Patriotic Hindi Poem- भारत

indian_art-wallpaper-1366x768

है धरम भूमि ये भारत की
जहाँ वीर जवान सर झुकाते हैं
कितना खून पसीना बहाकर
आज हम आज़ादी का दिन  मनाते हैं
जिनके माथे जनम भूमि का तिलक को
वो वीर भारत माता की शान बन जाते हैं
जिसने दुश्मनों को मार गिराया
आज उस वीर को भारत ने सलाम किया
जिस भारत ने दिया हमें जनम
जहाँ से अपनी पहचान बनी
आज उसी  संविधान को
हम बार बार नमन  करते हैं
पूरे देश में आज हम
गणतंत्र दिवस मनाते हैं
जय हिन्द
जय भारत
जय जवान
जय किसान
– संगीता श्रीवास्तव

Hindi Poem for Beloved Mother – मन मंदिर तुझे सजाऊंगा

maa

कौन मुझे इस जग में लाया
किसने अपना दूध पिलाया
किसने मुझे चलना सिखाया
किसने मेरा दर्द अपनाया
कौन करे मुझ पर सब बरबस
कौन मनाये मेरा जन्म हर बरस
कौन चाहे मेरी मुस्कान सदा
कौन जाने मेरी सही सज़ा
कौन खुश होगा देख मेरी तरक्की
कौन चाहेगा मेरी नौकरी हो पक्की
कौन रोयेगा जब मैं रोऊँ
कौन रोयेगा जब मैं हंसु
कौन कहेगा करो पढाई
कौन कहेगा कहानी है पिटाई
कौन खिलायेगा मुझे रोटी
कौन सुनाएगा कहानियां छोटी
कौन खिलायेगा मीठी खीर
कौन अपनाएगा मेरी पीर
कौन करेगा मेरी चिंतन
कौन करेगा मेरा ह्रदय मंजन
जब से जब में आया हूँ
जब इस जग से जाँऊगा
तेरा नाम लेकर ही माँ
मन मंदिर तुझे सजाऊंगा

-अनुष्का सूरी