Category Archives: Hindi Poem on Objects

Hindi Poem on Mobile-समार्ट फोन

समार्ट फोन

दुनिया के हाथों में कमान देख लो
ऊँगलियों पे नाचता जहान देख लो
आँखों में सुलगते अरमान देख लो
कदमों में उठते तूफ़ान देख लो
भिखरते रिश्तों के परवान देख लो
टूटे दिलों पे निशान देख लो
लुटता अपनों का सम्मान देख लो
सिमटते दायरों की पहचान देख लो
मुठ्ठी में बंद जहान देख लो
बदलती जिन्दगी का इम्तिहान देख लो
दुनिया के हाथों में कमान देख लो
ऊँगलियों पे नाचता जहान देख लो।

-गरीना बिश्नोई

Duniya ke hathon me kaman dekh lo
Ungaliyon me nachat jahaan dekh lo
Aankhon me sulagta arman dekh lo
Kadmo me utthta tufaan dekh lo
Muthi me band jhaan dekh lo
Bikharte rishto ka parwan dekhlo
Tutey dilon ke nishaan dekh lo
Luta apno ka smaan dekh lo
Badalti zindagi ka imtihaan dekh lo
Simattey dayaro ki pehchaan dekh lo

-Greena Bishnoi

Hindi poem on Earth- धरती मां की गोद



हंसी-हंसी से बनी मुस्कान मां कहती
मुझसे धरती भी तेरी मां बनी,
खेल- कूद लपक -झपक तु इस पर ही आएगा
सिंचे इसमें जो खून पसीना वो कहलावे किसान।
हंसी-हंसी से बनी मुस्कान, हंसी-हंसी से बनी मुस्कान।
लोट-पोट हो जाऊं इसमें नींद न आवे तो सो जाऊं इसमें,
प्रकृति कि पूजा भगवान का नाम दूजा
इसका जो करें उच्चार वो कहलावे इंसान।
हंसी-हंसी से बनी मुस्कान, हंसी-हंसी से बनी मुस्कान।

-आशिफ अंसारी

Hansi hansi se bani muskaan maa kahati
Mujhse dharti bhi teri maa bani
Khel-kud lapak-jhpak tu es par hi aayega
Sinchhe esme jo khun pasina wo kahlaave kisaan
Hansi hansi se bani muskaan, hansi hansi se bni muskaan
Hansi hansi se lot-pot ho jaun esme neend na aawe to so jaun esme
Prakarti ki pooja bhgwaan ka naam dooja
Eska jo kare uchchaar wo kahlaave insaan
Hansi hansi se bani muskaan, hansi hansi se bni muskaan

-Asif Ansari