Poem on Death

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Hindi Poem on Fear of Death-Mrityu Ka Bhaya

मृत्यु का भय

जब बुढ़ापा आता है,

मृत्यु का भय सताता है।

कल रहूँ या ना रहूँ ,

हर पल डराता है!

जब बुढ़ापा आता है ।।

जो आता है वह जाता है,

प्रकृति ऐसे नियम क्यों बनाता है??

इस नियम को वह तोड़ता क्यों नहीं?

“मृत्यु कि दिशा” को मोड़ता क्यों नहीं??

जब बुढ़ापा आता है,

शरीर को मरियल बना जाता है, “

हड्डियों को कमज़ोर, दाँतो का साथ” तक छूट जाता है!

जब बुढ़ापा आता है,

मृत्यु का भय सताता है।।

मृत्यु को कभी रोका नहीं जा सकता ,

प्राकृतिक नियमों को बदला नहीं जा सकता,

मृत्यु तो एक नए जीवन का पैग़ाम है!!!

इसलिए “हर प्राणी कुछ दिनों का ही मेहमान है” ।।

-आदित्य कुमार

Hindi Poem on Death-अन्तिम विदाई

आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से
पूरी हुकूमत थी उनकी जग में जीना  आता था उन्हें शान से
आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से।
बस यादों में रह गया बसेरा बड़ी दूर हो गया घर अब तेरा
फिर नहीं होगा मेरे घर तेरा फेरा सपनों में याद आएगा
हमको बस एक तेरा चहरा बस यादों में रह गया बसेरा
बड़ी दूर हो गया घर अब तेरा। दिल का आँगन कर गये सुन्ना
तुम तो थे बरगद का पौधा हम सब तो थे इसका तना
शांति दे आत्मा को तुम्हारी प्रर्थाना करेगें उस भगवान से
आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से।

– गरीना बिश्नोई

Aaj le li hai  Vidai kisi ne apne  pariwaar aur jhaan se
Puri Hukumat thi unki jung mein jina aata tha unhe shaan se
Aaj le li vidai kisi ne apne pariwar se aur jhaan se
Bas yaado mein reh gaya basera badi dur ho gya ab ghar tera
Fir nai hoga mere ghar fera sapno mein yaad aayega
Humko bas ek tera chehara bas yaadon mein reh gaya basera
Badi dur ho gya ghr tera dil ka aagain kar gye suna
Tum to they bargad ka podha hum sab to they eska tana
Shanti de aatma ko tumhari prathana krege us bhagwaan se
Aaj le li hai vidai kisi ne apne pariwaar aur jhaan se

-Garina Bishnoi