Hindi Poem on Navratri – शुभ नवरात्री है


deity-614238_960_720

आई  है शुभ नवरात्रि आई
सबको लाख लाख बधाई
शेरो वाली माँ की होगी जय जयकार
होगा भजन कीर्तन हर घर द्वार
मंदिर खूब सजे धजेगें
चारो तरफ़ भण्डारे बटेंगे
रखेंगे सब व्रत उपवास
हर शवास में लेके प्रभु का वास

अनुष्का सूरी

Ayi hai shubh navratri ayi
Sabko lakh lakh badhayi
Shero wali ma ki hogi jai-jaikar
Hoga bhajan kirtan har ghar dwar
Mandir khoob saje dhajenge
Charo taraf bhandare batenge
Rakhenge sab vrat upwas
Har shwas mein leke prabhu ka was

-Anushka Suri

Buy now Buy now Buy now
Buy now Buy now Buy now
Advertisements

Hindi Poem on Anniversary – सालगिरह


girl-1555789_960_720

सालगिरह आती रही,
सालगिरह जाती रही,
पर ना खोल सका उन गिरहों को कोई
जो वक़्त ने बाँध रक्खी थीं,
ऐसा क्या ओर क्यों कर था
कि उनका सिरा भी ना मिला?
शायद वो सिरे कहीं दूर थे,
हमारी अपनी पहुँच से दूर,
बहुत दूर अनंत में गढ़े हुए,
या हमारे अपने हाथों की छाप में मढ़े हुए?
कौन जाने ?
जतन मैंने भी किये बेहिसाब,
चाहा तुमने भी बहुत,
पर शायद वक़्त ने सराहा ही नहीं,
वरना क्या वजह हो सकती थी
कि ज़िन्दगी भर साथ चलने के बावजूद
हम किनारों की तरह किनारों पर ही रहे ?
एक किनारा तेरा था,
एक किनारा मेरा भी,
शायद वक़्त ही ठीक से बाँधना भूल गया था
सप्तपदी की गिरह को,
या भूल गया था कोई ऐसी गिरह
जो दोनों किनारों को बाँध पाती,
या दोनों को ले जाकर
छोड़ देता किसी सागर में?
शायद मिल ही जाती वजह
हमें अगली सालगिरह के इंतज़ार की !

-दीपक कुलश्रेष्ठा

Salgirh aati rahi 
Salgirh jati rahi
Par na khol ska un girhon ko koi
Jo wakt ne band rakhi thi
Esa kya aur kyon kar rha tha
Ki unka sira bhi na mila?
Sayad wo sire khi dur they
Hamari apni phunch se dur
Bhut dur annat mein gadhe huye
ya hmare apne hathon ki chhap me mndhe huye
Kon jane?
Jatan mene bhi kiye behissab
Chaha tumne bhi bhut
Par sayd wakat ne sraha hi nai
Varna kya bjh ho skti thi
Ki zindgi bhr sath chalne k babzud
Hum kinaro ki trh kinaro ppar hi rhe
Ek kinara tera tha
Ek kinara mera
Sayd wakat hi theek se bandhna bhul gya tha
Saptpadi ki girh ko
Ya bhul gya tha koi esi girh
Jo dono kinaro ko band pati
Ya dono ko le ja kr
Chhod deta kisi sagar mein
Sayd mil hi jati bjh 
Hmein agli salgirh k intjar ki
–Deepak Kulshrestha

Hindi Poem on Daughter – मैं आई तो क्यों


kid-1601764_960_720

आज जब मैं जहां में आयी तो क्यों इंतेजार था किसी और का।
क्यों आते ही सताने लगा एक डर का एहसास तुम्हें माँ।
नारी के जन्म का अभिमान करो।
धरा की तरह सहती है कष्टों की बुनियाद।
फिर भी बस खुशियाँ ही तो लुटाती है नारी।
तो किस बात का अफ़सोस माँ।
एक दिन होके बड़ी पापा तुम्हारा सहारा बनूंगी।
बेटों से भी बढ़के मझदार में किनारा बनूँगी।
तो क्यों उदास हो पापा।
कितनी छोटी हूँ हाथों में तो उठाओ।
गले से लगाके मुस्कुराओ न माँ।
क्यों नारी ही अस्तित्व तलाशती है माँ।
क्या बेजान जिस्म है मेरा या सम्बेदना से दूर हूँ मैं।
जो हर बार गाल पे तमाचा सहती हूँ माँ।
क्यों पिता का कन्धा झुका सा रहता है।
क्यों नहीँ मुझपे भी फक्र होता है।
क्या कुछ अर्थ नहीँ मेरे जीवन का।
अनपूर्णा कहते हैं पर भूख मेरी ही अधूरी रह जाती है।
रातों को क्यों नहीँ कोई माथा सहलाता है मेरा।क्यों खफा होने पर मुझे कोई मनाता नहीँ।
फूल चढ़ाते हैं देवी पर।पर घर की देवी क्यों हर वक़्त तिरस्कृत रहती है माँ।
क्या आज मेरा ये मांगना गलत है की आज जब मैं जहां में आयी तो क्यों इंतेजार था
किसी और का।क्या कभी मेरे आने पर भी खुशियाँ मनायी जाएँगी?

-गौरव

Aaj jab main aai to kyon intezar tha kisi aur ka
Kyon aate hi drane lga ek dar ka ehsas tumhe maa
Nari k janam ka abhimaan kro
Dhra ki trh shti hai kashton ki buniyad
Fir bhi bas khushiya hi lotati hai nari
Too kis bat ka afsos maa
Ek din ho ke badi papa aapka shara banugi
Beto se bad k mjhdhar me kinara banugi
To kyon udas ho papa
Kitni choti hu hathon main to uthao
Gale se lga k muskrao na maa
Kyon nari hi aastitav tlashti hai maa
Kya bejaan jism hai mera samvedbna se dur hoon mein
Jo har bar gaal pe tamacha sheti hoon maa
Kyon pita ka kandha jhuka sa rhta hai
Kyon nai mujpe bhi fkr hota
Kyon kuch arth nai mere jivan ka
Anpurna khte hai par bhukh meri adhuri rh jati hai
Raton ko koi kyu ni mata shlata mera khfa hone par muje koi manata nai
Fhul chdte hai devi par par ghr ki devi ku har vakat tirskrit rhti hai maa
Kyon mera aaj yeh mangna galt hai ki aaj jab mein jhan mein aayi to kyon intezar tha
Kisi aur ka kya kabhi mere ane par bhi khushiyan manai jayegi

-Gurav