Tag Archives: Inspirational Hindi Poems

Hindi Poem on Motivation – क्या बात करूँ


क्या बात करूँ मैं लोगो की
सब आप बताये बैठे है
कुछ दर्द छुपाये बैठे है
कुछ ख़्वाब छुपाये बैठे है

कुछ हस्ते है ऊपर ऊपर
कुछ रोते है नकली नकली
कुछ बातें ऐसे करते है
संसार चलाये बैठे है

सच झूठ किसी की बातों का
कुछ पता नहीं चलता अब तो
कुछ के सच भी अब झूठ लगे
कुछ झूठ चलाये बैठे है

ख्वाबों का पर्दा यहाँ पर अब
बंद सा है खुलता ही नहीं
संसार समाज सभी अपने
अधिकार बताये बैठे है

इस दुनिया में अगर कुछ करना है
अपनी मर्ज़ी की करना तू
हो सफल अगर तो बात ही क्या
पर न हो तो मत डरना तू

बस चलता जा तू सही डगर
और पीछे कभी न मुड़ना तू
जब पहुंचेगा तू मज़िल पर
वो बात अलग ही सी होगी

तुझसे मिलने को सब “वोह ” लोग
कतार लगाये बैठे है

-मुसाफ़िर

Kya baat karu mein logo ki,
Sab aap bataye baithe hai.
Kuch dard chupaye baithe hai,
Kuch khawab chupaye baithe hai.

Kuch haste hai upar upar,
Kuch rote hai nakli nakli.
Kuch baatein aesi karte hai,
Sansar chalye baithe hai.

Sach jhooth kisi ki baaton ka,
Kuch pata nhi chalta ab toh.
Kuch ke sach bhi ab jhooth lage,
Kuch jhooth chalye baithe hai.

Khwabon ka parda yaha par ab,
Band sa hai khulta hi nahi.
Sansar samaj sabhi apne,
Adhikar bataye baithe hai.

Is duniya me agar kuch karna hai,
Apni marzi ki karna tu.
Ho safal agar to baat hi kya,
Par na ho to mat darna tu.

Bas chalta ja tu sahi dagar,
Or peeche kabhi na mudna tu.
Jab pahuchega tu manzil par,
Vo baat alag hi si hogi,

Tujhse milne ko sab “voh” log,
Kataar lagaye baithe hai..

-Musafir

Advertisements

Hindi Poems on Motivation – नामुमकिन कुछ भी नही


मत सोच ,
तु है कुछ भी नही
बस सोच,
सब कुछ है
सही सही
हो जाए गर असफल ,
होना दुखी नही
समेट अपनी ताकत
रही सही बस
फिर देखना नामुमकिन
कुछ भी नही…

– वंदना सिलोरा 

Mat soch
Tu he kuch bhi nhi
Bas soch
Sab kuch hai
sahi sahi
Ho jaye agar asafal
To hona dukhi nhi
Samet apni takat
Rahi sahi  Bas
Phir dekhna namumkin
Kuchh bhi nhi…

-Vandana silora

Hindi Poems on Emotions – मैं मूक नहीं


इन विचारोँ की उधेडबुन मे,
ढूँढ कहाँ से लाऊ दो शब्द
परन्तु ये अहं नहीं ।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है मौन समुद्र मेँ,
लहरोँ को उमडते उतरते
परन्तु ये विनाशक नहीं ।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है स्थिर भूधर को
कंपन के आक्रोश से हिलते
परन्तु ये भीषण नहीं।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है तपते लौह को,
अग्नि के आवेग से
परन्तु ये पश्चाताप नहीं।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है उन विचारोँ को,
दबते शब्दोँ के अभाव से
परन्तु मैं मूक नहीं।
परन्तु मैं  मूक नहीं।

-हितेश कुमार गर्ग

En vicharon ki udhedbun mein
Dhund khan se laun do shabd
Parntu ye ahn nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai maun smander mein
Lahron ko umdte utrate
Parntu ye vinashak nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai shithar bhudar ko
Kampan me akrosh se hilte
Parantu ye bhishan nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai tapte lohe ko
Agani ke aaveg se
Parntu ye pschtap nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai un vicharon ko
Dabte shbdo ke abhab se
Parntu main mook nahi
Parntu main mook nahi

-Hitesh Kumar Garag

Hindi Poems on Life-ज़िन्दगी


ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी ख़ुशी देती है कभी गम देती है
फिर भी जीना तो हर हाल में पड़ता है
कुछ खो कर,तो कुछ पा कर रहना पड़ता है
बस यही ज़िंदगी है यही सब कुछ है
कुछ भी नहीं पास मेरे
तेरी यादें ही सब कुछ है
सब कुछ खो कर भी
बहुत सारी यादें छोड़ जाती है
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी कभी गम दे जाती है
रोने से क्या होगा हमेशा खुश रहना चाहिए
सबकी खुशी  के लिए हमेशा खुश रहना चाहिए
अपने लिए ना सही अपनों के लिए जीना चाहिए
बस -बस ऐसे ही ज़िन्दगी जीना चाहिये  
ज़िन्दगी हर सुख़ हर सुख में
बहुत कुछ सिखाती है
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी दे जाती है कभी गम दे जाती है
कुछ भी नहीं है मेरे पास ये सोचना छोड़ दो
हर दुःख ,तकलीफो को भूल कर  
ज़िन्दगी जिओ तुम्हारा खुश रहना ही
तुम्हारी ज़िन्दगी है सबको प्यार दो, खुशी दो , 
छोटी ही सही पर ज़िन्दगी यही सिखाती है
कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कई यादें दिल में छोड़ जाती है
किसी से कुछ भी उम्मीद मत रखो
सदा आगे बढ़ते रहना चाहिए
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी देती है कभी गम देती है

– नितेश शर्मा

Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Phir bhi jeena to har haal me padta hai,
Kuch khokar, to kuch paakar rehna padta hai,
Bas yahi zindagi hai, yahi sab kuch hai,
Kuch bhi nahi paas mere,
Teri yaade he sab kuch hai,
Sab kuch khokar bhi,
Bohot saari yaade chhod jaati hai.
Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Rone se kya hoga, hamesha khush rehna chahiye,
Sabki khushi ke liye, hamesha khush rehna chahiye,
Apne liye na sahi, apno ke liye jeena chahiye,
Sabko khush rakho, sabko saath lekar chalna chahiye,
Bas bas aise he zindagi jeena chahiye.
Zindagi har sukh, har dukh me
Bohot kuch sikhati hai,
Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Kuch bhi nahi hai mere paas, ye sochna chhod do,
Har dukh, taklifo ko bhool kar
Zindagi jio, tumhara khush rehna he,
Tumhari zindagi hai, sabko pyar do, khushi do,
Chhoti he sahi, but zindagi yahi sikhati hai,
Kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kai yaade dil me chhod jaati hai,
Kisi se kuch bhi ummid mat rakho,
Sada aage badhte rehna chahiye,
Zindagi kabhi hasati hai,kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gum deti hai,

-Nitesh Sharma

 

Hindi Poems on Motivation-जो करना है आज करो


जीवन के इस मेले में, नहीं किसी का इंतजार करो।
जो करना है ,आज करो।।
अपनी राह पर चलते जाओ, नहीं किसी का आस करो।
जो करना है,खास करो।।
कुछ करना है तो,स्वयं करो, नहीं किसी का होड़ करो।
जो करना है,बेजोड़ करो।।
प्रकृति के प्रांजल में, कुछ तो तुम उपकार करो।
जो करना है,बेशुमार करो।।
अपने मन की सरिता में, तुम निर्मल नौका-विहार करो।
जो करना है,इस बार करो।।
अपने मन के भावों को, चाहे जितना विस्तार करो।
जो करना है,बेमिशाल करो।।

-अभिषेक कुमार

Jivan ke es mele mein, nahi kisi ka intezaar karo
Jo karna hai aaj karo.
Apnai raah par chalte jao nahi kisi ka aas karo
Jo karna hai khas karo .
kuch karna hai to Swayam karo nahi kisi ka haud karo

Jo karna hai bejaud karo.
Pprakarti ke pranjaal mein kuch to tum upkaar karo
Jo karna hai beshumaar karo.
Apne man ki sarita mein, tum nirmal nauka-vihaar karo
Jo karna hai es baar karo .
Apne man ke bhavo ko, chahe jitna vistar karo
Jo karna hai bemishaal karo.

-Abhishek Kumar