Painful Poem of Death

now browsing by tag

 
 

Missing a Loved One Poem in Hindi-Kahi Tum Zinda Ho

कहीं तुम ज़िंदा हो (कविता का शीर्षक)

धुंधली सी उन तस्वीरों में

आज भी कहीं तुम ज़िंदा हो

दिल के उन दरवाज़ों पर

आज भी कहीं दस्तक देते हो

हर कोई कोशिश करता है

आज भी कमी को भरने की

धुंधली सी उन तस्वीरों में

आज भी कहीं तुम ज़िंदा हो..

आँखों के वो परदे

आज भी तुम्हारा ही दीदार चाहते हैं

हर कोई इन लम्हों में

आज भी तुम्हें ही ढूंढता है

धुंधली सी उन तस्वीरों में

आज भी कहीं तुम ज़िंदा हो …

लफ़्ज़ों की उन दास्तां में

आज भी ज़िकर तुम्हारा चाहते हैं

हर कोई पूछता है

आज भी क्यों याद तुम करते हो

धुंधली सी उन तस्वीरों में

आज भी कहीं तुम ज़िंदा हो..

खुशियों की उन घड़ियों में

आज भी तुम्हारा ही नाम आता है

हर कोई तुम्हें बुलाता है

फिर क्यों नहीं तुम आते हो

धुंधली सी उन तस्वीरों में

आज भी कहीं तुम ज़िंदा हो…

जब वक़्त दुःख का होता है

आज भी वही सीख याद आती है

हर किसी की हिम्मत थे जो

आज वो ही साथ नहीं हैं

धुंधली सी उन तस्वीरों में

आज भी कहीं तुम ज़िंदा हो

आज भी कहीं तुम ज़िंदा हो

-ख़ुशी माहेश्वरी (कवि)

Kahi Tum Zinda Ho (Title of the Poem)

Dhundli si un tasveero mein (In fading pictures of yours)
Aaj bhi kahi tum zinda ho (You are still alive today)
Dil ke un darwazo par (On the doors of my heart)
Aaj bhi kahi dastak dete ho (You still knock)
Har koi koshish karta hai (Everyone tries)
Aaj bhi kami ko bharne ki (To fill the void)
Dhundli si un tasveero mein (In fading pictures of yours)
Aaj bhi kahi tum zinda ho… (You are still alive today)
Aankho ke vo parde (The closets of those eyes)
Aaj bhi tumhara hi didar chahte hai (Today also long to see you)
Har koi in lamho mein (Everyone in these moments)
Aaj bhi tumhe hi dhundta hai (Keeps searching for you even today)
Dhundli si un tasveero mein (In fading pictures of yours)
Aaj bhi kahi tum zinda ho… (You are still alive today)
Lafzo ki un dasta mein (In the stories of words (talks/coversations))
Aaj bhi zikar tumhara chahte hain (We want to hear about you)
Har koi puchta hai (Everyone asks)
Aaj bhi kyo yaad tum karte ho (Why do I remember you still today)
Dhundli si un tasveero mein (In fading pictures of yours)
Aaj bhi kahi tum zinda ho… (You are still alive today)
Khushiyon ki un ghadiyon mein (In the moments of happiness)
Aaj bhi tumhara hi naam aata hai (Your name appears even today)
Har koi tumhe bulta hai (Everyone calls you_
Phir kyu nahi tum aate ho (Then why don’t you appear)
Dhundli si un tasveero mein (In fading pictures of yours)
Aaj bhi kahi tum zinda ho….(You are alive even today)
Jab wakt dukh ka hota hai (When there are moments of grief)
Aaj bhi vohi seekh yaad aati hai (Today too I remember the very same lesson)
Har kisi ki himaat the jo (The person who was everyone’s strength)
Aaj vohi saath nahi hai (He is not with us today)
Dhundli si un tasveero mein (In fading pictures of yours)
Aaj bhi kahi tum zinda ho….(You are alive even today)
Aaj bhi kahi tum zinda ho….(You are alive even today)

-Khushi Maheshwari (Poet)

Hindi Poem on Death-अन्तिम विदाई

आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से
पूरी हुकूमत थी उनकी जग में जीना  आता था उन्हें शान से
आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से।
बस यादों में रह गया बसेरा बड़ी दूर हो गया घर अब तेरा
फिर नहीं होगा मेरे घर तेरा फेरा सपनों में याद आएगा
हमको बस एक तेरा चहरा बस यादों में रह गया बसेरा
बड़ी दूर हो गया घर अब तेरा। दिल का आँगन कर गये सुन्ना
तुम तो थे बरगद का पौधा हम सब तो थे इसका तना
शांति दे आत्मा को तुम्हारी प्रर्थाना करेगें उस भगवान से
आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से।

– गरीना बिश्नोई

Aaj le li hai  Vidai kisi ne apne  pariwaar aur jhaan se
Puri Hukumat thi unki jung mein jina aata tha unhe shaan se
Aaj le li vidai kisi ne apne pariwar se aur jhaan se
Bas yaado mein reh gaya basera badi dur ho gya ab ghar tera
Fir nai hoga mere ghar fera sapno mein yaad aayega
Humko bas ek tera chehara bas yaadon mein reh gaya basera
Badi dur ho gya ghr tera dil ka aagain kar gye suna
Tum to they bargad ka podha hum sab to they eska tana
Shanti de aatma ko tumhari prathana krege us bhagwaan se
Aaj le li hai vidai kisi ne apne pariwaar aur jhaan se

-Garina Bishnoi