Hindi Poem on Death-अन्तिम विदाई

आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से
पूरी हुकूमत थी उनकी जग में जीना  आता था उन्हें शान से
आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से।
बस यादों में रह गया बसेरा बड़ी दूर हो गया घर अब तेरा
फिर नहीं होगा मेरे घर तेरा फेरा सपनों में याद आएगा
हमको बस एक तेरा चहरा बस यादों में रह गया बसेरा
बड़ी दूर हो गया घर अब तेरा। दिल का आँगन कर गये सुन्ना
तुम तो थे बरगद का पौधा हम सब तो थे इसका तना
शांति दे आत्मा को तुम्हारी प्रर्थाना करेगें उस भगवान से
आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से।

– गरीना बिश्नोई

Aaj le li hai  Vidai kisi ne apne  pariwaar aur jhaan se
Puri Hukumat thi unki jung mein jina aata tha unhe shaan se
Aaj le li vidai kisi ne apne pariwar se aur jhaan se
Bas yaado mein reh gaya basera badi dur ho gya ab ghar tera
Fir nai hoga mere ghar fera sapno mein yaad aayega
Humko bas ek tera chehara bas yaadon mein reh gaya basera
Badi dur ho gya ghr tera dil ka aagain kar gye suna
Tum to they bargad ka podha hum sab to they eska tana
Shanti de aatma ko tumhari prathana krege us bhagwaan se
Aaj le li hai vidai kisi ne apne pariwaar aur jhaan se

-Garina Bishnoi

Hindi Poem on Rape- आदम खोर दरिन्दें

कब खूनी खेल खत्म होगा,
इन आदम खोर दरिन्दों का,
बचपन छीन न जाए इनका,
नन्हें इन परिन्दों का,
अगला शिकार कौन हो इनका,
पता नहीं इन छरिन्दों का,
हँसनें से भी डर लगता है,
सहम जाती हूँ ये देख कर,
कब शिकार होना पड़े,
इन आदम खोर दरिन्दों का,
कब खूनी खेल खत्म होगा,
इन आदम खोर दरिन्दों का।

गरीना बिश्नोई

Kab khuni khel khtam hoga
En aadam khor darindo ka
Bachpan chin na jaye enka
Nanhe en parindo ka
Agla shikar kon ho inka
Pta nahi en charchindo ka
Hasne se bhi dar lagta hai
Sham jati hoon ye dekh kar
Kab shikar hona pade
En aadamkhor darindo ka
Kab khuni khel khtam hoga
En aadam khor darindo ka

-Garina Bishnoi