Category Archives: Hindi Poem for Daughter

Hindi Poem by Daughter to her Father on her Marriage-Beti Ka Dard


balloon-2299735__340

बेटी का दर्द
पापा मुझे यूँ ओझल न कर अपनी नज़रों से…
पापा मुझे यूँ ओझल न कर अपनी नज़रों से…
माना दुनिया की रीत है ..
माना दुनिया की रीत है..
फिर भी
पापा मुझे यूँ ओझल न कर अपनी नज़रों से…
पापा मेरे तुम कहते थे मैं तुम्हारी बेटी नहीं बेटा हूं
तो क्या कोई बेटे को विदा करता है ..
पापा मुझे यूँ ओझल न कर अपनी नज़रों से..
पापा मुझे यूँ ओझल न कर अपनी नज़रों से..
-मयूरी श्रीवास्तव

Advertisements

Hindi Poem on Sad Girl – एक लड़की


आँखों को मूँदे
बैठी हैं कोने में  “वो”
कभी आंसू आए
तो कभी मुस्कुराये  “वो”
रिश्तों को निभाए
अपने आप में मस्त
दिल की परतों को खोले
पर राज़ गहरे छुपाएं हैं  “वो”
एकान्त में अकेली नहीं हैं  “वो”
दोस्त हैं गहरे अंधेरे में
जिसे देख न सके कोई
भीड़ में खड़ी
पर अकेली हैं आज भी  “वो”
– सुमिता कँवर

Aankhon ko mundein
Bethi kone mein wo
Kabhi aansu aaye
To kabhi muskuraye wo
Riston ko nibhaye
Apne aap mein mast
Dil ki parton ko khole
Par raaz gahre chupaye hai wo
Ekant me akeli nahi hai wo
Dost hai gahre andhere mein
Jise dekh na sake koi
Bheed mein khadi
Par akeli hai aaj bhi wo
-Sumita Kanwar

Hindi Poem on Save Girl Child-बचाऊं कैसे


आंखों के ख्वाब मिटा दूं रात भर जागकर,
पर दिल के ख्वाब मिटाऊं कैसे।
आहट पाते ही जिसकी मातम छा गया,
उसके जीवन की आश लगाऊं कैसे।
बड़ी जहमत से जवां हुआ ये फूल,
दुनियां की नजर इस से हटाऊं कैसे,
दरिंदों की नीयत तो कहीं भी डोल जाती है,
चेहरा नकाब से छुपाऊं कैसे।
खुदा का सौदा कर लिया धर्म के इजारेदारों ने
खिदमत की गुहार उससे लगाऊं कैसे ।
जोश चाहिए जिगर में ये दौर बदलने की खातिर,
बगावत के लिए उन्हें उकसाऊं कैसे।
आवाज उठाने की खातिर दिल बेताब है मेरा,
पर समाज से दामन छुड़ाऊ कैसे।
उसकी जंग का एक लम्हा सब कुछ बदल देगा ,
बेटी के दुश्मनों को ये समझाऊं कैसे।
बेटी ही साथ देने चली बेटी के कातिलों का,
फिर रोज मरती बेटियां बचाऊं कैसे।

Aankhon ke khwab mita doon raat bhar jaagkar
Par dil ke khwab mitau kaise
Aahat pate hi jiski maatam chha gaya
Uske jivan ki aash lagaun kaise
Badi zehmat se jawa hua ye phool
Duniya ki nazar es se hatau kaise
Darindon ki niyat to kahi bhi dol jati hai
Chehra nakab se chupaun kaise
Khuda ka sauda kar liya dharm ke ijaredaron ne
Khidmat ki ghuhaar usse lgaun kaise
Josh chahiye jigar mein ye dour badlne ke khatir
Bgavat ke liye unhe uksaun kaise
Aawaj uthane ke khatir dil betab hai mera
Par samaj se daman chudau kaise
Uski jang ka ek lamha sab kuch badal dega
Beti ke dushmano ko ye samjhaun kaise
Beti hi sath dene chali beti ke katilon ka
Fir roz marti betiyaan bachaun kaise

-Monika 

Hindi Poem for Women – नारी शक्ति


 

नारी सिर्फ उपभोग की वस्तु है
ऐसे विचार कभी क़बूल मत करना
नारी को अबला समझने की  कभी भूल मत करना
नारी अम्बर है कोई शीशे की दिवार नहीं
नारी खुद में शक्ति है किसी की मोहताज़ नहीं
संघर्षो से टकराना उसको भी आता है
हर मुश्क़िल  से गुजर जाना उसको भी आता है
प्यार से देखोगें तो बहार नज़र आयेगी
नफरत से तोड़ोगे दीवार नज़र आयेगी

– साहिन मनसोरी

Nari sirf upbhog ki vastu hai
Aise vichar kabhi qabol mt karna
Nari ko abla samajhane ki kabhi bhul mat karna
Nari ambar hai koi shise ki divar nahi
Nari khud mein Shakti Hai kisi ki mauhtaaz nahi
Sangharshon se takrana ushko bhi aata Hai
Har mushkil se gujar Jana ushko bhi aata hai
Pyaar se dekhoge to bahaar nazar aayegi
Nafrat se todoge to deewar nazar aayegi

-Sahin mansory

Hindi Poem for Woman- नारी


तोड़ के पिंजरा
जाने कब उड़ जाऊँगी मैं
लाख बिछा दो बंदिशे
फिर भी आसमान मैं जगह बनाऊंगी मैं
हाँ गर्व है मुझे मैं नारी हूँ
भले ही रूढ़िवादी जंजीरों सेबांधे है दुनिया ने पैर मेरे
फिर भी इसे तोड़ जाऊँगी
मैं किसी से कम नहीं सारी दुनिया को दिखाऊंगी
जो हालत से हारे ऐसी नहीं मैं लाचारी हूँ
हाँ गर्व है मुझे मैं नारी हूँ

-सोनी कुमारी

Tod ke pinjra
Jane kab ur jaungi mai,
Lakhh bichha do bandise
Phir bhi aasman mai jagah banaungi mai,
Ha garv hai mujhe mai nari hu.
Bhale Hi rudhiwadi janjiro se bandhe hai duniya ne pair mere,
Phir bhi ise tor jaungi
Mai kisi se kam nahi sari duniya ko dikhhaungi,
Jo halat se hare aisi nahi mai lachari hu,
Mai to solo pe bhi chalkar apni rah bana lu mai aisi nari hu.
Mera apna astitva hai nahi mai lachari hu
Ha garv hai mujhe mai nari hu.

-Soni Kumari