगर फिर भी क्यों तू वसुधा की दुखियारी है।
तेरे अमृत की बूंद से आते यहां जीवन वरदान हैं।
तेरे अश्रु की बूंद से ही यहाँ सागर में उफान हैं।

तू सीमा है चैतन्य की ,जीवन की सहनशक्ति है।
ना लगे तो राजगद्दी है और लग जाए तो भक्ति है।
तू वंदना,तू साधना, तू शास्त्रों का सार है।
तू चेतना,तू सभ्यता, तू वेदों का आधार है।

तू लहर है सागर की ,तू उड़ती मीठी पवन है।
तू कोष है खुशियों का ,इच्छाओं का शमन है।
तुझसे ही ये ब्रह्मांड है और तुझसे ही सृष्टि है।
तुझसे ही जीवन और तुझसे ही यहाँ वृष्टि है।

उठ खड़ी हो पूर्णशक्ति से।
फिर रोशन कर दे ये जहां।

जा प्राप्त कर ले अपने अधूरे स्वप्न को।
आ सुकाल में बदल दे इस अकाल को।
तू ही तो भंडार समस्त शक्तियों का।
प्राणी देह में भी संचार है तेरे लहू का।

-अर्चना

Tu hi dhara , tu hi sarvtha
Tu beti hai tu hi aastha
Tu nari hai man ki vytha
Tu parmpara, tu hi partha

Tujhse hi tere tapas se hi rehta sada yhan aman
Tere hi premashron ki sakti karti basu ko chaman
Tere satav ki kathaon ko yhan sab naman
Fir kyon yahan rahne deti hai sada meila tera daman

Tu maa hai tu devi,tu hi jagat awtari hai
Magar fir bhi kyon tu vasudha ki dukhiyarihai
Tere amrit ki bund se aate yhan jivan vardaan hai
Tere aashuon ki boond se hi yha sagar mein ufaan hai

Tu seema hai chaitany ki Shehnshakti hai
Na lage to rajgaddi hai aur lag jaye to bhakti hai
Tu vandana, tu sadhna, tu shastron ka saar hai
Tu chetna, tu shabhyata, tu vedon ka aadhar hai

Tu lehar hai sagar ki tu udati mithi pawan hai
Tu kosh hai khushiyon ka ichchaon ka sham hai
Tujhse hi ye brahmand hai aur tujhse hi shrishti hai
Tujhse hi jivan aur tujhse hi yhan vristhi hai

Uth khadi ho puranshkati se
Fir roshan kar de ye jhan

Ja prapt karle apne adhure swapan ko
Aa sukal me badal de es akaal ko
Tu hi to bhandar samast shaktiyoon ka
Prani deh mein bhi sanchaar hai tere lahu ka

-Archana

 

Advertisements

Hindi Poem on Unity – क्या चाहते हो

Tags

, , , , , , ,


सूखे पत्तों को जलाकर क्या बताना चाहते हो
हम में कितनी फूट है क्या यह जताना चाहते हो ..

मीठी तुम्हारी जुबां पे मज़हब और जात पात है
शहद मिलiकर क्या ज़हर पिलाना चाहते हो …

बड़ी खामोश हूँ फिर भी हूँ बहुत बुलंद
में कलम की आवाज़ हूँ मुझ को दबाना चाहते हो …

तुम्हारे हर फरेब को कर दूंगा बेपर्दा …
चढ़ा दो जितने भी नकाब चढ़ाना चाहते हो …

में अखबार हूँ इंक़लाब ला सकता हूँ …
फखत कागज़ नहीं जो छुपाना चाहते हो ….

हर तरह के फूलों से है ये चमन बना …
खोद कर जड़ें क्या गुलिस्तां बसना चाहते हो …

टूटने नहीं दूंगा यह मुल्क मेरा घर है
लगालो ज़ोर जितना लगाना चाहते हो ….

– राजन उज्जैनी 

Sukhe patton ko jala kar kya batana chahte ho
Hum mein kitni fut hai kya jatana chchte ho

Mithi tumhari jubab pe majhab aur jaat paat hai
Shad mila kar kya jahar pilana chhate ho

Badi khamosh hoon par fir bhi hoon buland
Mein kalam ki aawaj hoon mujh ko dabana chahte ho

Tumhare har fhrev ko kar dunga beparda
Chdha do jitne bhi nkab chadana chahte ho

Mein akhbar hoon ekbaal la sakta hoon
Fakhat kagaz nahi jo chupana chahta ho

Har taraf ke phoolon se hai ye chaman bna
Khaud kar jad kya gulistaan basana chahte ho

Tutne nahi dunga yeh mulak mera ghar hai
Lagalo jor jitna lgana chahte ho

-Rajan Ujjaini

Hindi Poem on Vishwakarma – जग का प्रथम अभियंता

Tags

, , , , ,


सागर मंथन के परिणाम से 
चौदह वस्तुओं के संग
एक रत्न भी बाहर आया, 
प्रकाण्ड अभियंता, 
शिल्प कला पारंगत 
ये देव रूप विश्वकर्मा 
भगवान कहलाया। 
कृष्ण की भव्य नगरी द्वारिका को
जिसने अति मनोरम रूप में बनाया रातोंरात, 
पाडवों की भव्य मायासभा का निर्माण कर,
इस विश्व का वो प्रथम अभियंता कहलाया।

-सतीश वर्मा

Sagar manthan ke parinaam se
Chaudah vastuon ke sang
Ek ratna bhi baha aya
Prakaand abhiyanta
Shilp kala parangat
ye dev rupi Vishwakarma
Bahgwaan kahalaya.
Krishan ki bhavy nagari dwarika ko,
Ati manorama rup mein banayaa raatonraat
Pandavon ki bhavya mahasabhaa ka nirman kar
Is vishw ka pratham abhiyanta kahalaya.

-Satish Verma

Hindi Poems on Motivation – नामुमकिन कुछ भी नही

Tags

, , , , , , , , , , , , , , ,


मत सोच ,
तु है कुछ भी नही
बस सोच,
सब कुछ है
सही सही
हो जाए गर असफल ,
होना दुखी नही
समेट अपनी ताकत
रही सही बस
फिर देखना नामुमकिन
कुछ भी नही…

– वंदना सिलोरा 

Mat soch
Tu he kuch bhi nhi
Bas soch
Sab kuch hai
sahi sahi
Ho jaye agar asafal
To hona dukhi nhi 
Sameit apni takat
Rahi sahi  Bas
Phir dekhna namumkin
Kuchh bhi nhi…

-Vandana silora

Hindi Poem on Save Girl Child-बचाऊं कैसे

Tags

, , , , , , , , , , , , , , , , , ,


आंखों के ख्वाब मिटा दूं रात भर जागकर,
पर दिल के ख्वाब मिटाऊं कैसे।
आहट पाते ही जिसकी मातम छा गया,
उसके जीवन की आश लगाऊं कैसे।
बड़ी जहमत से जवां हुआ ये फूल,
दुनियां की नजर इस से हटाऊं कैसे,
दरिंदों की नीयत तो कहीं भी डोल जाती है,
चेहरा नकाब से छुपाऊं कैसे।
खुदा का सौदा कर लिया धर्म के इजारेदारों ने
खिदमत की गुहार उससे लगाऊं कैसे ।
जोश चाहिए जिगर में ये दौर बदलने की खातिर,
बगावत के लिए उन्हें उकसाऊं कैसे।
आवाज उठाने की खातिर दिल बेताब है मेरा,
पर समाज से दामन छुड़ाऊ कैसे।
उसकी जंग का एक लम्हा सब कुछ बदल देगा ,
बेटी के दुश्मनों को ये समझाऊं कैसे।
बेटी ही साथ देने चली बेटी के कातिलों का,
फिर रोज मरती बेटियां बचाऊं कैसे।

Aankhon ke khwab mita doon raat bhar jaagkar
Par dil ke khwab mitau kese
Aahat pate hi jiski maatam chha gaya
Uske jivan ki aash lagaun kese
Badi jahmat se jawa hua ye phool
Duniya ki nazar esse hatau kese
Darindon ki niyat to kahi bhi dol jati hai
Chehra nakab se chupaun kese
Khuda ka sauda kar liya dharm ke ijaredaron ne
Khidmat ki ghuhaar usse lgaun kese
Josh chahiye jigar mein ye dour badlne ke khatir
Bgabat ke liye unhe uksaun kese
Aawaj uthane ke khatir dil betab hai mera
Par samaj se daman chudau kese
Uski jang ka ek lamha sab kuch badal dga
Beti ke dushmano ko ye samjhaun kese
Beti hi sath dene chali beti ke katilon ka
Fir roz marti betiyaan bachaun kese

-Monika