Category Archives: Hindi Poem on Objects

Hindi Poem on Mobile-समार्ट फोन


समार्ट फोन

दुनिया के हाथों में कमान देख लो
ऊँगलियों पे नाचता जहान देख लो
आँखों में सुलगते अरमान देख लो
कदमों में उठते तूफ़ान देख लो
भिखरते रिश्तों के परवान देख लो
टूटे दिलों पे निशान देख लो
लुटता अपनों का सम्मान देख लो
सिमटते दायरों की पहचान देख लो
मुठ्ठी में बंद जहान देख लो
बदलती जिन्दगी का इम्तिहान देख लो
दुनिया के हाथों में कमान देख लो
ऊँगलियों पे नाचता जहान देख लो।

-गरीना बिश्नोई

Duniya ke hathon me kaman dekh lo
Ungaliyon me nachat jahaan dekh lo
Aankhon me sulagta arman dekh lo
Kadmo me utthta tufaan dekh lo
Muthi me band jhaan dekh lo
Bikharte rishto ka parwan dekhlo
Tutey dilon ke nishaan dekh lo
Luta apno ka smaan dekh lo
Badalti zindagi ka imtihaan dekh lo
Simattey dayaro ki pehchaan dekh lo

-Greena Bishnoi

Advertisements

Hindi poem on Earth- धरती मां की गोद




हंसी-हंसी से बनी मुस्कान मां कहती
मुझसे धरती भी तेरी मां बनी,
खेल- कूद लपक -झपक तु इस पर ही आएगा
सिंचे इसमें जो खून पसीना वो कहलावे किसान।
हंसी-हंसी से बनी मुस्कान, हंसी-हंसी से बनी मुस्कान।
लोट-पोट हो जाऊं इसमें नींद न आवे तो सो जाऊं इसमें,
प्रकृति कि पूजा भगवान का नाम दूजा
इसका जो करें उच्चार वो कहलावे इंसान।
हंसी-हंसी से बनी मुस्कान, हंसी-हंसी से बनी मुस्कान।

-आशिफ अंसारी

Hansi hansi se bani muskaan maa kahati
Mujhse dharti bhi teri maa bani
Khel-kud lapak-jhpak tu es par hi aayega
Sinchhe esme jo khun pasina wo kahlaave kisaan
Hansi hansi se bani muskaan, hansi hansi se bni muskaan
Hansi hansi se lot-pot ho jaun esme neend na aawe to so jaun esme
Prakarti ki pooja bhgwaan ka naam dooja
Eska jo kare uchchaar wo kahlaave insaan
Hansi hansi se bani muskaan, hansi hansi se bni muskaan

-Asif Ansari

Hindi Poems on Love-अभी तो मिली है बस


चली है हवा इश्क़ की, आंधी-तूफान वाकी हैं, छा गए हैं
बादल दिलों पर, बरसात अभी वाकी है,
मुश्कुरा लिया देखकर उनको युहीं, अभी उनका मुश्कुराना वाकी है,
अभी तो मिली है बस..नज़र से नज़र, जान-पहचान अभी वाकी है।
होने लगी है गुफ्तगू ख्वावों में, तलाश अभी वाकी हैं, दिखने लगा है
चेहरा ख्वावों में उनका, ख्वाव फिर भी वाकी हैं,
आज देखा उन्होंने कातिल निगाहों से, मगर मुश्कुराना अभी वाकी है,
अभी तो मिली है बस..नज़र से नज़र, जान-पहचान अभी वाकी है।
आज नहीं देखा है चेहरा ख्वावों में उनका, आश अभी वाकी है,
गुज़र चूका है दिन तलाश में उनके, शाम अभी वाकी है, गुज़र चूका है
समय अब उनके आने का, इंतज़ार फिर भी वाकी है, अभी तो मिली है
बस..नज़र से नज़र, जान-पहचान अभी वाकी है। हो गई है
मुलाकात फर्श पर गिरी उनकी किताबों से, मगर उनसे अभी वाकी है,
मिल गया है वहाना मुकम्मल दोस्ती करने का उनसे, बस..
उनका मुश्कुराना वाकी है,कह दिया है आज
हंसकर उन्होंने पागल मुझको, बस.. और पागलपन वाकी है,
अभी तो मिली है बस..नज़र से नज़र, जान-पहचान अभी वाकी है।

– अतुल कुमार

Chali hai hwa ishq ki, aandhi-tufan waki hai, chha gye hai
Badal dilon par, barsaatabhi waki hai,
Mushkura lia dekhkar unko yuhin,
Abhi unka mushkurana waki hai,
Abhi to mili hai bss…nazar se nazar, jaan-pehchan abhi waki hai.
Hone lagi hai guftagu khwawon me, talash abhi waki hai, dikhne lga hai
Chehra khwawon me unka, khwaw fir bhi waki hai,
Aaj dekha unhone quatil nigahon se, magar mushkurana abhi waki hai,
Abhi to mili hai bss…nazar se nazar, jaan-pehchan abhi waki hai.
Aaj nahi dekha hai chehra khwawon me unka, aash abhi waki hai,
Guzar chuka hai din talash me unke, sham abhi waki hai, guzar chuka hai
Samay ab unke aane ka, intezar fir bhi waki hai, abhi to mili hai
Bss…nazar se nazar, jaan-pehchan abhi waki hai. Ho gai hai
Mulakat farsh par giri unki kitawon se, magar unse abhi waki hai,
Mil gya hai bahana mukammal dosti karne ka unse, bss..
Unka mushkurana waki hai, keh dia hai aaj
Hunskar unhone pagal mujhko, bss…or pagalpan waki hai,
Abhi to mili hai bss…nazar se nazar, jaan-pehchan abhi waki hai. –

-Atul Kumar

Hindi Poem on Calculator-मैं हूँ कैलकुलेटर


calculator

कोई भी हो हिसाब का जोड़
मैं जवाब दूँ ताबड़ तोड़
चाहे किसी संख्या से कुछ घटवाओ
या किसी अंक में कुछ जुड़वाओ
मेरे बटन दबाते जाओ
और जवाब पाते जाओ
आज कल मोबाइल कंप्यूटर
सबके हूँ मैं अंदर
हाँ भाई हाँ मिस्टर
मैं हूँ कैलकुलेटर
– अनुष्का सूरी

How to read text:

Koi bei ho isba ka jod

Main jawab du tabad tod

Chahe kisi sankhya se kuch ghatwao

Ya kisi ank mein kuch judwao

Mere button debatey jao

Aur jawab paatey jao

Aj kal mobile, computer

Sabke hoon main andar

Haan bhai haan mister

Main soon calculator

-Anushka Suri (Author)

English Translation:

If it is the question of doing any mathematical calculation

I am always ready with an answer upfront

Whether you subtract any number from another

Or add any number to another number

Just keep on pressing my button

You will easily get the answer

These days all mobiles and computers

Have me built in

Yes, you are right Mister

I am a calculator!

Hindi Poem on Bitcoin-बिटकॉइन पर कविता


बिटकॉइन हूँ भाई बिटकॉइन हूँ
मैं तो करेंसी भाई ऑनलाइन हूँ
कहलाता हूँ मैं क्रिप्टोकर्रेंसी
मोटे धन की हूँ मैं एजेंसी
ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पे चलता
सारे विश्व में है मेरी चर्चा
किन्तु ये ध्यान रहे ज़रूर
भारत सरकार को मैं नामंज़ूर
इसी लिए मुझमें जो करें निवेश
लाभ और हानि दोनों रहें विशेष
-अनुष्का सूरी

How to read:

Bitcoin hoon bhai bitcoin hoon

Main to currency bhai online hoon

Kehlata hoon main cryptocurrency

Motey dhan ki main hoon agency 

Blockchain technology pe chalta

Sarey vishwa mein hai meri charcha

Kintu ye dhyan rahe zaroor

Bharat sarkar ko main namanzoor

Isiliye mujhmein jo karein nivesh

Labh aur hani dono rahein vishesh

-Anushka Suri (Author)

English translation (Meaning):

I am bitcoin, yes I am bitcoin

I am an online currency

I am called cryptocurrency

I am the source of substantial wealth gain

I work on blockchain technology

I am popular in the entire world

But please take note of the fact

That I am not recognized by the Indian government (RBI)

Hence, if you choose to invest in me

Be prepared of hefty gains as well as losses