Category Archives: Hindi Poems on Philosophy

Chaitanya Mahaprabhu Quotes on Bhakti


चैतन्य महाप्रभु जी (Chaitanya Mahaprabhu Ji )

तृणाद अपि सुनीचेन:

खुद को तृण से भी दीन मानो। जैसे घास का तिनका किसी के पैर पड़ने पर झुक जाता है, वैसे ही सबसे नीचे मानो खुद को।

trinad api sunichena

One should consider himself lower than a peace of straw on the street i.e. practice so much humility. A piece of straw (doob grass) bends towards the ground as soon as anyone walks over it. Those who worship God such practice such a level of humility.

तरुर अपि सहिष्णुं:

खुद को पेड़ से भी सहनशील बनाओ। जैसे पेड़ किसी से बैर नहीं करता, चुप चाप धुप सेह्ता है और सबको फल देता है, वैसे ही धैर्य धरो।

taror api sahishnuna

One should be always bent and more tolerant than a tree. A tree is very tolerant of others and it never takes revenge from anyone.

अमानीना अपि सुनिचेना

सबको सम्मान दो और खुद के लिए मान मत चाहो |

amanina manadena

One should always pay respect to others and not desire respect for himself in return.

कीर्तनीयः सदा हरि

ऐसे मन में सदा दीन भाव रख कर सदा हरि की भक्ति (नाम संकीर्तन )करो |

kirtaniyah sada harih

After practicing so much humility in the mind, one should chant God’s (Hari) name constantly.

Hindi Poem on God – मैंने देखा है खुदा को


 

हां मैंने देखा है खुदा को कूड़े के ढेर पर कचरा बिनते
मासूम बच्चो के हसीं सपनो में हां मैंने देखा है
खुदा को बड़ी सी कोठी में अकेली लेटी
बेबस माँ की चेहरे की झुर्रियों में हां मैंने देखा है
खुदा को मौत की छाती पर जंग लड़ते
सिपाही के हौसलों में हां मैंने देखा है
खुदा को निस्वार्थ परोपकार में जिंदगी लुटाते
अनगिनत सज्जनो के भावो में हां मैंने देखा है
खुदा को थके हुए मुसाफिर के अडिग चाल में
हां मैंने देखा है खुदा को मुश्किलों से लड़ते
हर उस शख्स में जिसने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी
जिसने कभी हार नहीं मानी जिसने त्याग से,
बलिदान से जिंदगी को नए मायने दिए
समाज को ,धर्म को ,राष्ट्र को अपनी खुशबु से
महकाया अपनी रौशनी से उज्जवल किया हां
मैंने देखा है खुदा को ……..

– जितेंद्र जैन 

Haan mene dekha hai khuda ko kude ke dheir pe kachara binte
Masoom bachon ke hasin sapno mein hanmene dekha hai
Khuda ko badi si kothi me akeli leti
Bebas maa ki chehre ki jhuriyaan mein haan menee dekha hai
Khuda ko maout ki chati par jung ladte
Sipahi ke hoslon mein haan mene dekha hai
Khuda ko niswarth propkaar mein zindgi lutate
Anginat sajanno ke bhavo mein haan mene dekha hai
Khuda ko thake hue musafir ke aadig chal mein
Haan mene dekha hai khuda ko mushliyon se ladte
Har us shkas mein jisne kabhi umid nahi chodi
Jisne kabhi haar nahi mani jisne tyaag se
Balidaan se zindagi ko naye mayne diye
Samaj ko dharam ko rashtra ko apni khushbu se
Mhkaya apni roshni se ujwal kiya hai haan
Mene dekha hai khuda ko…

-Jitendra Jain

Hindi Poems on Philosophy-वो बेदर्द हवेली


अक्सर गुजरना होता है ,मेरा उस हवेली से
मन भर आता है मेरा , उस पहेली से !
न जाने कितने लोग इसमे मजदूर होगे
वे पेट भरने को बडे़ मजबूर होगें :
रूक जाते हैं अनायास ही मेरे कदम ,
उस हवेली के आगे दिख जाते है
वो मजदूर मुझे रातो के जागे , लगता है
वो सारा जला हुआ भात खाते है मगर ……
ज़िन्दगी में कुछ नहीं मिला तो यही मात खाते है
उन लोगो पर किया हर कर्म भारी है
उनके पीढी दर पीढी यहीं मरने का प्रयास जारी है,
निरन्तर हो रहा है उनका शोषण
नही मिलता हैं उनके बच्चो को पोषण |
उनके बच्चे शिक्षा से भी वंचित है
क्योंकि उन अन्दर भी वही मजदूरी का रक्त संचित है ,
उन बच्चों की आँखें सारी- सारी रात रोती है
गरीबी की उस चाँदनी मे चमकते मोती है |
मन भर आता है मेरा इसी पहेली से ,
अक्सर गुजरना होता है मेरा उस ” बेदर्द हवेली से “……..

-अार.कुलदीप व्यास

Aksar gujarna hota hai mera us haveli se
Man bhar aata hai mera, us haveli se
Na jane kitne log esme majdur honge
Ve peit bharne ko bade majbur honge
Ruk jate hai anayaas hi mere kadam
Us heveli ke aage dikha jate hai
Wo majdur muje raaton ke jage ,lagta hai
Lagta hai wo sara jala hua bhaat khate hai magar
Zindagi me kuch nai mila to yahi maat khate hai
Un logo par kiya har karm bhari hai
Unke pidhi dar pidhi yahi marne ka pryaas jari hai
Nirntarn ho rha hai unka shoshan
Nahi milta hai une bachon ko poshan
Unke bache shikhsha se bhi vanchit hai
Kyoki unke andar wahi majduri ka raqat sanchit hai
Un bacho ki aankhe sari sari raat roti hai
Garibi ki us chandni me chamkte moti hai
Man bhar aata hai mera esi pheli se

-R.Kuldeep Vyas

Hindi Poems on Childhood Memories- कभी मिलना उन गलियों में


कभी मिलना उन गलियों में
जहाँ छुप्पन-छुपाई में हमनें रात जगाई थी
जहाँ गुड्डे-गुड़ियों की शादी में
दोस्तों की बारात बुलाई थी
जहाँ स्कूल खत्म होते ही अपनी हँसी-ठिठोली की
अनगिनत महफिलें सजाई थी
जहाँ पिकनिक मनाने के लिए
अपने ही घर से न जाने कितनी ही चीज़ें चुराई थी
जहाँ हर खुशी हर ग़म में दोस्तों से
गले मिलने के लिए धर्म और जात की दीवारें गिराई थी
कई दफे यूँ ही उदास हुए तो दोस्तों ने
वक़्त बे वक़्त जुगनू पकड़ के जश्न मनाई थी
जब गया कोई दोस्त वो गली छोड़ के तो
याद में आँखों को महीनों रुलाई थी गली अब भी वही है
पर वो वक़्त नहीं, वो दोस्त नहीं हरे घास थे
जहाँ वहाँ बस काई उग आई है।

-सलिल सरोज

Kabhi milna un galiyon me kha
Chupan-chupai me hamne raat jgai thi
Jhan gude-guddiyon ki shadi mein
Doston ki barat bulai thi
Jhan school khtam hote hi apni hasi thitholi ki
Anginat mehfeele sjai thi
Jhan piknik mnanane ke liye
Apne hi ghar se na jane kitni hi chie churai thi
Jhan har khushi har gum mein doston se
Gale milne ke liye dharm aur jaat ki diware girai thi
Kai dafe yoon hi udas huye to doston ne
Waqt ve waqt jugnu pakad ke jashan mnai thi
Jab gya ki dost wo gali chod ke to
yaad mein aankhon ko mhino rulai thi gali ab abhi wahi hai
Par wo waqt nahi wo dost nahi hare ghas the
Jjhan whan bas koi uag aai hai

-Salil saroj

Hindi Poems on Life – अरमान


ये तुम्हारी कल्पना और बुद्धि का अंजाम है,
रास्ते हैं दो मगर वो एक ही पैगाम है ।
जब नहीं तुम जानते थे क्या ज़मीन क्या आसमान,
बंदगी जब थी नहीं क्यूं काफिरी बदनाम है।
आये थे जब वो तो आयी थी तुम्हारी इक किताब,
उससे पहले भी जहां में आदमी श्रीमान है।
उंगलियां अब मत उठाओ वक़्त का बदला मिज़ाज़,
था कभी वो वक़्त जब ज़िंदा चुना दीवार है।
कर दिया उसने कलम सिर बढ़ सकी न उसकी शान,
आज भी वो हम सभी के सीने में आबाद है।
मेरी नज़रों में सभी पैग़म्बरों की इक क़िताब,
मैंने देखी है ये गीता और वो कुरान है।
आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए,
इससे बढ़के बंदगी का न कोई फरमान है।
हम रहे या तुम रहो न कोई शिकवा न गिला,
फ़लसफ़ा इक हो ज़मीरी बस यही अरमान है।

– स्मृति तिवारी

Ye tumhari kalpana aur budhi ka anjaam hai
Raaste hai do magar wo ek hi pegaam hai
Jab nahi tum jante they kya jamin kya aasmaan
Bandgi jab thi nahi kyu kafiri badnaam hai
Aaye they jab woto aai thi tumhari ek kitab
Usse phale bhi aadmi jha me shrimaan hai
Ungliyaan ab mat uthao waqt ka badla mizaz hai
Tha kabhi wo waqt jab jinda chuna diwar hai
Kar diya usne kal seer badh saki na uski shaan
Aaj bhi wo hum sabhi ke sine me aabad hai
Meri nazron me sabhi pegambron ki ek kitab
Maine dekhi hai ye geeta aur ye kuran hai
Aadmi ko aadmi se pyar hona chahiye
Esse badke bandgi ka na koi farmaan hai
Hum rhe ya tum rho na koi shikwa na geela
Falsffa ek ho jamiri bs yhi armaan hai.

-Smriti Tiwari