All posts by anushkaoriginal

Hindi Poems on Motivation-तू लड़ तो सही मेरे यार


तू लड़ तो सही मेरे यार
तू होगा सफल मेरे यार
खुद पर भरोसा रख
तू होगा सफल मेरे यार
ये जुनून जो बीतर है,
उसको बहार तो ला मेरे यार
सब कुछ फतेह करेगा तू
बस लड़ तो सही मेरे यार
किस बात का डर है यार
तू भाहर तो निकल यार
तू फौलादी सीना है
सब को दिखा दे यार
तू लड़ तो सही मेरे यार
अब पीछे नहीं जाना है
बस आगे बढ़ना है
मंजिल पाकर अब वापस आना है यार
बस तू लड़ तो सही मेरे यार

-अनुभव मिश्रा

Tu lad to sahi mere yaar
Tu hoga safal mere yaar
Khud pa bharosa rakh
Tu hoga safal mere yaar
Ye janoon jo bhitar hai
Usko bahar to laa mere yaar
Sab kuch fatah karega tu
Bas lad to sahi mere yaar
Kis baat ka dar hai yaar
Tu bahar to nikal yaar
Tu fauladi sina hai
Sab ko dikha de yaar
Tu lad to sahi mere yaar
Ab piche nahi jana hai
Bas aage badna hai
Manjil pa kar ab bapis aana hai yaar
Bas u lad to sahi mere yaar

-Anubhav Mishra

Hindi Poems on Life-ज़िन्दगी का खेल


ज़िन्दगी का खेल निराला है
दुख सुख का पिटारा है
एक बात समझ में आ गई
पैसों का ही बोलबाला है यहां
खुशी भी पैसों से खरीदी जाती है
ओर गम भी पैसों की कमी से आता है
लड़ लेते हैं लोग अपनो से तब
कोई रिश्ता समझ नहीं आता है
ना जाने कितनो की ज़िन्दगीयो से
खेलेगा ये कागज का टुकड़ा
क्या बदलेगी ये दुनिया या फिर
मुझे बदलना होगा
सोच रही हूँ कब से
अब क्या करना होगा ? ?

-नेहा कुमारी

Zindagi ka khel nirala hai
Dukh sukh ka pitara hai
Ek baat smajh mein aa gayi
Paiso ka bolbala hai yhan
Khushi bhi paiso se kharidi jati hai
Aur gam bhi paiso ki kaam se aata hai
Lad lete hai log apno se tab
Koi rishta smajh nahi aata hai
Na jane kitno ki zindagiyon se
Khelega ye kagaz ka tukda
Kya badlegi ye duniya ya fir
Mujhe badalna hoga
Soch rahi hoon kab se
Ab kya karna hoga

-Neha kumari

Hindi Poem on Sad Girl – एक लड़की


आँखों को मूँदे
बैठी हैं कोने में  “वो”
कभी आंसू आए
तो कभी मुस्कुराये  “वो”
रिश्तों को निभाए
अपने आप में मस्त
दिल की परतों को खोले
पर राज़ गहरे छुपाएं हैं  “वो”
एकान्त में अकेली नहीं हैं  “वो”
दोस्त हैं गहरे अंधेरे में
जिसे देख न सके कोई
भीड़ में खड़ी
पर अकेली हैं आज भी  “वो”
– सुमिता कँवर

Aankhon ko mundein
Bethi kone mein wo
Kabhi aansu aaye
To kabhi muskuraye wo
Riston ko nibhaye
Apne aap mein mast
Dil ki parton ko khole
Par raaz gahre chupaye hai wo
Ekant me akeli nahi hai wo
Dost hai gahre andhere mein
Jise dekh na sake koi
Bheed mein khadi
Par akeli hai aaj bhi wo
-Sumita Kanwar

Hindi Poem on Success-वो आज कामयाब है


वो आज कामयाब है, क्योंकि
जब वो जग रहे थे रातो में ,
तब हम सो रहे थे ख्वाबो में।
जब वो पढ़ रहे थे किताबो को ,
तब हम पढ़ रहे थे व्हाट्सप्प को।
जब वो कर रहे थे कोशिश
अपनों का सपना पूरा करने की,
तब हम कर रहे थे कोशिश गैरो का
सपना पूरा करने की ।
जब वो नजरबन्द थे एक कमरे में ,
तब हम दिख रहे थे सिटी मॉल,
सिनेमा हालो में । जब वो उलझे थे
किताबो से , तब हम उलझे थे
राजनीतिक मुद्दों से ।
जब वो उलझे थे देश-विदेश की खबरों में ,
तब हम उलझे थे गांव देश की फ़ोन कालो में ।
वो आज कामयाब है.

-राहुल पटेल

Wo aaj kamyaab hai kyuki
Jab wo jaag rahe they raaton mein
Tab hum so rhe they khwabon me
Jab wo padh rhe they kitabon ko
Tab hum padh rhe they whatsapp ko
Jab wo kar rhe they koshish
Apno ka sapna pura karne ki
Tab hum kar rhe thay koshish garon ka sapna pura kane ki
Jab wo nazar band they ek kamre mein
Tab hum dikh rhe they siti mall cinema haalon mein
Jab wo uljhe they kitaabon se
Tab hum uljhe they rajnatik mudho se
Jab wo desh videsh ki khabron mein
Tab hum uljhe they gaon ki phone callon mein
Wo aaj kamyaab hai

-Rahul Patel

Hindi Poem on Flattery-चापलूसी एक कला है


चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार ,प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियोंके लिए बला है ।
बॉस के पहले जो ऑफिस पहुंच जाएं,
उनके कार के सामने हाथ जोड़ खड़े हो जाए
मुस्कुराकर बस यही जता जाए
कि हम से अधिक ईमानदार आप कोई न पाए
हर क्षण मुस्कुराकर बॉस के चरणों में जो झुक जाए
बॉस के आस -पास गुड पर मक्खी की तरह मंडराये
बिना कारण बॉस के ऑफिस के चक्कर लगाए
सचमुच चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार ,प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियों के लिए बला है ।
इनका होता है केवल एक ही काम
सुबह- शाम जी हुजूरी और यस मैम
बॉस की प्रशंसा कर उसे लुभाना
औरों के सामने एडे बनकर पेडे खाना इनका न होता
कोई धर्म और ईमान चापलूसी का तो बस एक ही भगवान
उच्चाधिकारियों की जय -जयकार और गुणगान
ये तो होते हैं केवल कुर्सी के गुलाम
जो बैठे हैं कुर्सी पर उसी को ठोकते हैं सलाम
सचमुच चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियोंके लिए बला है l
होती हैं इनकी आँखों में चालाकी
और होठों पर मंद- मंद मुस्कान
दूसरों के मन की बात निकालने में ,
ये होते हैं विद्वान
मीठी बोली और मन में कटुता
यही इनकी पहचान
बॉस के पसंद नापसंद का
लगा लेते हैं ये झट से अनुमान
चापलूसी के बल पर कब तक टिकेगी इनकी ये झूठी शान ?
तलवे चाट कर कब तक बने रहेंगे
ये महान ?
एक ना एक दिन तो होगी प्रतिभा की पहचान
छोड़ो चाटुकारिता और चापलूसी की ये झूठी शान
अब तो कर लो ऊपर वाले का ध्यान
अब तो छोड़ो जी हुजूरी और बढ़ाओ अपना ज्ञान
बनकर बुद्धिजीवी और प्रतिभाशाली पाओ जगत में मान और सम्मान।

-अनुपमा

 

Chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye bala hai .
Boss ke pahale jo office pahunch jaye,
Unake car ke saamane hath jod khade ho jaye
Muskuraakar bas yahi jataia jaye
Ki hum se adhik imanadar aap koi n paye
Har kṣaṇa muskurakar boss ke charaṇaon mein jo jhuk jaye
Bosske aas -paas guḍa par makkhee kee tarah mnḍaaraaye
Binaa kaaraṇa bosske ŏfis ke chakkar lagaye
Sach much chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye balaa hai .
Inakaa hota hai keval ek hi kaam
Subah- shaam jee hazori aur yes mam
Boss ke prashnsa kar use lubhana
Auron ke saamane eḍae banakar peḍae khaanaa
Inakaa n hotaa koi dharm aur imaan
Chapalusi ka to bas ek hi bhagawaan
Uchch aadhikaariyon ki jay -jayakaar aur guṇagaan
Ye to hote hain keval kursee ke gulaam
Jo baiṭhe hain kursi par use ko ṭhokate hain salaam
Sach much chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye bala hai .
Hote hain inake aankhon mein chalake
Aur hoṭhon par mnd- mnd muskaan
Doosaron ke man ki baat nikalane mein ,
Ye hote hain vidvaan
Meeṭhe bole aur man men kaṭuta
Yahi inake pahachaan
Boss ke pasand naapasnd ka
Laga lete hain ye jhaṭ se anumaan
Chapalusi ke bal par kab tak ṭikegi inake ye jhooṭhe shaan ?
Talave chaaṭ kar kab tak bane rahenge
Ye mahan ? Ek na ek din to hoge pratibhaa ke pahachaan
Chhodo chaaṭukaarita aur chapalusi kee ye jhooṭhi shaan
Ab to kar lo upar wale ka dhyaan
Ab to chhodo ji hazori aur baḍhao apanaa gyaan
Banakar buddhijevi aur pratibhashalen pao jagat mein maan aur samaan.

-Anupama