Hindi Poem on Night-ये रात


raat

लायी है संग तारों की बारात
ये रात
जब छाया है घना अंधेरा
ये रात
जब सो चुके हैं सब लोग
ये रात
जब जाग रहे हैं कुछ लोग
ये रात
जब जलता है टिमटिमाता दिया
ये रात
जब होता है शांत समां
ये रात
जब कोई गीत गुनगुनाता है
ये रात
जब कोई किसी की याद में आंसू बहाता है
ये रात
जो लाती है नयी सुबह
ये रात
जो है जीत की तैयारी
ये रात
जब है सबको नींद प्यारी
ये रात
जब चाँद का होता है पहरा
ये रात
जब महकता है रजनीगंधा
ये रात
जब करें ह़म तुम बात
ये रात
जो आयेगी ना कल फिर
ये रात
जो निकल गयी कुछ बातों में
ये रात
सो जाओ कल करेंगे अब बाकी बात
-अनुष्का सूरी

 

Advertisements

Poem on New Year-नव वर्ष दिल से मनाओ


box-2953722_960_720
जो बीत गया पलों में उसको भूल जाओ,
मिलके ये नव वर्ष दिल से मनाओ,
प्यार से हँसते रहो,
प्यार से मुस्कुराओ,
बिखेर के हँसी हर चहरे पे
रोते चहरे को हँसाओ,
मिलके ये नव वर्ष दिल से मनाओ,
नव वर्ष का ये प्यारा हर लम्हा खास है,
लम्हे में छुपे हैं खुशियों के ख़ज़ाने,
लूट लो ये मिलके खुशियों के तराने,
खुशियों को प्यार से तुम इस वर्ष बुलाओ,
मिलके ये नव वर्ष दिल से मनाओ,
मंज़िल से कह दो इस वर्ष ना तू दूर है,
रास्तों से कह दो मंज़िल को सजाओ,
लेके दिया अंधेरे में हर तामस मिटाओ,
मिलके ये नव वर्ष दिल से मनाओ,
तरक्की हो समृद्धि हो,
हर घर में खुशहाली हो,
हर घर को खुशियों का जहां बनाओ,
मिलके ये नव वर्ष दिल से मनाओ|
-गौरव