Hindi Poems on Emotions – मैं मूक नहीं

इन विचारोँ की उधेडबुन मे,
ढूँढ कहाँ से लाऊ दो शब्द
परन्तु ये अहं नहीं ।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है मौन समुद्र मेँ,
लहरोँ को उमडते उतरते
परन्तु ये विनाशक नहीं ।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है स्थिर भूधर को
कंपन के आक्रोश से हिलते
परन्तु ये भीषण नहीं।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है तपते लौह को,
अग्नि के आवेग से
परन्तु ये पश्चाताप नहीं।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है उन विचारोँ को,
दबते शब्दोँ के अभाव से
परन्तु मैं मूक नहीं।
परन्तु मैं  मूक नहीं।

-हितेश कुमार गर्ग

En vicharon ki udhedbun mein
Dhund khan se laun do shabd
Parntu ye ahn nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai maun smander mein
Lahron ko umdte utrate
Parntu ye vinashak nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai shithar bhudar ko
Kampan me akrosh se hilte
Parantu ye bhishan nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai tapte lohe ko
Agani ke aaveg se
Parntu ye pschtap nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai un vicharon ko
Dabte shbdo ke abhab se
Parntu main mook nahi
Parntu main mook nahi

-Hitesh Kumar Garag

Hindi Poem on God-अभिवादन हो

अभिवादन हो। ईश्वरीय प्रेम की एक झलक,
मै अचरज मे ठहरा। काला हुआ संसार,
चारो ओर अंधेरा। पावस अभिवादन हो।
काली घटा चमन मेँ, सर्वत्र वीरान सा।
एक तरंग ह्रदय मेँ कौँधी, वह ध्वनि किसकी थी।
पावस अभिवादन हो। टूट पडा एक संदेश,
जलद का भूलोक पर। तृप्त हुई धरती अंगार सी,
बुझी प्यास मानो शोणित तलवार की।
पावस अभिवादन हो। प्रफुल्लित हुऐ वे नैन,
जो सूख चुके थे वीरान से।
सतरंगी एक सरिता दिखी अनन्त मेँ,
दुखी क्षुधा की भूख,मिट गई क्रांति बाण से।

-हितेश कुमार गर्ग

Abhivadan ho ishvriy prem ki jhalak
Main achraz mein thera kala hua sansaar
Charon aur andhera pawas abhivadan ho
Kali ghata chamn mein savtar viraan sa
Ek tarnag hardy mein kondhi , veh dhabni kiski thi
Pawas abhivadan ho toot pada ek sandesh
Jalad ka bhulok par tripat hue dharti angaar si
Bujhipyaas mano shonit talwar ki
Pawas abhivadan ho prafulit hue ve nain
Jo sukh chuke they viraan se
Satrangi ek sarita dikhi annat mein
Dukhi shudha ki bhukh mit gayi kranti baan se

-Hitesh Kumar Garag