Advertisements

Hindi Poem on Charity-दान

Tags

, , , , , , ,


पवित्र जिसकी कामना
उसका अतुल्य मोल है
अर्पण हुए जो प्रेम से
वह दान भी अनमोल है ।

चित्त हर्ष से दिए दान से
स्वच्छंद हो ये आत्मा
बङभाग उसके हैं
बहुत जिसको मिला परमात्मा ।

इच्छाएं पनपे मन में
दिए दान का जो बखान हो
फिर मिलेगा फल कहाँ
व्यर्थ ही सब काम हो ।

दान वही साकार है
जिसमें अहम का नाश हो
छल-कपट न हो
जहाँ चित्त प्रेम का ही दास हो ।

-मुकेश नेगी

Pavitra jiski kamana
Uska atulya mol hai
Arpan hue jo prem se
Veh daan anmol hai

Chit harsh se diye daan se
Svachhand ho ye aatama
Badbhag uske hai
Bahut jisko mila Parmatama

Icchayein panpein man mein
Diye daan ka jo bakhan ho
Fir milega fal kahan
Vyarth hi sab kaam ho

Daan wahi sakaar hai
Jisme inaham ka nash ho
Chhal kapat na ho
Jahan chit prem ka hi daas ho

-Mukesh Negi

Advertisements

Hindi Poem on Woman Empowerment – नारी हूँ मैं

Tags

, , , , , , , , , ,


नारी हूँ मैं।

ममता की छांव जनम देने वाली जननी हूँ मैं।
दुःख -सुख में हमेशा साथ देने वाली भार्या हूँ मैं।
माँ -बाप की आन बान सान सम्मान हूँ मैं।
हाँ एक बेटी …पापा की प्यारी हूँ मैं।
भाई की ताकत …अच्छी दोस्त हूँ मैं।
करती पुर्ण पुरुष को ऐसी स्त्री हूँ मैं।
नारी हूँ मैं।।

फिर क्यों दुनिया मे नही लायी जाती हूँ मैं?
जन्म कहाँ कोख में मारी जाती हूँ मैं।
नर -नारी तेरी कुदरत फिर क्यों उपेक्षित हूँ मैं।
जवानी की दो सीढ़ियाँ चढ़ी नहीं कि रोकी जाती हूँ मैं।
बेटी, बहन, माँ, बच्ची, बूढ़ी और पत्नी भी हूँ मैं।
फिर क्यों हर स्वरूप में बालात्कारी से कुचली जातीहूँ मैं ?
नारी हूँ मैं।।

सुनो ,नारी हूँ ,अबला नहीं ,दुर्गा स्वरूप हूँ मैं।
रोना -धोना छोड़ो कहो नहीं ,सम्मानित हूँ मैं।
दिखा दो ताकत से अपनी कि अभिमान हूँ मैं।
अब रक्त से भी अबला नहीं सबला हूँ मैं।
कलियुग में भी महिषासुर पर चंडी हूँ मैं।
नारी हूँ मैं!!

-अंजना

Nari hoon main
Mamhta ki chhav janam dene wali janni hoon main
Sukh-dukh mein hamesha sath dene wali baharya main
Maa-baap ki aan baan saan smaan hoon main
Haan ek beti mere papa ki pyari hu main
Bhai ki takkat achi dost hoon main
Karti puran purash ko esi satri hoon main
Nari hoon main

Fir kyon duniya main nahi lai jati hoon main
Janam kha kokh mein mari jati hoon main
Nar-nari teri kudart fir kyon upekshit hoon main
Jawani ki do seedhiyan chadhi nai ki roki jati hoon main
Beti, behen, maa, bachi, budhi aur patni bhi hoon main
Fir kyo har savroop mein balatkari se kuchli jati hoon main
Nari hoon main

Suno nari hoon abla nahi durga savroop hoon main
Rona dhona chodo kaho nahi ki smaan hoon main
Dikha do takat se apne ki abhimaan hoon main
Ab raqa se bhi abla nahi sabla hoon main
Kalyug mein bhi Mahishasur par Chandi hoon main
Nari hoon main

– Anjana

Everything will be lost one day –चले जाएंगे

Tags

, , , , ,


चले जाएंगे अखिर वादे करके चले जाएंगे
अब नहीं लौट के आएँगे। चले जाएंगे…
छोटी सी तकरार कर चले जाएंगे
मेरे ऊपर ‘बईमान’ का दाग लगा। चले जाएंगे…
सांस के साथ सांस लेने वाले चले जाएंगे
‘संदीप’ रोग हिज्र का लगा।
चले जाएंगे… छोड़ सात समुद्र से पार चले जाएंगे
मेरे ‘पर’ काट, जख्मी कर। चले जाएंगे…
मेरे पिछे से वार कर चले जाएंगे ना लोटने का वादा कर। चले जाएंगे…
मेरे पीछे मत आना, यह ‘कह’ चले जाएंगे
चारों तरफ से रास्ते बंद कर। चले जाएंगे…
जान मेरी से जान निकल, चले जाएंगे
शहद सा मिठा मैं, कड़वा कर। चले जाएंगे…
मैं मतलबी हूं, ये समझा, चले जाएंगे
मेरी हड्डियों को पिघला। चले जाएंगे…
मुझे अधजला हुआ छोड़, चले जाएंगे
अपना बना, पराया कर। चले जाएंगे…
सच्चा ‘संत’ कहे – कोई किसी का इंतजार न करे।
चले जाएंगे…चले जाएंगे…!!

-संदीप कुमार नर

Chale jayenge akhir vade karke chale jayenge
Ab nahi laut ke aayege chale jayenge
Choti si takrar kar chale jayenge
Mere upr bemaan ka daag lga chale jayenge
Sans ke sath sans lene waale chale jayenge
‘Sandeep’ raug hijr ka laga chale jayenge
Chod saat smundar se paar chale jayege
Mere ‘par’ kaat, jhkami kar chale jayenge
Mere piche se baar kar chale jayenge
Na lautne ka vada kar chale jayenge
Mere piche mat aana, yeh keh chale jayenge
Charon taraf se raste band kar chale jayenge
Chale jayenge jaan meri se jaan nikal,chale jayenge
Shad sa mitha main, kadwa kar chale jayenge
Main matlabi hoon, ye samjha, chale jayenge
Meri hadiyon ko pighla chale jayenge.
Mujhe adhjala hua chod chale jayenge
Apna bna paraya kar chale jayenge..
Sucha sant kahe- koi kisi ka intzar na kare
Chale jayenge chale jayenge

– Sandeep Kumar Nar

Hindi Poem on Sports – Khel Mein Aage Badho

Tags

, , , ,


sports-day-poem

हॉकी की छड़ी
क्रिकेट का बल्ला
फुटबॉल का जोश
टेनिस का हल्ला
मनपसंद खेल
खेलो खुल्लम-खुल्ला
पढाई भी खूब करो
खेल में तुम आगे बढ़ो
सेहत का भी रखना ध्यान
खाना तुम पौष्टिक पकवान
-अनुष्का सूरी

Hockey ki chhadi 

Cricket ka balla

Football ka josh

Tennis ka halla

Manpasand khel 

Khelo khullam-khulla

Padhai bhi khoob karo

Khel mein tum aage badho

Sehat ka bhi rakhna dhyan

Khana tum paushtik pakvaan

-Anushka Suri

English Translation:

Hockey stick

Cricket bat

The excitement of football

The popularity of tennis

Play your favorite sport

fearlessly

Study well too

And progress in your favorite sport

Take care of your health in the process

Eat a nutritious diet

 

 

Hindi Poem on Poverty-गरीबों को भी इन्सान मान लो

Tags

, , , , ,


ग़रीबी को एक पहचान मान लो,
अमीरों के हंसने का सामान मान लो,
और अगर भर गया हो मन मज़ाक से,
तो यार ग़रीबों को भी इन्सान मान लो,
ख़्वाबों मे उनके एक डर है जो छुपाना है,
बच्चों की फीस, माँ की दवा की कश्मकश का सब फ़साना है,
बावजूद इसके आँखों में जो स्वाभिमान एक पुराना है,
शायद उनके जीने का बस एक यही ठिकाना है,
अगर मुमकिन हो सके तो कभी उनका हाल जान लो,
यार ग़रीबों को भी इन्सान मान लो,
ज़िन्दगी में इनके बहुत रिश्तेदार नहीं,
ग़रीबों के ग़रीब भी यार नहीं,
बाक़ी बचा बस एक ख़ुदा पे ऐतबार था,
पर शायद भगवान को भी इनसे प्यार नहीं,
इन ग़रीबों को ख़ुदा की तरबियत जान लो,
इन गरीबों को भी तो इन्सान मान लो

-अतुल मणि त्रिपाठी

Garibi ko ek pehchaan maan lo
Amiron ke hasne ka saman maan lo
Aur agar bhar gya ho man mjak se
To yaar garibon ko insaan maan lo
Khwabon mein unke ek dar hai jo chupana hai
Bachon ki fees, maa ki dawa ki kashmkash ka sab fasana hai
Babjud eske aankhon mein jo swabhimaan ek purana hai
Sayad unke jine ka bas ek yahi thikana hai
Agar mumkin ho sake to kabhi unka haal jaan lo
Yaar garibon ko bhi insaan maan lo
Zinadagi mein enke bhut ristedaar nahi
Garibon ke garib bhi yaar nahi
Baki bacha bas ek khuda pe etbaar tha
Par sayd bhagwaan ko bhi ense pyar nahi
In garibon ko khuda ki tabiyat jaan lo
In garibon ko bhi to insaan maan lo

-Atul Manni Tripathi