Tag Archives: Hindi Poetry

Hindi Poem on Monsoon-सावन की बौछारोँ

hand-1819357__340.jpg

सावन की बौछारोँ के मध्य,
एक ध्वनि परिचित-सी,
धीरे-धीरे बढ रही।
एक सूकून ह्रदय की दीवारोँ को बेधता,
मस्तिष्क मे पहुँचा, बोला-पहचान तो कर।
काफी इंतजार से क्षीण था,
एक संतुष्टी जगी प्रकट देखकर,
वह तो प्यारी बहना थी।
प्रीत की रीत से पूरित वह दिन आया है।
ईर्ष्या द्वेष की पराकाष्ठा छोड वादा निभाया है।
सावन भी आतुर है,एक झलक निमित्त से।
वह भी उमड-घुमड संदेश एक लाया है।
धागा नही,वह सूत्र है जिसमे छल लेशमात्र नही।
साक्षी है ईश मेरा,रक्षा रँहे,रक्षा करूं।
जरूरत नही किसी चीज की,
पा लिया संसार को।
शायद वह पूर्ण,मै भी परिपूर्ण हूँ।
बेटी वह फूल है,
जो हर बाग मेँ खिलता नहीँ।
कोशिश करो कितनी ही,
भाग्यविहीनो को मिलता नहीँ।
सुरमे की तरह शुध्द है वह,
पलकोँ पर विराजित करो।
बुराई के हर पशु को मानवता की अच्छाई से पराजित करो।
साल बीते,मास बीते,बीते दिन हजार।
माँ ढूँढती रह गई,
मिला न पुत्र का प्यार।
अब वही अबला पुत्री दे गई प्रेम सहस्त्रोँ बार।
बस अब न कहूँगा,मेरे शब्द मौन हुऐ।

-हितेश कुमार गर्ग

Savan ki bauchharon ke madhya,
Ek dhavni parichit- si ,
Dhire dhire badh rahi
Ek sukun hardya ki divaron ko bedhta
Mastishik me phucha
Bola pehchaan to kar
Kafi intezar se shin tha
Ek santushti jagi prkat dekhkar
Veh to pyari bhna thi
Preet ki reet se purit veh din aaya hai
Irshya dvesh ki prakashtha chor vada nibhaya hai
Savan bhi aatur hai ek jhalak nimat se
Veh bhi umad ghumad sandesh laya hai
Dhaga nahi hai veh sutar hai.
Jisme chal lesh matar nahi
Shakshi hai esh mera.
Rakhsha rahe rakhsha karu
Jarurat nahi kisi chij ki pa iya sansar ko
Sayad veh puran main bhi paripuran hoon
Beti veh fhul hai,
Jo har bagh mein khilta nahi
Koshish karo kitni hi,
Bhagyavahino ko milta nahi ,
Surme ki tarh sudh hai veh,
Palko par virajit karo
Burai ke har pashu ko manvta ki achai se prajeet karo
Saal bite, maas bite, bite din hzar .
Maa dhundti rah gai
Mila na putar ka pyar
Ab wahi abla putri de gayi prem shastron baar
Bas ab na kahuga mere shabd maun hue..

– Hitesh Kumar Garg

Hindi Poems on Emotions-अनजान

पक्के मकान और कच्ची ईंटे ,
सच्चे मोती और झूठे  बोल ,
ख्वाहिशों के धागे को दिखावे की सुई से सीकर चल रहे है।
घर शमशान की राख पर नहीं बनना चाहिए ,
मगर उसी मिट्ठी के बन रहे है।
बड़े आँगन की चाह में झोपड़ी उखाड़ी ,
धूप से परदों की ओंठ में छिप रहे है।
चला जा रहा है कारवाँ रामायण का पाठ करवा कर ,
मगर खुद अपने रावण के दहन से बच रहे है।

-प्रभ पूरी

Pakke Makan Or Kacchi Inte ,
Sacche Moti Or Juthe Bol ,
Khawahiso Ke Dhage Ko Dikhave Ki Sui Se Sikar Chal Rhe Hai …
Ghar Samsaan Ki Raakh Par Nhi Banna Chahiye ,
Magar Usi Mitthi Ke Ban Rhe Hai .
Bade Aagan Ki Chah me Jopadi Ukhaadi ,
Dhoop Se Pardo ki Onth me Chip Rhe Hai .
Chala Ja Rha Hai Karwa Ramayan Ka Paath Karwa Kar ,
Magar Khud Apne Ravan Ke Dehan Se Bach Rhe Hai ..

-Prabh Purii