Category Archives: Patriotic Hindi Poems

Patriotic Hindi Poem-Desh


This slideshow requires JavaScript.

देश
मेरे देशवासियों अब तो नींद छोड़ो
दिनकर निकल गया है सवेर हो रहा है
दुनिया में हर तरफ भोर हो रही है
अज्ञानता की रातें कब की गुजर गई हैं
इस सोई हुई फ़िज़ा में एक ख्वाब दिख रहा है
देखो सूरज के तेज से आलोक आ रहा है
इस निकली हुई सुबह में ख्वाब आ रहा है
पूरब हो या और वो पश्चिम कब के जगे हुए है
एक हम हैं कि जो अब तक ख्वाबों में ही पड़े है
उठो नींद तोड़ो अब सुबह हो गयी है
देखो इन फ़िज़ाओं में कलियाँ खिली खिली हैं
सदियों से नींद में थे अबतक जो पीछे रह गए थे
सब दुनिया बदल रहे थे इधर हम आपस में लड़ रहे थे
अब उठो ख्वाब बदलो और बदलो ये नज़ारा
आसमां और धरा पर आगे हो हिन्दोस्ताँ हमारा
दुनिया को दिखा दो अब अपने मिट्टी की ताकत
पता उन्हें भी चलेगा जब वो जानेंगे हकीकत
-अलोक दूबे

Desh

Mere deshwasiyo ab to neend chodo

Dinkar nikal gaya hai savera ho raha hai

Duniya mei har taraf bhor ho rahi hai

Agyanta ki ratei kab ki guzar gayi hain

Is soyi hui fiza mein ek khwab dikh raha hai 

Dekho suraj ke tej se alok araha hai 

Is nikli hui subah mein khwab araha hai 

Purab ho ya aur wo paschim kab ke jage hue hain

Ek ham hain ki jo ab tak khwabon mein hi pade hain 

Utho neend todo ab subah ho gayi hai

Dekho in fizaon mein kaliyan khili khili hain

Sadiyon se neend mein the ab tak jo peeche reh gaye the

Sab duniya badalrahe the idhar ham apas mein lad rahe the

Ab utho khwab badlo aur badlo ye nazara

Asmaa aur dhara par aage ho hindustaa hamara

Duniya ko dikha do ab apne mitti ki takat

Pata unhein bhi chalega jab wo janenge haqiqat 

-Alok Dube (Poet)

 

Advertisements

Hindi Poem on Unity – क्या चाहते हो


सूखे पत्तों को जलाकर क्या बताना चाहते हो
हम में कितनी फूट है क्या यह जताना चाहते हो ..

मीठी तुम्हारी जुबां पे मज़हब और जात पात है
शहद मिलiकर क्या ज़हर पिलाना चाहते हो …

बड़ी खामोश हूँ फिर भी हूँ बहुत बुलंद
में कलम की आवाज़ हूँ मुझ को दबाना चाहते हो …

तुम्हारे हर फरेब को कर दूंगा बेपर्दा …
चढ़ा दो जितने भी नकाब चढ़ाना चाहते हो …

में अखबार हूँ इंक़लाब ला सकता हूँ …
फखत कागज़ नहीं जो छुपाना चाहते हो ….

हर तरह के फूलों से है ये चमन बना …
खोद कर जड़ें क्या गुलिस्तां बसना चाहते हो …

टूटने नहीं दूंगा यह मुल्क मेरा घर है
लगालो ज़ोर जितना लगाना चाहते हो ….

– राजन उज्जैनी 

Sukhe patton ko jala kar kya batana chahte ho
Hum mein kitni fut hai kya jatana chchte ho

Mithi tumhari jubab pe majhab aur jaat paat hai
Shad mila kar kya jahar pilana chhate ho

Badi khamosh hoon par fir bhi hoon buland
Mein kalam ki aawaj hoon mujh ko dabana chahte ho

Tumhare har fhrev ko kar dunga beparda
Chdha do jitne bhi nkab chadana chahte ho

Mein akhbar hoon ekbaal la sakta hoon
Fakhat kagaz nahi jo chupana chahta ho

Har taraf ke phoolon se hai ye chaman bna
Khaud kar jad kya gulistaan basana chahte ho

Tutne nahi dunga yeh mulak mera ghar hai
Lagalo jor jitna lgana chahte ho

-Rajan Ujjaini

Hindi Poem on Soldier-सैनिक


त्यागकर अपना घर-परिवार और सुख चैन
एक पल भी नहीं रिश्ते जिसके नैन
कड़ी धूप,बारिश और
कंपकंपाति सर्दी में
सजग खड़ा है सैनिक
देश की सुरक्षा में
इसीलिये देश में मनती है
होली, दिवाली और रमजान है
बेफिक्र खेलता बचपन और
खुशियाँ मनती जवानी है
उपवन में मंडराते भँवरे और
खेतों में खुशहाली है
क्योंकि दुशमन के इरादों को
उसने नेस्तनाबूत कर रखा है
जाओ चैन से सो जाओ
यारों सरहद पर देश का जवान
सिर पर कफन बाँधकर खड़ा है
सिर पर कफ़न बाँधकर कर खड़ा है ।
अनुपमा ठाकुर

Tyagkar apanaa ghar-parivaar aur sukh chain
Ek pal bhi nahi rishate jiske nain
Kadi dhoop,baarish aur
Knpakpaati sardi mein
Sajag khadaa hai sainik
Desh ke surakṣha mein
Isliye desh mein manate hai
Holi, diwali aur ramajaan hai
Befikar khelta bachapan
Aur khushiyaan manate jawani hai
Upavan mein mandrate bhanware aur
Kheton mein khushahaalee hai
Kyonki dushaman ke iraadon ko
Usane nestanaboot kar rakhaa hai
Jao chain se so jao
Yaaron sarahad par desh kaa javaan
Sar par kafan baandhakar khadaa hai
Sar par kafan baandhakar kar khadaa hai
-Anupama Thakur

Patriotic Hindi Poem- जय भारत


जय भारत जय,जय भारत जय, जय भारत जय
माँ हिमालय मुकट सोहे तेरे चरण धोए
गंगा चारो ऋतु सी तेरी चुन्नरी को चाँद-तारे सजाए माथे पर
सूरज की बिंदिया शोभा तेरी बढाए बाए तेरे ऊचे टीले दाए
ऊचे पर्वत तेरे आँचल सारी नदियां नीर बहे जैसे शरबत 
जल,थल, वायु तेरे भीतर खड़े तेरे पहरे लगाए
हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई तेरे आगे शीश झुकाए
सब भाषाएं तेरी गीता हर रोज तुझे सुनाए डाले
अगर बुरी नज़र जो सबक उसे सिखाए
जय भारत जय ,जय भारत जय,जय भारत जय
माँ हिमालय मुकट सोहे तेरे चरण धोए गंगा।

–गरीना बिश्नोई

Jai Bharat jai, jai Bharat jai,jai Bharat jai,
Maa Himalaya mukut sohe tere charan dhoye
Ganga charon ritu si teri chunnari ko chaand tare sajaye mathe par
Suraj ki bindiya shoba teri bdaye baye tere uche tile daye
Unche parvat tere aanchal sari nadiyaan neer bahe jese sarbat
Jal, thal, vayu tere bheetar khade tere pahre lagaye
Hindu Muslim Sikh Isayi tere aage shis jhukaye
Sab bhashaye teri geeta har roz tujhe sunaye dale
Agar buri nazar sabak use sikhaye
Jai Bharat jai, jai Bharat jai,jai Bharat jai,
Maa Himalaya mukut sohe tere charan dhoye

-Greena Bishnoi

Patriotic Hindi Poem- भारत


indian_art-wallpaper-1366x768

है धरम भूमि ये भारत की
जहाँ वीर जवान सर झुकाते हैं
कितना खून पसीना बहाकर
आज हम आज़ादी का दिन  मनाते हैं
जिनके माथे जनम भूमि का तिलक को
वो वीर भारत माता की शान बन जाते हैं
जिसने दुश्मनों को मार गिराया
आज उस वीर को भारत ने सलाम किया
जिस भारत ने दिया हमें जनम
जहाँ से अपनी पहचान बनी
आज उसी  संविधान को
हम बार बार नमन  करते हैं
पूरे देश में आज हम
गणतंत्र दिवस मनाते हैं
जय हिन्द
जय भारत
जय जवान
जय किसान
– संगीता श्रीवास्तव