Tag Archives: Hindi Poem on Politics and Power

Hindi Poem on Politics and Power-भारत के युवा


हम भारत के युवा हैं हम बदल सकते हैं इतिहास पुराना
हम इतिहास नया रच सकते हैं हम भारत के युवा हैं
हम वो तूफान हैं जो राजनीति को नई परिभाषा देंगे
हम वो हैं जो देश को नया स्वरूप देंगे
हम वो आग हैँ जो जलाकर राख़ कर देंगे भ्रष्टाचार फैलाने वाले उन सियारों को
जो लूट रहे देश को चोला ओढ़े शरीफों का, हम भारत के युवा हैं
देश का अभिमान हम बनायेंगे ,देश के ललकार हम बनेंगे
देश की हर बुलन्द आवाज़ हम बनायेंगे देश के रक्षक हम बनेगें
हम भारत के युवा हैं हम वो रौशनी बनायेगें वो वो प्रकाश बनायेगें
जिससे दूर होगा अंधेरा पल में देश का हम भारत के युवा हैं
भारत का स्वाभिमान हम बनेगें जय भारत जय भारतीय युवा .

-कीर्तिदेव

Hum Bharat ke yuva hai, Hum badal sakte hai itihas Purana,
Hum itihas naya rach sakte hai, Hum Bharat ke yuva hai,
Hum Bharat ke yuva hai. Hum vo tufaan hai,
Jo rajneeti ko nyi ek paribhasha denge, Hum to vo hai ,
Jo desh ko naya svaroop denge, Hum vo aag hai ,
Jo jalakar rakh kar denge Bhrashtachar felane vale un siyaro ko,
Jo loot rhai desh ko chola audhe sharifo ka, Hum Bharat ke yuva hai.
Desh ka aabhiman hum banenge, Desh ki lalkar hum banenge,
Desh ki hr buland aavaj hum banenge, Desh ke rakshak hum banenge,
Hum Bharat ke yuva hai. Hum vo roshni banenge,vo prakash banenge,
Jisse dur hoga aandhaira pal hai desh ka, Hum Bharat ke yuva hai,
Bharat ka svabhiman hum banenge. “Jay Bharat ,jay bhartiy yuva”

– Kirtidev

Hindi poem on India-देश का दुश्मन


देश का दुश्मन वही नहीं होता है
जो सीमाओं पर हमला करता है
जो आतंक फैलाता है स्मगलिग करता है।
देश का दुश्मन वह भी होता है
जो विकास की फाईले लटकाता है
विकास के नाम पर गावों को उजाड़ता है
दवाओं के अभाव मे बच्चो को मारता है
शिक्षा -स्वास्थ्य के मौलिक हक को व्यापार बनाता है
युवाओ के हाथो से काम छीनता है
देशवासियो के जाति-धर्म के शब्द बीनता है

-पुलस्तेय 

Desh ka dushman vaahee nahin hota hai
Jo seemaon par hamala karata hai
jJo aatank phailata hai meglig karata hai
Desh ka dushman vah bhee hota hai
Jo vikaas kee phaeele latakaata hai
Vikaas ka naam par gaavon ko ujaadata hai
Davaon ke abhaav mein bachcha ko maarata hai
Shiksha-svasth ka mool hak ko vyaapaar banaata hai
Yuvaon ke haathon se kaam chheenate hain
Deshavaasiyon ke jaati-dharm ke shabd binata hai.

-Pulsatey

Hindi poem on India – तुम लौट के अब न आना


यहाँ बसते हैं सब धर्मों के इंसा
तुम घर सरहद पे बना लेना तहज़ीब
मेरे हिंदुस्तान की ज़रा उनको भी सिखा देना
आईना वो रखना साथ अपने इस पार जो देखें तो
उस पार चमक जाना खुशबू से
मेरे देश की मिट्टी की उनको भी महकना
भूख-प्यास हम सह लेंगे आन-शान तुमको हैं
बचना ये देश हैं वीरों का पीछे न तुम हट जाना
उम्मीद कम हो जब प्राण की तो मुस्कुराना
दिल के दर्द को होटो पे कभी न लाना टूट कर बिखर भी जाओ
अगर तुम ज़र्रा-ज़र्रा तो लौट के तुम न आना
तुम देश पे मर जाना हसरतें अह-ले-वतन की पूरी
तू करके जाना कफ़न तिरंगा हो तेरा लिपट के
उसमे आना तुम देश पे मर जाना,तुम देश पे मर जाना।।

-सलीम राओ

Yaha baste hai sab dharmo ke insa
Tum ghr sarhad ko bana lena tehzeeb
Mere hindustan ki zara unko bhi samjhana
Aaena vo rekhna saath apne is paar jo dekhe to
Us paar chamak jana khushboo se
Mere desh ki unko bhi mehkana
Bhookh pyas hm seh lege aan shaan tumko hai
Bachana ye desh hai veero ka piche na tum hat jana
Ummed jab kam ho jaan ki ti muskurana
Dil ke dard ko hoto pe kabhi na lana tut kar bikhar bhi jao
Agar tum zarra zarra to laut ke tum na aana
Tum desh pe mar jana hasrate ehle-e-vaten ki puri
Tu karke jana kafan tiranga ho tera lipat ke
Usme aana tum desh pe mar jana tum desh pe mar jana.

-Saleem Rao

Hindi Poem on Politics and Power – सियासत एक जंग


bharat1

सियासत से आजाद हुआ भारत देश
आज सियासत मे उलझ रहा है
कभी गुलामी एक दौर बनकर गुजरा
आज असहिष्णुता का दौर चल रहा हैै।

भारत जाना जाता था अनेको नाम से
आज ‘हिन्दुस्तान’ न बोलने को कह रहा है
अनेको नारे लगाते थे लोग इस देश मे
आज ‘भारत माता की जय’ बोलने पर लड रहा है ।

कोई अखबारो मे छा चुका है
कोई छाने का प्रयास कर रहा है
खुद तो कुछ कर नही सकता
जो करता है उसकी आलोचना कर रहा है ।

कोई दुनिया के दौरे पर है
तो कोई भारत दौरे पर घुम रहा है
कोई अनेको योजनाएंं ला चुका है
तो कोई उन योजनाओ पर बहस कर रहा है।

कोई आरक्षण के खिलाफ लड़ रहा है
कोई आरक्षण के लिए लड़ रहा है
आन्दोलनो से घिरा है अपना देश
पूछता है आखिर क्या चल रहा है।

किसकी तारीफ और किस की बुराई करुं
यहां तो हर कोई अपना काम कर रहा है
यह सब देखकर इतना तो कह सकता हूं
भारत में सरेआम ‘fogg’ चल रहा है।

-नीरज चौरसिया

Siyatsat se aajad hua bharat deish
Aaj siyasat me uljh rha hai
Kbhi gulami ek daur bn kr gujra
aaj ashishnuta ka daur chal rha

Bharat jana jata tha aneko nam se
Aaj hindustaan na bolne ko kh rha hai
Aneko nare lgate they es deish me
Aaj bahrat mata ki jai bolne pr lad rha hai

Koi akhbaro main cha chuka hai
Aneko nare lgate they es deish me
Aneko nare lgate they es deish me
Aaj bahrat mata ki jai bolne pr lad rha hai

Koi duniya k daurei par hai
To koi bharat daurei pr ghum rha hai
Koi aneko yojnaye la chuka hai
To koi un yojnao pr bhas kar rha hai

Koi aarkshan k khlaf lad rha hai
Koi aarkhshan k liye lad rha hai
Aandolano se ghira hai apna deish
Phuchta hai aakhir kya chl rha hai

Kiski tarif aur kis ki burai krun
Yha to koi apna kam kr rha hai
Yh sb dekh k etna to kh skta hu
Barat me sreaam “fogg” chl rha hai

– Niraj Chaurasiya