Hindi Poem on Mother – Maa


maa

सबसे सुंदर सबसे प्यारी
मेरी माँ  है सबसे न्यारी ।
मुझ पर प्यार ममता बरसाती   ॥
करू  गलत काम तो मार लगाती  ।
माँ  तु  है सबसे महान ॥
अब यही है बस अरमान  ।
माँ की महिमा का बखान करते करते निकले प्राण  ॥

 

– अनुष्का सूरी
Advertisements

Hindi Poem on Water – जल पर कविता


water2

जल ही है जीवन
जल ही है कारण
जल में ही पृथ्वी समाई
जल में ही जीवन की सच्चाई
जल के बिन मीन का ना जीवन
जल के बिन प्यासा जल उपवन
जल से ही होती है खेती खलियारी
जल से ही ही बनी है देह हमारी
जल ही है जो बरसता बन सावन
जल ही है जो देता है बंजर को जीवन
जल ही है पावन
जल ही है मंगल
जल ही है जन धन
जल ही है जन धन

– अनुष्का सूरी

Hindi poem on Baisakhi Festival – बैसाखी का त्यौहार


Baisakhi ka tyohaar

बैसाखी  का त्यौहार
देखो है आया बैसाखी का त्यौहार
चारों तरफ है छाई फसल की बहार
बल्ले बल्ले है आया बैसाखी का त्यौहार !
चलो मिलके डालें भंगड़ा यार
अब कटेंगी फसलें हमारी
अब होंगी खुशियाँ  न्यारी
वाह वाह आया बैसाखी का त्यौहार !
आओ सब मनाएं ये खुश्वार।

– अनुष्का सूरी