Tag Archives: hindi kavita jeevan

Hindi Poems on Life- ज़िन्दगी का तज़ुर्बा


बे क़दरों  में रहे हम

बे क़दरों में रहे हम
क़दर हमें अपनी ही न थी
कदरदानों में जाके देखा
इतने बुरे तो हम भी नहीं
सजती है मेरी शिरक़त से आज महफ़िल
इतनी ऊँची क्या पता था
ज़िन्दगी का तज़ुर्बा यह मुक़ाम देगा
दौर हम पे ऐसे भी गुज़रा है
ए हसीन जब बाज़ार से आँखे भर कर
खाली हाथ लौट आये करते थे हम

-हसीन कुरेशी


Bekadron mein rahe hum
Qadar humein apni hi na thi
Qadrdano main jake dekha
Itne bure toh hum bhi nahi
Sajati hai meri shiraqt se aaj mehfheel
Inti oonchi kya pata tha
Zindagi ka tajurba yeh muqam dega
Daur hum pe aisa bhi guzara hai
Aye haseen jab bazaar se aankhein bhar kar
Khali haath laut aya karte the hum

-Hasin Qureshi

Advertisements

Hindi Poems on Life-कुछ कर जाओ


कुछ कर जाओ अपने मुकाम को पाने के लिए
एक बेटी हो आप- घर की जान हो तुम
अगर आप टूट जाओ तो शरीर का क्या होगा
एक बेटे हो आप- घर का अभिमान हो तुम
अगर आप टूट जाओ , तो आपके गर्व का क्या होगा
एक पिता हो आप- पूरे परिवार की सांस हो तुम
अगर आप रुक जाओ, तो सभी अंगों का क्या होगा
एक माँ हो आप- माँ का रिश्ता सबसे उपर
जो इन सब टूटे हुए को, जोड़ देती है
जीवन बस आपका है, उस जीवन मे बस आप हो,
मेरे मित्रो कभी रुको ना, कभी थको ना जीवन बस आपका है
उस जीवन मे बस आप हो

– योगेश यादव

Kuch kar jao apne mukaam ko pane k liye
Ek beti ho aap, ghar ki jaan ho tum
Agar aap tut jao to shareer ka kya hoga
Ek bete ho aap , ghar ka abhimaan ho tum
Agar aap tut jao to aapke garav ka kya hoga
Ek pita ho aap, pure pariwar ki saans ho tum
Agar aap ruk jao to sabhi angon ka kya hoga
Ek maa ho aap, maa ka rishta sabse upar
Jo en sab tute hue ko jod deti hai
jeevan bas aapka hai us jeevan me bss aap ho
Mere mitro kabhi ruko na, kabhi thako na jeevan bas aapka hai
Us jeevan me bas aap ho

-Yogesh Yadav

Hindi Poem on Life – Jeevan Kram


klong-prao-beach-2071238_960_720

जीवन क्रम
हर पल हमें कुछ
सिखाती है ज़िन्दगी
भेद हर रिश्ते का
बताती है ज़िन्दगी
फँस माया के जाल में
रहते मद से चूर है हम
खुल जाती है आँख कभी तो
असलियत कई बार
दिखती है ज़िन्दगी
नहीं ज़रूरी
हर रास्ता हो गुलज़ार
कभी काँटों की चुभन भी
महसूस कराती है ज़िन्दगी
गहरा है रिश्ता बहुत
फूल और काँटों का
मेल उनका भी कभी
दर्शाती है ज़िन्दगी
जीवन के हर पहलू से
वाकिफ कराती है ज़िन्दगी
भूले रहते हैं
दिन और रातों में हम
सच्चाई जीवन की
बताती है ज़िन्दगी
सामना तूफानों से हो जाता है अक्सर
बहारों और फिज़ाओं का ही
नाम है ज़िन्दगी
फ़िज़ाएं एक सी रहती नहीं
कभी धुप तो
कभी छाँव है ज़िन्दगी
हसीं मंज़ाओं में कभी
खो जाते हैं हम
कभी पतझड़ का मौसम भी
लाती है ज़िन्दगी
इस जीवन में
हर चीज़ के पहलु हैं दो
कभी रुलाती
तो कभी हंसाती है ज़िन्दगी
समझ पाएं कभी
जो जीवन क्रम को हम
तो बस आने और जाने का
नाम है ज़िन्दगी
-किरण गुलाटी