Hindi Poem on Daughter – मैं बेटी हूँ


baby-1151351_960_720

माँ दुर्गा की शक्ति हूँ
मैं भी पढ़ लिख सकती हूँ
मात पिता की सेवा जानूँ
अपने फ़र्ज़ को मैं पहचानूँ
जब थी इस दुनिया मैं आई
सारे शहर में बँटी मिठाई
मुझको लाड प्यार से पाला
स्कूल भेज सिखाई वर्ण माला
मैं अपने घर की शान हूँ
हाँ मैं बेटी वरदान हूँ

– अनुष्का सूरी

 

Maa durga ki shakti hu
Main bhi padh likh sakti hu
Mat Pita ki sewa janu
Apne farz ko main pehchanu
Jab thi is duniya mein ayi
Sare shahar mein bati mithai
Mujhko lad pyar se pala
School bhej sikhayi varn mala
Main apne ghar ki shaan hu
Haan mein beti vardaan hu

– Anushka Suri

Advertisements

Hindi Poem on Woman Aspirations – मैं क्यों ना चाहूँ


woman

इतनी आबादी में रहना आज़ादी से,
मैं क्यूँ न चाहूँ
पंछियों सी उडक़र बादलों को चूना
मैं क्यूँ न चाहूँ
लड़कों सा मैं भी हर जगह घूमना
तारों से अलग चाँद की तरह चमकना
पर्वतों का आरोहण सपना बने मेरा
विदेशों में जा कर पढ़ना मैं क्यों न चाहूँ
इन सारे सवालों के जबाब मैं क्यों न चाहूँ
जनता है आसमान और ज़मीन
हमें नहीं है कोई कमी
फिर क्यों इतनी आबादी में रहना आजादी से
मैं क्यू न चाहूँ

– अनुष्का सूरी

 

Itni aabadi me rahna aajadi se,
Mai q na chahun.
Panchiyon si udkar badlon ko chuna
Mai q na chahun.
Ladkon sa mai bhi har jagah ghumna,
Taron se alag chand ki tarah chamakana,
Mai q na chahun.
Parwaton ka aarohan sapna bane mera,
Videshon me jakar padhna mai q na chahun.
In sare sawalon ke jawab mai q na chahun.
Janta hai aasman aur jamin
Hamme nahi hai koi kami,
Phir q itni aabadi me rahna aajadi se,
Mai q na chahun.

– Anushka suri

Hindi Poem on – बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ


city-view-1427730_960_720

बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
आज मै कुछ लिखना चाहती हूँ
मन में विचारोंका बाढ़ आया
मैंने अपने मन से कुछ सवाल पूछे
यह सवाल मै आपसे बांटना चाहती हूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
समाजमे बढ़ते भ्रश्टाचार पे लिखूँ
या आतंकवाद के बढ़ते गतिविधियों पे लिखूँ
प्राकृतिक आपदाओं के बारें में लिखूँ
या दिनोंदिन बढ़ते प्रदूषण पे लिखूँ
कश्मीर में भड़की ज्वालाओं पे लिखूँ
सूख रही नदियाँ और तपती धरती माँ पे लिखूँ
इंसान का मंगल पे बनाते घरों पे लिखूँ
या इंसान की जीत और मौत के हार पे लिखूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
शिक्षा में घुलती राजनीति पे लिखूँ
आकाश को छूती महंगाई पे लिखूँ?
सीमा पे लढती जवानों पे लिखूँ?
या युवकों के बेरोजगारी पर लिखूँ?
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
आत्महत्या करनेवाले उन किसानों पे लिखूँ
या बच्चा गोद में लिए भीख मांगती उस भिकारिन पे लिखूँ
वृध्धाश्रम में आखरी सास लेती उस माँ पे लिखूँ
या नन्हे को कूढेमे छोड़कर जाती हुई उस माँ पे लिखूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ?
दिनदहाड़े लड्कियोंपे होते एसिड्वार पे लिखूँ
कामकाजी महिलाओं के समस्याओं पे लिखूँ
चाहतिहूँ कोई प्रेम कहानी लिखूँ
या प्रकृतिकी सुन्दर चित्रकारी पे लिखूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
जिंदगी की गहराई और मौत की सच्चाई पे लिखूँ
ख़त्म होती इंसानियत , आत्मीयता पे लिखूँ
बागोंमे खिलति, खुशबू बिखरती सुन्दर फूलों पे लिखूँ
फूलों पे उडती, रंगबिरंगी तितलियों पे लिखूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ?
दोस्तों मै इस तरह सोचती रही, सोचती रही
अपनेही विचारों में खोयी रही, अपने मन से पूछती रही
माफकरना दोस्तों कोई शब्द न मिले, मै कुछ भी न लिखपाई, कुछभी न लिखपाई

–डॉ. सौ. प्रसन्नारानी तन्निरु

Bolo mere man kya likhu
Aaj main likhna chahti hoon
Man mein vicharo ka vaad aaya
Maine apne man se kuch swal phuche
Yeh swal main aapse baantna chahti hoon
Bolo mere man mein kya likhu
Smaj mein badhte bhrtachar pe liku
Ya aatnbaad ke badti galtividiyo pe likhu
Prakrtik aapdao ke bare mein likhu
Ya dino din badhte pardushn pe likhu
Kashmir mein bhdki jwalao pe likhu
Sukh rhi nadiyon aur tapti dharti ma pe likhu
Insaan ka mangal pe bnate ghro p likhu
Ya insaan ki jeet or mauot ki haar pe likhu
Bolo mere man me kya likhu
Sikhsha mein ghulti rajniti pe likhu
Aakask ko chhuti mehngai pe likhu
Sima pe ladti jawani pe likho
Ya yuvko ki berojgari p likhu
Bolo mere man mein kya likhu
Aatmhtya krne walo un kisano pe likhu
Ya bacha god mein liye bhikh mangti us bikharn pe likhu
Din dihade ladkiyon pe hote acid war pe likhu
Kaam kaji mhilaon ki samsyaon pe likhu
Chahti hu koi prem khani likhu
Jindgi ki ghrai aur mout ki sachai likhu
Khtam hoti insaniyat aatmiyta pe likhu
Bago mein khilti khusbu bikharti sundar phulon pe likhu
Pholon pe udti rang birangi titliyon pe likhu
Bolo mere man mein kya likhu
Dostonn mein es tarh sochti rahi
Apne hi vicharo mein khoi rahi apne hi man se phuchti rahi
Maaf krna dosto koi sawad na mile
Main kuch likh na pai
Kuch bhi na likh pai

 

Hindi Poem on Sunflower – सूरजमुखी


sunflower
हूँ पीला पीला प्यारा प्यारा 
सूरज की और है मेरा चेहरा 
देता हूँ मैं सबको तेल 
मेरी ऊर्जा का है सब खेल 
खेतों में हूँ मैं लहराता 
सूरजमुखी हूँ  मैं कहलाता 
– अनुष्का सूरी

 

Hu Peela peela pyara pyara 
Suraj ki or hai mera chehra 
Deta hu main sabko tel
Meri urja ka hai sab khel 
Kheto mein hu main lehrata
Suraj mukhi hu main kehlata
– Anushka suri

Hindi Poem on Sister – मेरी बहना


brother-1252735_960_720

मेरी बहना प्यारी बहना
मेरा तो तू ही गहना
हमेशा तू मुस्काती रहना
तुझसे है बस इतना कहना
राखी मुझको बांधती रहना
तोहफा मुझसे माँगती रहना
मेरी बहना प्यारी बहना
हमेशा मेरे साथ रहना

– अनुष्का सूरी

Meri behna pyari behna
Mera to tu hi gehna
Hamesha tu muskati rehna
Tujhse hai bas itna kehna
Rakhi mujhko bandhti rehna
Tohfa mujhse mangti rehna
Meri behna pyari behna
Hamesha mere sath rehna

– Anushka suri

Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now
Buy Now Buy Now