Tag Archives: Hindi Poems on birds

Hindi Poem on Sparrow-चिड़िया निकली है


चिड़िया निकली है आज लेने को दाना
समय रहते फिर है उसे घर आना
आसान न होता ये सब कर पाना
कड़ी धूप में करना संघर्ष पाने को दाना
फिर भी निकली है दाने की तलाश में
क्योकि बच्चे है उसके खाने की आस में
आज दाना नही है आस पास में
पाने को दाना उड़ी है दूर आकाश में
आखिर मेहनत लायी उसकी रंग मिल गया
उसे अपने दाने का कण पकड़ा
उसको अपनी चोंच के संग
ओर फिर उड़ी आकाश में जलाने को
अपने पंख भोर हुई पहुँची अपने ठिकाने को
बच्चे देख रहे थे राह उसकी आने को
माँ को देख बच्चे छुपा ना पाए अपने मुस्कुराने को
माँ ने दिया दाना सबको खाने को
दिन भर की मेहनत आग लगा देती है
पर बच्चो की मुस्कान सब भुला देती है
वो नन्ही सी जान उसे जीने की वजह देती है
बच्चो के लिए माँ अपना सब कुछ लगा देती है
फिर होता है रात का आना सब सोते है
खाकर खाना चिड़िया सोचती है
क्या कल आसान होगा पाना दाना
पर अपने बच्चो के लिए उसे कर है दिखाना
अगली सुबह चिड़िया फिर उड़ती है लेने को दाना
गाते हुए एक विस्वास भरा गाना

– आशीष राजपुरोहित

Chidiya nikali hai aaj lene ko dana
Samay rahte fir hai use ghar aana
Aasan na hota ye sab kar pana
Kadi dhup mein karna sangharsh pane ko dana
Fir bhi nikali hai dane ki talash mein
Kyuki bache hai uske khane ki aas mein
Aaj dana nahi hai aas paas mein
Uane ko dana uadi hai dur aakash mein
Aakhir mehnat layi uski rang mil gya
Use apne dane ka kan
Pakda usko apni chunch ke sang
Aur fir udi aakash mein jalane ko
Apne pankh bhaur hue phuchi apne thikane ko
Bache dekh rhe they raah uski aane ko
Maa ko dekh bache chupa na paye apne muskurane ko
Maa ne diya dana sabko khane ko
Din bhar ki mehant aag laga deti hai
Par bacho ki muskaan sab bhula deti hai
Wo nanhi si jaan use jine ki vjah deti hai
Bachon ke liye maa apna sab kuch laga deti
Hai fir hota hai raat ka aaana sab sote hai
Khakar khana chidiya sochti hai
Kya kal aasan hoga pana dana
Par apne bachon ke liye use kar hai dikhana
Agali subh chidiya fir se uadti hai lene ko dana
Gaate hue ek Vishwas bhara gaana..

-Ashish Purohit

Advertisements

Hindi Poem on Bird Sparrow – चिड़िया


sparrow

चिड़िया ओ चिड़िया
भूरे पंखो वाली 
उड़ती हुई चिड़िया
नैना  छोटे छोटे 
चोंच शंकू जैसी 
ची ची की दीवानी 
हमेशा मचाये 
चिड़िया ओ चिड़िया
आ दाना  ले जा 
चावल बाजरा मुँह में भर के 
बापिस तू उड़ जा 
– अनुष्का सूरी 

 

Chidiya o chidiya
Bhure pankho wali
Udti hui chidiya
Naina Chote chote
Choch shanku jaise
Chi Chi ki dhwani
Hamesha machaye
Chidiya o chidiya
Aa dana leja
Chawal Bajra
Muh mein bharke
Wapis tu ud ja
– Anushka Suri

Hindi Poem on Peacock Bird-मोर


peacock-2639169_960_720.jpg

खोलूँ जब पंख अपने
और बरसात में नाचूँ ज़ोर ज़ोर
हूँ मैं बड़ा चित्‍त चोर
हाँ मैं हूँ मोर
पक्षियों का मैं कहलाता हूँ राजा
मुरलीधर के मुकुट को मैं ही सजाता
हाँ मैं वही मोर हूँ

-अनुष्का सूरी

Kholu jab pankh apne

Aur barsaat mein nachu zor zor

Hoon main bada chitt chor

Haan main hoon mor

Pakshiyo ka main kehlata hoon raja

Murlidhar ke mukut ko main hi sajata 

Haan main wahi mor hoon

English Translation:

When I open my wings

And dance enthusiastically in the rain

I am a renowned heart thief

Yes, I am peacock

I am called the king of birds

I decorate the crown of Lord Krishn

Yes, I am the same peacock

Watch Video: