Advertisements

Patriotic Hindi Poem – Desh Hamara

Tags

, , , , , , , , , , , , ,


सबका प्यारा देश हमारा,
सबसे अलग सबसे न्यारा,
इस माटी के जन्में हम हैं,
यह तिरंगा जान से भी प्यारा,
सबका प्यारा देश हमारा….

हर जगह सर्वश्रेष्ठ रहें हम,
हार न कभी मानना काम हमारा,
धरती माँ के लाडले हम हैं,
यह तिरंगा जान से भी प्यारा,
सबका प्यारा देश हमारा…

शीश झुका कर नमन है आपको,
प्यारी धरती माँ,
आपके लिए हम सब पूर्ण समर्पित,
प्यारी धरती माँ,
सबका प्यारा देश हमारा…

– अनुभव मिश्रा

Sabka pyara desh hamara
Sabse alag sabse nayara
Es matti ke janme hum hain
Yeh tiranga jaan se bhi pyara
Sabka pyara desh hamara

Har jagah sarvshesht rahe hum
Haar na kabhi maanna kam hamara
Dharti maa ke ladle hum hain
Yeh tiranga jaan se bhi pyara
Sabka pyara desh hamara

Shish jhuka kar naman hai aapko
Pyari dharti maa
Aapke liye hum sab puran samrpit
Pyari dharti maa
Sabka pyara desh hamara

-Anubhav Mishra

Advertisements

Hindi poem on India – हिंदुस्तान की बातें

Tags

, , , , , , , , , , ,


ईश्वर अल्लाह भगवान की बातें,
कैसी कैसी हिंदुस्तान की बातें।
गोभी,टमाटर और मटर की कीमत,
करती हैं देखो आसमान की बातें।
कहीं पर जाए भारी न गेहूँ इंसान पर,
करने लगे मंंदिर अजान की बातें।
जब तक धरम का भरम सबपे हावी,
भारी ये रोजा भगवान की बातें।
तब तक कोई पंडित जा पहनेगा टोपी,
करने लगेगा मुसलमान की बातें।
बगुला भगत यूँ हीं नोचेंगे देश को,
करते हुए सब ईमान की बातें।

-अजय अमिताभ सुमन

Ishwar, Allah, Bhagwan ki baatein,
Kasi kasi hindustaan ki baatein
Gobhi tamatar aur matar ki kimmat,
Karti hai dekho aasmaan ki baatein
Kahi par jaye bhari na genhu insaan par
Karne lage mandir anjaan ki baatein
Jab tak dharam ka bhram sabpe havy
Bhari ye roza Bhgwaan ki baatein
Tab tak koi pandit ja pahnega topi
Karne lagega muslim ki baatein
Bugla bhagat yuhi nochege desh ko
Karte hue sab imaan ki baatein

-Ajay Amitabh Suman

Hindi Poem On Confidence – मैं बातें बनाता नहीं

Tags

, , , , , , , , , , , ,


फिसल जाती जुबान, निकल जाते लफ्ज़।
ह्रदय के किसी छोर से।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

मिट्टी से सृजित काया इसी में मिल जाएगी।
तो अहं कैसा,किस बात का।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

ना बड़ा,ना श्रेष्ठ, अभी तो अबोध हूँ।
बालक हूँ,ह्रदय भी बालक तुच्छ-सा,र्निविकार।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

सिध्दांत से अनभिज्ञ हूँ.
अन्तःमन की हर व्यथा व्यक्त कर देता हूँ।
शब्द जरुर कम होँगे, मगर भाव नहीं।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

जीवन ने इम्तिहान लिया,
बदले में अनुभव दिया।
उसी अनुभव के सहारे, चल पडा हूँ।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

-हितेश कुमार गर्ग

Fisal jati hai zubaan, nikal jati hai lafz
Hriday ke kisi chhor se
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

Mitti se sarjit kaya esi mein mil jayegi
To ahan kesa kis baat ka
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

Na bada, na shreshth, abhi to abodh hoon
Balak hoon hriday bhi balak tuchh-sa nirvikaar
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

Sidhant se anbhigy hoon
Anat:man ki har vyatha vyakat kar deta hoon
Shabad jarur kam honge magar bhav nahi
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

Jivan ne imtihaan liya
Badle me anubhav diya
Usi anubhav ke share chal pda hoon
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

-Hitesh Kumar Garg

Hindi Poem on Value of Poem – कविता

Tags

, , , , , ,


बात-बात में यूँही कभी पूछा किसी ने,
कि क्या होती है कीमत, कविता की ज़िंदगी मे,
अचानक से पूछे इस प्रश्न पर, मैं कुछ उलझा,
कुछ हँसा, कि नर है ये नादान या निरा मूर्ख है।
शायद नहीं जानता कि कविता ही इसका मूल है,
जब से नर ने जन्म लिया जन्म मरण कई बार हुआ,
किन्तु रूप मिला तुझे कविता का, सदैव नया होगा।
खुद कविता बनता जा रहा नर,
पूछता है कीमत कविता की,
कभी खुद पर भी तो गौर कर,
क्या कीमत है तेरी माटी की सत्ता की।
पल पल गुज़र रहा है तू ,
गुज़र जाएगा एक दिन,
पर कविता फिर भी मिलेगी अनवरत,
तब हैसियत तेरी कीमत चुकाने की न होगी।

-मयंक गुप्ता

Baat baat mein yuhi kabhi phucha kisi ne
Ki kya hai hai kimat,kavita ki zindgai mein
Achanak se phuche es parshaan par mein kuch uljha
Kuch hsa ki nar hai ye nadan ya nira murakh hai
Sayad nahi janta ki kavita hi eska mul hai
Jab se nar ne janam liya janam maran kai bar hua
Kintu roop mila tujhe kavita ka,sdeiv nya hoga
Khud kavita bnta ja rha nar
Phuchta hai kimat kavita ki
Kabhi khud par bhi to gaur kar
Kya kimat hai terimatti ki stah ki
Pal pal gujar rha hai tu
Gujar jayega ek din
Par kavita fir bhi milegi anvrat
Tab hasiyat teri kimat chukane ki na hogi

-Mayank Gupta

Hindi Poems on Emotions – मैं मूक नहीं

Tags

, , , , , , , , , , ,


इन विचारोँ की उधेडबुन मे,
ढूँढ कहाँ से लाऊ दो शब्द
परन्तु ये अहं नहीं ।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है मौन समुद्र मेँ,
लहरोँ को उमडते उतरते
परन्तु ये विनाशक नहीं ।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है स्थिर भूधर को
कंपन के आक्रोश से हिलते
परन्तु ये भीषण नहीं।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है तपते लौह को,
अग्नि के आवेग से
परन्तु ये पश्चाताप नहीं।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है उन विचारोँ को,
दबते शब्दोँ के अभाव से
परन्तु मैं मूक नहीं।
परन्तु मैं  मूक नहीं।

-हितेश कुमार गर्ग

En vicharon ki udhedbun mein
Dhund khan se laun do shabd
Parntu ye ahn nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai maun smander mein
Lahron ko umdte utrate
Parntu ye vinashak nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai shithar bhudar ko
Kampan me akrosh se hilte
Parantu ye bhishan nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai tapte lohe ko
Agani ke aaveg se
Parntu ye pschtap nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai un vicharon ko
Dabte shbdo ke abhab se
Parntu main mook nahi
Parntu main mook nahi

-Hitesh Kumar Garag