Tag Archives: Hindi Poems on Positive Attitude

Hindi Poem on Success-वो आज कामयाब है


वो आज कामयाब है, क्योंकि
जब वो जग रहे थे रातो में ,
तब हम सो रहे थे ख्वाबो में।
जब वो पढ़ रहे थे किताबो को ,
तब हम पढ़ रहे थे व्हाट्सप्प को।
जब वो कर रहे थे कोशिश
अपनों का सपना पूरा करने की,
तब हम कर रहे थे कोशिश गैरो का
सपना पूरा करने की ।
जब वो नजरबन्द थे एक कमरे में ,
तब हम दिख रहे थे सिटी मॉल,
सिनेमा हालो में । जब वो उलझे थे
किताबो से , तब हम उलझे थे
राजनीतिक मुद्दों से ।
जब वो उलझे थे देश-विदेश की खबरों में ,
तब हम उलझे थे गांव देश की फ़ोन कालो में ।
वो आज कामयाब है.

-राहुल पटेल

Wo aaj kamyaab hai kyuki
Jab wo jaag rahe they raaton mein
Tab hum so rhe they khwabon me
Jab wo padh rhe they kitabon ko
Tab hum padh rhe they whatsapp ko
Jab wo kar rhe they koshish
Apno ka sapna pura karne ki
Tab hum kar rhe thay koshish garon ka sapna pura kane ki
Jab wo nazar band they ek kamre mein
Tab hum dikh rhe they siti mall cinema haalon mein
Jab wo uljhe they kitaabon se
Tab hum uljhe they rajnatik mudho se
Jab wo desh videsh ki khabron mein
Tab hum uljhe they gaon ki phone callon mein
Wo aaj kamyaab hai

-Rahul Patel

Advertisements

Hindi Poems on Emotions – मैं मूक नहीं


इन विचारोँ की उधेडबुन मे,
ढूँढ कहाँ से लाऊ दो शब्द
परन्तु ये अहं नहीं ।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है मौन समुद्र मेँ,
लहरोँ को उमडते उतरते
परन्तु ये विनाशक नहीं ।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है स्थिर भूधर को
कंपन के आक्रोश से हिलते
परन्तु ये भीषण नहीं।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है तपते लौह को,
अग्नि के आवेग से
परन्तु ये पश्चाताप नहीं।
मैं मौन,पर मूक नहीं।

देखा है उन विचारोँ को,
दबते शब्दोँ के अभाव से
परन्तु मैं मूक नहीं।
परन्तु मैं  मूक नहीं।

-हितेश कुमार गर्ग

En vicharon ki udhedbun mein
Dhund khan se laun do shabd
Parntu ye ahn nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai maun smander mein
Lahron ko umdte utrate
Parntu ye vinashak nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai shithar bhudar ko
Kampan me akrosh se hilte
Parantu ye bhishan nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai tapte lohe ko
Agani ke aaveg se
Parntu ye pschtap nahi
Main maun, par mook nahi

Dekha hai un vicharon ko
Dabte shbdo ke abhab se
Parntu main mook nahi
Parntu main mook nahi

-Hitesh Kumar Garag

Hindi Poems on Philosophy-रोशनी भरी डिब्बी


एक छोटी सी है डिब्बी जिसमे है कुछ रोशनी भरी
एक बिंदु एक ज्योति के समान संपुर्ण फिर भी निराकार।।
रोशनी तेज़ इतनी की सूरज भी शरमाये गर्म इतनी की
एक मादक विस्फोट से हो जाये इस प्रकाश को मैं समेटना चाहती हूँ
ताउम्र इसी रोशनी में नहाना चाहती हूँ
इसकी गर्माहट में पिघलना चाहती हूँ
फिर पिघल कर फिर से घड़ना चाहती हूँ।।
एक छोटी सी है डिब्बी जिसमे है कुछ रोशनी भरी ……
यह रोशनी नही मगर है तरंगों का समंदर इस समंदर में मैं मछली बन तैरना चाहती हूँ
एक गोताखोर सी बन इसकी गहराई में उतरना चाहती हूँ
थोड़ी इठलाती हुई मै फिर से उभरना चाहती हूँ।।
इक छोटी सी है …. यह नही सिर्फ रोशनी है
यह एक जादूगरी इक गुदगुदी और अजीब सी सिरहन से भरी
इस गुदगुदायी सिरहन में मै लिपटना चाहती हूँ
इस जादूगरी को मै अपनी बाहों में भरना चाहती हूँ इक छोटी सी है ……
है नही ये सिर्फ रोशनी ये है प्यारी मिलान की रात अपने प्रियतम को समर्पित
एक अनूठी सौगात इस रात की चांदनी में मै चमकना चाहती हूँ
इस मिलन के क्षड़ों में में ठहरना चाहती हूँ मैं नाचना चाहती हूँ
में झूमना चाहती हूं इस ज्योति बिंदु को में चूमना चाहती हूँ ।। इक छोटी सी है ….
इस रोशनी का है जो एओह एक रोशनकार वही तोह है
व्याप्त और देता सबको आकार उस रोशनकार के हाथों मैं संवरना चाहती हूं
जड़ बन उसके हाथों फिर निखरना चाहती हूं उस ज्योति बिंदु में मैं समाना चाहती हूँ
मैं पिघलना चाहती हूं मैं मचलना चाहती हूं इस रोशनी में मैं नहाना चाहती हूं
मैं नाचना चाहती हूँ मैं झूमना चाहती हूँ।।।
इक छोटी सी है डिब्बी जिसमे है कुछ रोशनी भरी।।।।

-शिल्पा

Ek chotti si hai dibbi jisme hai kuch roshni bhari
Ek bindu ek jyoti ke saman sampuran fir bhi nirakar
Roshni tez etni ki suraj bhi sarmaye garm etni ki
Ek madak visfot se ho jaye es parkash ko main smeintna chahti hoon
Taumar es roshni menhana chahti hoon
Eski garmahat mepighlna chahti  hoon
Fir pighal kar fir se gadna chahti  hoon
Ek chotti si hai dibbi jismekuch roshni bhari
Yeh roshni nai magar hai tarngon ka samndar es smandr memain machli ban tarna chahti  hoon
Ek gotakhor si ban es gahrai meutrna chahti  hoon
Thodi ethlat  hoone main fir se ubhrna chahti  hoon
Ek choti si hai yeh nai sirf roshni hai
Yeh ek jadugari ek gudguddi aur ek ajv si sirhan se bhari
es gudgudayi sirhan memain liptna chahti  hoon
Es jadugari ko main apni bahon mebhrana chahti  hoon..ek choti si hai
Hai nahi ye sirf roshni ye hai.pyari milan ki raat apne priytam ko samrpit
Ek anuthi saugaat es raat ki chandani memain chamkna chahti  hoon
Es milan ke shdo memain thahrna chahti  hoon main nachna chahti  hoon
Main jhumna chahti  hoon. es jyoti bindu ko main chumna chahti  hoon ek choti si hai
Es roshni ka hai jo a  oh ek roshnakar whi to hai
Viyapat aur deta sabko aakar us roshnakar ke hathon main svarna chahti  hoon
Jad ban uske hathon fir nikhrna chahti  hoon es jyoti bindu memain smana chahti hoon
Main pinghlna chahti  hoon main machalna chahti  hoon es roshni mein  main nhana chahti  hoon
Main nachna chahti  hoon main jhumna chahti  hoon
Ek chotti si hai dibbi jismehai kuch roshni bhari

-Shilpa

Hindi Poems on Positive Attitude – तनहाई की महफ़िल


तनहाई की महफ़िल में मुस्काना नहीं सीखा
नाजुक फूलों सा कभी मुरझाना नहीं सीखा

टूटा हूँ बहुत लेकिन गिर-गिर के सम्भला हूँ
कैसी भी हो राह मगर रुक जाना नहीं सीखा

भूल गए वो लोग जिनका साथ दिया हर पल
उनकी तरह मैंने अहसान जताना नहीं सीखा

कड़वा सच बोलता हूँ भले नफरत करे जमाना
झूठी तसल्ली देकर कभी समझाना नहीं सीखा

सताया बहुत था कभी इस ज़माने ने फिर भी
अनजाने में दिल किसी का दुःखाना नहीं सीखा

आँखे भी बयाँ कर देती हैं दिल की सारी बातें
कुछ बातों को लफ्जो ने मेरे बताना नहीं सीखा

दिल लगता है एक बार ही दुनियाँ में किसी से
इस दिल को मैंने बार-बार लगाना नहीं सीखा।

– राहुल रेड

Tanhai ki mehfil me muskana nahi seekha
Nazuk phoolon sa kabhi murjhana nahi seekha

Toota hoon bhut lekin gir gir ke sambhla hoon
Kaisi bhi ho rah magar ruk jana nahi sikha

Bhul gaye wo log jinka sath diya har pal
Unki tarah maine ehsaan jatana nahi seekha

Kadwa sach bolta hoon bhale nafrat kare jamana
Jhuthi tasalli de kar kabhi samjhana nahi seekha

Sataya bahut tha kabhi iis jamane ne fir bhi
Anjane me dil kisi ka dukhana nahi seekha

Aankhein bhi bayan kar deti hai dil ki sari batein
Kuch baton ko lafzo ne mere batana nahi sikha

Dil lagta hai ek bar hi duniya me kisi se
iis dil ko maine bar bar lagana nahi seekha

– Rahul Red

Hindi Poem on Success – बदलेगी ये दुनिया


बदलेगी ये दुनिया
सोच तो बदल के देखो
ये लक्ष्य होंगे पूरे
मेहनत तो कर के देखो
गरीबी में जिओं
मगर ख़्वाब अमीरो का देखों
सारे खवाब होंगे पूरे
पहले सपने तो देखों
ज़िंदगी सुधर जायेगी
इंसान तो बन कर देखो
जीना मरना सबको है
ज़रा  महान बन कर देखो
झूठ तो बहुत बोले होंगे
कभी सच तो बोल कर देखो
सफल ज़रूर होंगे एक दिन
एक कदम तो बढ़ाकर देखो

-सौरव कुमार आदर्श

Badlegi ye duniya
Soch to badal ke dekho
Ye lakshay honge pure
Mehnat to karke dekho
Garibi me jio
Magar khawab amiro ka dekho
Sare khawab honge pure
Pahle sapne to dekho
Jindagi sudhar jayegi
Insan to bankar dekho
Jina-Marna to sabko hai
Jara Mahan bankar dekho
Jhuth to bahut bole hoge
Kabhi sach to bolkar dekho
Saphal jarur hoge ek din
Ek kadam to badhakar dekho

Saurav Kumar (Aadarsh)