Advertisements

Hindi Poem on Soldier-हे वीर जवानों!

Tags

, ,

sd

हे वीर जवानों! तुम सब कुछ हो,
फ़िर इस जग में और क्या है?
तुम से ही तो देश का अस्तित्त्व रहा,
तुम बिन इस जग में क्या नया है?
जियो चराचर तुम भारत के वीरों,
हम सब जन की उमर लग जाये।
शत-शत नमन करे हम सब तो,
प्यारे वीर जवान अमर हो जाये।
-सर्वेश कुमार मारुत

Hei veer jawano tum sab kuch ho
Fir es jag main aur kya hain
Tum se hi to desh ka aastitab rha
Tum bin es jag me kya nya hai
Jyo chrachar tum bharat k veero
Hum sab jan ki umar lag jaye
Shat shat naman kre hum sab to
Pyare veer jwan amar ho jaye
-Servesh Kumar Marut

Advertisements

Hindi poem on India – हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर

Tags

, , ,

bharat-mataImage source: prernabharti.com

हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर,
लेकर यह अभियान चले।
अपनी जान हथेली पर हम,
तुझ पर होने बलिदान चले।
हम घट-घट के वासी हैं,
जो भी नज़र उठा चले।
हम वीर नहीं-हम वीर नहीं,
इसकी रक्षा करने मिलकर साथ चले।
रोम-रोम बस रोम-रोम,
बस यही हमें याद दिलाता है।
हम रह पाये या न रहें,
यह लेकर मन में प्रतिघात चले।
हमें प्रेम है प्यार बहुत है,
बलिहारी इस पर हम होने चले।
घात-घात है बात-बात है,
घात-बात पर अपना सिर चढ़ा चले।
यह देश नहीं-यह देश नहीं,
हम कहते इसको भारत माता।
जिसने देखा या घात किया,
उसको करने हम ख़ाक चले।
मित्र के साथ मित्रवत् बनें,
हन्त के साथ अरिहन्त बन चले।
देश का जवां बच्चा इस पर,
क्यों न न्यौछावर होना चाहे?
इसे देख सब अचरज में पड़े,
तथा हाथ मलते चले-मलते चले।
इसे देख ऐसा लगता सबको,
हम लोग नहीं सब हैं भारतवासी।
आओ नमन करें सब मिलकर,
जो रक्षा करते चलते चले-चलते चले।
हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर,
लेकर यह अभियान चले।
अपनी जान हथेली पर हम,
तुझ पर होने बलिदान चले।

-रचयिता- सर्वेश कुमार मारुत
Hei matarbhumi teri khatir
Lekar yeh abhiyaan chle
Apni jaan hathali par hum
Tujh par hone balidaan chle
Hum ght ght k basi hai
Jo bhi nazar utha chle
Jum veer nai hum veer nahi
Eski rksha krne mil kar sath chle
Rom rom bs rom rom
Bas yhi hum yaad dilata hai
Hum reh paye ya na rehe
Yeh lekar man me partighat chle
Hme prem hai pyar bhut hai
Balihari es par hum hone chle
Ghaat ghaat hai baat baat hai
Ghaat baat par apna seer chdha chle
Yeh desh nahi yeh desh nahi
Hum khte esko bharat mata
Jisne dekha ya ghaat kiya
Usko krne hum khak chle
Mitar ke sath mitrbat bne
Hant k sath arihant ban chle
Desh ka jwa bcha es par
Kyon na nyochawar hona chahe
Ese dekh sab achraz me pade
Ttha hath malte chle malte chle
Ese dekh esa lagta hai sabko
Hum log nahi sab hai bharat basi
Aao naman kre sab milkar
Jo rkhsha krte chlte chle chalte chle
He matrbhumi teri khatir
Lekar ye abhiyaan chle
Apni jaan hatheli par hum
Tujhpar hone balidaan chle

-Servesh Kumar Marut

Hindi Poem on Makar sakranti

Tags

, , , ,

kites-152760_960_720

आज का दिन है अति पावन
मकर संक्रांति का है दिन
आज उड़ेगी आकाश में पतंग
होंगे लाल पिले सब रंग
गंगा में डुबकी लगाओ
करो शीतल तन और मन
दान करो चीनी चावल धान
कमाओ पुण्या बनाओ परमार्थ
जोड़ो हाथ ईशवर से वर माँगो
सब जन जीवन का हो कल्याण

-अनुष्का सूरी

Aaj ka din hai ati pavan
Makar sakranti ka hai din
Aj udegi akash mein patang
Honge laal peele sab rang
Ganga mein dubki lagao
Karo sheetal tan aur man
Daan karo cheeni chawal dhan
Kamao punya banao parmarth
Jodo hath ishwar se war mango
Sab jan jeevan ka ho kalyan

-Anushka Suri

 

Hindi Poem on Flower – हे फूल

Tags

, , , ,

orange-201761_960_720

मिट्टी से जनमा हे फूल तू कहाँ जा रहा है
हे मित्र ,मै पृभु के चरणो मे सजने जा रहा हूँ
कभी मै किसी सुन्दरी के गजरे मे सजने जा रहा हूँ
तो कभी मै किसी नेता आ सत्कार करने जा रहा हूँ
तो कभी मृत्युशैया मे षृद़ान्जली बनने जा रहा हूँ
मेरा जीवन तो यही है मित्र
मिट्टी  से जनमा हूँ और मिट्टी मे ही मिलने जा रहा हूँ।

-आरती रस्तोगी 

Mitti se janma hei phool tu khan ja rha hai
Hei miter main parbhu k chrno me sajne ja rha hoon
Kabhi main kisi sundri ke gazrei mein sajne ja rha hoon
To kabhi main kisi neta aa satkaar krne ja rha hoon
To kabhi mirtyushya mein prsadnjali banne ja rha hoon
Mera jivan t yhi hai mitar
Mitti se jnma hoon aur mitti mein hi milne ja rha hoon

-Aarti Rastogi

Tale of a Dying Woman – Deergh Path

Tags

, , , , ,

woods-1524606_960_720

दीर्घ पथ पर एक अबला ,अपने क्षण को काट रही थी।
नेत्र बुझे उसके दोनों थे,शायद आँखोँ में प्यास रही थी।
नभ में अवतरित मेघ काले थे,मन मन में कुछ फुसफुसा रही थी।
सफर कटा अब कटता ही चला,मृत्यु भी तो समीप ना आ रही थी।
शायद दोपहर का पहर था वह,धूप नहीं वर्षा आ रही थी।
तीव्र गति से मेघों के झुण्ड,झटपट झटपट वर्षा रही थी।
वह तो पहले ही मर रही थी,वर्षा उसकी पीड़ा और बढ़ा रही थी।
तन अधीर पट विक्षीण थे,किसी तरह बिछौने से लिपटा रही थी।
दीर्घ राह से निकले सब थे,लोगों ने देखा पर ना पुकार रही थी।
वर्षा वर्षा वर्षा घनघोर घटा से,आँखों में प्यास पर ना प्यास रही थी।
मौत के रास्ते हुए कई हैं,शायद वही पथ तलाश रही थी।
मौत बन रही सौत उसे थी,जो उसे अति प्रताड़ित कर रही थी।
मन्नते माँगी उसने कितनीं,मृत्यु उसके पास आने से शर्मा रही थी।
शरीर जीर्ण पद घायल थे,श्वासों से शीत वायु बहा रही थी।
एक आध ही दृष्टि पड़ी थी,लगता था जैसे वह मर रही थी।
लगता था मुझको कुछ ऐसा,मृत्यु भी जनों की भाँति घृणा कर रही थी।
जीवित रखता है वह सबको ,वह मरती मरती जी रही थी।
सब की होती ख़्वाहिशें व्यापक,पर वह व्यापक मृत्यु बुला रही थी।
महसूस करूँ तो ऐसा लगता,मृत्यु तो फ़रमान ही ना सुना रही थी।
पर मृत्यु उसके पास कड़ी थी, वह मृत्यु के समीप मृत्यु उससे दूर जा रही थी।
दीर्घ पथ पर एक अबला , अपने क्षण को काट रही थी।

-सर्वेश कुमार मारुत

 

Deergh path par ek abla , apne kshan ko kaat rhi thi
Neitra buhjhe uske dono the, shayad aankhon mein pyas rahi thi
Nabh mein avtarit megh kaley the man man me kuch fusfusa rhi thi
Safar kata ab kat-ta hi chala, mrityu bhi to samip na aa rahi thi
Shayad dophar ka pahar tha veh, dhoop nahi varsha aa rahi thi
Tivra gati se megho ke jhund, jhat pat jhat pat varsha rahi th
veh to pahle hi mar rahi thi, varsha uski pida aur badha rahi thi
Tan adhir pat viksheen the, kisi tarah bichone se lipta rahi thi
Deergh rah se nikle sab the, logon ne dekha par na pukar rahi thi
Varsha varsha varsha ghanghor ghata se, aankhon mein pyas par na pyas rahi thi
Maut ke raste hue kai hain, shayad wahi path talash rahi thi
Maut ban rahi saut use thi, jo use ati pratadit kar rahi thi
Mannatein mangi usne kitni,mrityu uske paas ane se sharma rahi thi
Sharir jeerna pad ghayal the, shwaso se sheet vayu baha rahi thi
Ek aadh hi drishti padi thi, lagta tha jeaie veh mar rahi thi
Lagta tha mujhko kuch aisa,mrityu bhi jano ki bhanti ghrina kar rahi thi
Jeevit rakhta hai veh sabko, veh marti marti jee rahi thi
Sabki hoti khwahishein vyapak par veh vyapak mirtyu bula rahi thi
Mahsus karu to aisa lagta mrityu to farmaan hi na suna rahi thi
Par mirtyu uske paas khadi thi, veh mrityu ke sameep mrityu usse dur ja rahi thi
Deergh path par ek abla , apne kshan ko kaat rahi thi

-Sarvesh Kumar Marut