Hindi Poem on First Tooth-Pehla Daant Aya Hai

पहला दांत आया है भैया
बनाओ घर में खीर सेवइया
ये तो बस आरम्भ है बत्तीस की मज़बूत लड़ी का
कबसे इंतज़ार था मात-पिता को शुभ घड़ी का
थोड़ा तो होगा दांत उगने में दर्द
किन्तु हार न मान बच्चे तू है मर्द
अब खाना होगा पौष्टिक आहार
ताकि तेज़ रहे बढ़ने की रफ़्तार

-अनुष्का सूरी

English Translation:

Oh dear, it is my first tooth

Let us celebrate it by cooking rice pudding at home

This is just the start of a strong league of 32 teecth

My parents were anxiously waiting for this auspicious day for long

It might pain a bit while my tooth emerges out

But, I must not quit, and I am brave enough to bear all the pain

Now, I must eat nutritious diet

So that I can grow into a healthy adult

-Anushka Suri

All copyrights reserved. Unauthorized copying and reproduction of this content is strictly prohibited. 

Hindi Poems on Childhood Memories- कभी मिलना उन गलियों में

कभी मिलना उन गलियों में
जहाँ छुप्पन-छुपाई में हमनें रात जगाई थी
जहाँ गुड्डे-गुड़ियों की शादी में
दोस्तों की बारात बुलाई थी
जहाँ स्कूल खत्म होते ही अपनी हँसी-ठिठोली की
अनगिनत महफिलें सजाई थी
जहाँ पिकनिक मनाने के लिए
अपने ही घर से न जाने कितनी ही चीज़ें चुराई थी
जहाँ हर खुशी हर ग़म में दोस्तों से
गले मिलने के लिए धर्म और जात की दीवारें गिराई थी
कई दफे यूँ ही उदास हुए तो दोस्तों ने
वक़्त बे वक़्त जुगनू पकड़ के जश्न मनाई थी
जब गया कोई दोस्त वो गली छोड़ के तो
याद में आँखों को महीनों रुलाई थी गली अब भी वही है
पर वो वक़्त नहीं, वो दोस्त नहीं हरे घास थे
जहाँ वहाँ बस काई उग आई है।

-सलिल सरोज

Kabhi milna un galiyon me kha
Chupan-chupai me hamne raat jgai thi
Jhan gude-guddiyon ki shadi mein
Doston ki barat bulai thi
Jhan school khtam hote hi apni hasi thitholi ki
Anginat mehfeele sjai thi
Jhan piknik mnanane ke liye
Apne hi ghar se na jane kitni hi chie churai thi
Jhan har khushi har gum mein doston se
Gale milne ke liye dharm aur jaat ki diware girai thi
Kai dafe yoon hi udas huye to doston ne
Waqt ve waqt jugnu pakad ke jashan mnai thi
Jab gya ki dost wo gali chod ke to
yaad mein aankhon ko mhino rulai thi gali ab abhi wahi hai
Par wo waqt nahi wo dost nahi hare ghas the
Jjhan whan bas koi uag aai hai

-Salil saroj