Category Archives: Hindi Poems on Philosophy

Chaitanya Mahaprabhu Quotes on Bhakti

चैतन्य महाप्रभु जी (Chaitanya Mahaprabhu Ji )

तृणादपि सुनीचेन तरोरपि सहिष्णुना ।अमानिना मानदेन कीर्तनीय: सदा हरि:।।

खुद को तृण से भी दीन मानो। जैसे घास का तिनका किसी के पैर पड़ने पर झुक जाता है, वैसे ही सबसे नीचे मानो खुद को।

trinad api sunichena

One should consider himself lower than a peace of straw on the street i.e. practice so much humility. A piece of straw (doob grass) bends towards the ground as soon as anyone walks over it. Those who worship God such practice such a level of humility.

खुद को पेड़ से भी सहनशील बनाओ। जैसे पेड़ किसी से बैर नहीं करता, चुप चाप धुप सेह्ता है और सबको फल देता है, वैसे ही धैर्य धरो।

taror api sahishnuna

One should be always bent and more tolerant than a tree. A tree is very tolerant of others and it never takes revenge from anyone.

सबको सम्मान दो और खुद के लिए मान मत चाहो |

amanina manadena

One should always pay respect to others and not desire respect for himself in return.

ऐसे मन में सदा दीन भाव रख कर सदा हरि की भक्ति (नाम संकीर्तन )करो |

kirtaniyah sada harih

After practicing so much humility in the mind, one should chant God’s (Hari) name constantly.

Hindi Poem on God – मैंने देखा है खुदा को

 

हां मैंने देखा है खुदा को कूड़े के ढेर पर कचरा बिनते
मासूम बच्चो के हसीं सपनो में हां मैंने देखा है
खुदा को बड़ी सी कोठी में अकेली लेटी
बेबस माँ की चेहरे की झुर्रियों में हां मैंने देखा है
खुदा को मौत की छाती पर जंग लड़ते
सिपाही के हौसलों में हां मैंने देखा है
खुदा को निस्वार्थ परोपकार में जिंदगी लुटाते
अनगिनत सज्जनो के भावो में हां मैंने देखा है
खुदा को थके हुए मुसाफिर के अडिग चाल में
हां मैंने देखा है खुदा को मुश्किलों से लड़ते
हर उस शख्स में जिसने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी
जिसने कभी हार नहीं मानी जिसने त्याग से,
बलिदान से जिंदगी को नए मायने दिए
समाज को ,धर्म को ,राष्ट्र को अपनी खुशबु से
महकाया अपनी रौशनी से उज्जवल किया हां
मैंने देखा है खुदा को ……..

– जितेंद्र जैन 

Haan mene dekha hai khuda ko kude ke dheir pe kachara binte
Masoom bachon ke hasin sapno mein hanmene dekha hai
Khuda ko badi si kothi me akeli leti
Bebas maa ki chehre ki jhuriyaan mein haan menee dekha hai
Khuda ko maout ki chati par jung ladte
Sipahi ke hoslon mein haan mene dekha hai
Khuda ko niswarth propkaar mein zindgi lutate
Anginat sajanno ke bhavo mein haan mene dekha hai
Khuda ko thake hue musafir ke aadig chal mein
Haan mene dekha hai khuda ko mushliyon se ladte
Har us shkas mein jisne kabhi umid nahi chodi
Jisne kabhi haar nahi mani jisne tyaag se
Balidaan se zindagi ko naye mayne diye
Samaj ko dharam ko rashtra ko apni khushbu se
Mhkaya apni roshni se ujwal kiya hai haan
Mene dekha hai khuda ko…

-Jitendra Jain