Hindi Poem on Monsoon-सावन की बौछारोँ


hand-1819357__340.jpg

सावन की बौछारोँ के मध्य,
एक ध्वनि परिचित-सी,
धीरे-धीरे बढ रही।
एक सूकून ह्रदय की दीवारोँ को बेधता,
मस्तिष्क मे पहुँचा, बोला-पहचान तो कर।
काफी इंतजार से क्षीण था,
एक संतुष्टी जगी प्रकट देखकर,
वह तो प्यारी बहना थी।
प्रीत की रीत से पूरित वह दिन आया है।
ईर्ष्या द्वेष की पराकाष्ठा छोड वादा निभाया है।
सावन भी आतुर है,एक झलक निमित्त से।
वह भी उमड-घुमड संदेश एक लाया है।
धागा नही,वह सूत्र है जिसमे छल लेशमात्र नही।
साक्षी है ईश मेरा,रक्षा रँहे,रक्षा करूं।
जरूरत नही किसी चीज की,
पा लिया संसार को।
शायद वह पूर्ण,मै भी परिपूर्ण हूँ।
बेटी वह फूल है,
जो हर बाग मेँ खिलता नहीँ।
कोशिश करो कितनी ही,
भाग्यविहीनो को मिलता नहीँ।
सुरमे की तरह शुध्द है वह,
पलकोँ पर विराजित करो।
बुराई के हर पशु को मानवता की अच्छाई से पराजित करो।
साल बीते,मास बीते,बीते दिन हजार।
माँ ढूँढती रह गई,
मिला न पुत्र का प्यार।
अब वही अबला पुत्री दे गई प्रेम सहस्त्रोँ बार।
बस अब न कहूँगा,मेरे शब्द मौन हुऐ।

-हितेश कुमार गर्ग

Savan ki bauchharon ke madhya,
Ek dhavni parichit- si ,
Dhire dhire badh rahi
Ek sukun hardya ki divaron ko bedhta
Mastishik me phucha
Bola pehchaan to kar
Kafi intezar se shin tha
Ek santushti jagi prkat dekhkar
Veh to pyari bhna thi
Preet ki reet se purit veh din aaya hai
Irshya dvesh ki prakashtha chor vada nibhaya hai
Savan bhi aatur hai ek jhalak nimat se
Veh bhi umad ghumad sandesh laya hai
Dhaga nahi hai veh sutar hai.
Jisme chal lesh matar nahi
Shakshi hai esh mera.
Rakhsha rahe rakhsha karu
Jarurat nahi kisi chij ki pa iya sansar ko
Sayad veh puran main bhi paripuran hoon
Beti veh fhul hai,
Jo har bagh mein khilta nahi
Koshish karo kitni hi,
Bhagyavahino ko milta nahi ,
Surme ki tarh sudh hai veh,
Palko par virajit karo
Burai ke har pashu ko manvta ki achai se prajeet karo
Saal bite, maas bite, bite din hzar .
Maa dhundti rah gai
Mila na putar ka pyar
Ab wahi abla putri de gayi prem shastron baar
Bas ab na kahuga mere shabd maun hue..

– Hitesh Kumar Garg

Advertisements

Hindi Poem for Father- मेरे पापा


मेरे पापा कह ना सका जो कभी
आपसे सुनाना चहता हूँ वो पापा
काश की सुन पाते आप मेरी ये गुजारिश पापा,
क्यूँ नही दिया मुझे वो मौका पापा,
चहता था सहारा आपका बनूँगा पापा,
चहता था साथ आपके रहूँगा पापा,
पर क्यूँ छोड़ दिया साथ मेरा पापा,
जब नही होता रस्ता कोई सोचता हुँ काश साथ होते पापा,
बिगड़ते हुए देखा है लोगो को देखा है चिल्लाते हुए पिता को,
क्यूँ नही दिया वो मौका पापा
काश की सुन पाते आप मेरी ये गुजारिश पापा ।
चले तो गये आप पापा सोचा भी नही क्या होगा मेरा पापा,
चले तो गये आप पापा पर अपने जाने का गम दे गये पापा,
अजीब सा डर है बिन आपके पापा साथ होते तो मै भी खुश होता पापा,
अच्छा लगता जाते हम भी कही मै भी लेता सेल्फी आपके साथ पापा ।
याद है वो रात जब चले गए थे पापा
बताया तो होता जा रहा हुँ मै,
एक बार तो बोला होता ध्यान रखना अपना
तरस चुका हुँ बेटा सुने पापा,
चहता था साथ आपके रहूँगा पापा,
पर क्यूँ छोड़ दिया साथ मेरा पापा ।
जब चोट लगती है तो माँ की याद आती है
पर जब मुश्किल बढ़ती है
तो आपकी ही याद आती है,
कट रही है जिन्दगी आपके बिना
भी चल रही है सांसे आपके बिना भी,
पर आप भी होते तो क्या बात होती पापा
ख्याल तो बहुत रखते है मेरा
पर आप भी रखते तो क्या बात होती पापा,
चहता था साथ आपके रहूँगा पापा,
पर क्यूँ छोड़ दिया साथ मेरा पापा,

-शोभित श्रीवास्तव

Mere papa kah na saka jo
aappse sunna chahta hoon wo papa
Kash ki sun pate aap meri ye gujarish papa
Kyu nahi diya muje wo mauka papa
Chahta tha sahara aapka banu papa
Chahta tha sath aapke rahuga papa
Par kyun chor diya sath mera papa
Jab nahi hota rasta koi sochta hoon
Kash sath hote papa
Bigadte hue dekha hai logo ko
Dekha hai chilate hue papa ko
Kyun nahi diya wo mauka papa
Kash ki sun pate aap meri ye gujarish papa
Chale to gye aap papa
Socha bhi nahi kya hoga mera papa
Chale to gye aap papa
Par apne jane ka gam de gye papa
Ajiv sa dar hai bina aapke papa
Sath hote to mein bhi khush hota papa
Acha lagta jate hum bhi kahi
Me bhi leta selfie aapke sath papa
Yaad hai wo raat jab chle gye they papa
Btaya to hota ja raha hoon
Main ek bar to bola hota dhyan rakhna apna
Tarsh chuka hoon beta sune papa
Jab chot lagti hai to maa ki yaad aati hai
Par jab mushkil badti hai to aapki yaad aati hai
Kat rahi hai zindagi aapke bina bhi
Chal rahi hai sanse aapke bina bhi
Par aap bhi hote to kya baat hoti papa
Khyaal to bhut rakhte hai mera par
Aap bhi rakhte to kya baat hoti papa
Chahta tha sath aapke rahuga papa
Par kyu chor diya sath mera papa

-Shobhit Srivastava

Hindi Poem on Corruption-आचार जिनके भ्रष्ट हैं


fifa-3458063__340.jpg

आचार जिनके भ्रष्ट हैं,
विचार जिनके भ्रष्ट हैं,
काले धन को जमा कर,
व्यापार जिनके मस्त हैं।
कर रहे प्रहार नमो,
पकड़कर जिनकी नब्ज़ को,
वे सभी भ्रष्टाचारी आज,
सरकारी नियमों से त्रस्त हैं।
सर्जिकल स्ट्राइक से जो,
मस्त घूमते थे आतंकी,
वे सभी आजकल ,
अपने देश में भी भयग्रस्त हैं।
जनधन औऱ उज्ज्वला से,
जिन्होंने महिलाओं को सशक्त किया,
उन युग पुरुष के मन को सुनने,
आज पूरा देश व्यस्त है।

– मयंक गुप्ता

Aachar jinke bhraṣṭ hain
Vichar jinke bhrast hain
Kale dhan ko jama kar
Vyapar jinke mast hain
Kar rahe parhaar namo
Pakad kar jinki nabaz ko
Ve sabhi bharstachari aaj
Sarkari niyamo se tryast hai
Surgical strike se jo
Mast ghumte they aatnki
Ve sabhi aajkal
Apne desh mein bhi bhyagarst hain
Jandhan aur ujwala se
Jinhone mahilayon ko sshakt kiya
Un yug pursh ke man ko sunne
Aaj pura desh vyast hai

-Mayank Gupta

Hindi Poem on Sparrow-चिड़िया निकली है


चिड़िया निकली है आज लेने को दाना
समय रहते फिर है उसे घर आना
आसान न होता ये सब कर पाना
कड़ी धूप में करना संघर्ष पाने को दाना
फिर भी निकली है दाने की तलाश में
क्योकि बच्चे है उसके खाने की आस में
आज दाना नही है आस पास में
पाने को दाना उड़ी है दूर आकाश में
आखिर मेहनत लायी उसकी रंग मिल गया
उसे अपने दाने का कण पकड़ा
उसको अपनी चोंच के संग
ओर फिर उड़ी आकाश में जलाने को
अपने पंख भोर हुई पहुँची अपने ठिकाने को
बच्चे देख रहे थे राह उसकी आने को
माँ को देख बच्चे छुपा ना पाए अपने मुस्कुराने को
माँ ने दिया दाना सबको खाने को
दिन भर की मेहनत आग लगा देती है
पर बच्चो की मुस्कान सब भुला देती है
वो नन्ही सी जान उसे जीने की वजह देती है
बच्चो के लिए माँ अपना सब कुछ लगा देती है
फिर होता है रात का आना सब सोते है
खाकर खाना चिड़िया सोचती है
क्या कल आसान होगा पाना दाना
पर अपने बच्चो के लिए उसे कर है दिखाना
अगली सुबह चिड़िया फिर उड़ती है लेने को दाना
गाते हुए एक विस्वास भरा गाना

– आशीष राजपुरोहित

Chidiya nikali hai aaj lene ko dana
Samay rahte fir hai use ghar aana
Aasan na hota ye sab kar pana
Kadi dhup mein karna sangharsh pane ko dana
Fir bhi nikali hai dane ki talash mein
Kyuki bache hai uske khane ki aas mein
Aaj dana nahi hai aas paas mein
Uane ko dana uadi hai dur aakash mein
Aakhir mehnat layi uski rang mil gya
Use apne dane ka kan
Pakda usko apni chunch ke sang
Aur fir udi aakash mein jalane ko
Apne pankh bhaur hue phuchi apne thikane ko
Bache dekh rhe they raah uski aane ko
Maa ko dekh bache chupa na paye apne muskurane ko
Maa ne diya dana sabko khane ko
Din bhar ki mehant aag laga deti hai
Par bacho ki muskaan sab bhula deti hai
Wo nanhi si jaan use jine ki vjah deti hai
Bachon ke liye maa apna sab kuch laga deti
Hai fir hota hai raat ka aaana sab sote hai
Khakar khana chidiya sochti hai
Kya kal aasan hoga pana dana
Par apne bachon ke liye use kar hai dikhana
Agali subh chidiya fir se uadti hai lene ko dana
Gaate hue ek Vishwas bhara gaana..

-Ashish Purohit

Hindi Poem On Self Improvement – खो कर अपने आप को


खो कर अपने आप को क्या कोई दूर जा पाया है
झूठे नाम के ख़ातिर ख़ुद को भुलाया है
ऐ बन्दे समझ तू अपनी असलियत को
ईस्वर तुझे इस संसार के लिये बनाया है
जो गुज़र गया है उसमे खुद को तूने समझाया है
आने वाली कल की चिंता ने आज को जलाया है
क्यों समझ नहीं आता इन प्यारे बुद्धि जीवियों को
की परमात्मा ने सब इसी पल के लिये बनाया है
बेबस हो रहा है पर खुद को  ना शक्तिशाली बनाया है
हो रही मुश्क़िलों को औरों वजह बताया है
एक काम जो तू वर्षो से टालता आया है
जरा रुक ! और देख ईश्वर ने तुझे एक ख़ासियत से बनाया है

– नवनीत कुमार तिवारी

Khokar apne aap ko Kya Koi door jaa paya hai,
Jhuthe naam ke khatir khud ko bhulaya hai
Ae bande samajh tu apni asaliyat ko,
Eswar ne tujhe iss sansar ke liye banaya hai.
Jo guzar Gaya hai usme khud ko tune samaya hai,
Aane wali Kal ki chinta ne aaj ko jalaya hai,
Kyo samajh nahi aata inn pyare budhhijiviyon ko,
Ki parmaatma ne sab isi pal ke liye banaya hai.
Bebas ho Raha hai par khud kp na shaktishali banaya hai,
Ho Rahi mushkilon ko auron ki wajah bataya hai,
Ek Kam Jo tu varso se talta aaya hai ,
Jara rukk! Aur dekh eswar ne tujhe ek khashiyat se bunaya hai..

-Navneet Kumar Tiwari