Tag Archives: patriotic poems in hindi

Patriotic Hindi Poem-Desh


This slideshow requires JavaScript.

देश
मेरे देशवासियों अब तो नींद छोड़ो
दिनकर निकल गया है सवेर हो रहा है
दुनिया में हर तरफ भोर हो रही है
अज्ञानता की रातें कब की गुजर गई हैं
इस सोई हुई फ़िज़ा में एक ख्वाब दिख रहा है
देखो सूरज के तेज से आलोक आ रहा है
इस निकली हुई सुबह में ख्वाब आ रहा है
पूरब हो या और वो पश्चिम कब के जगे हुए है
एक हम हैं कि जो अब तक ख्वाबों में ही पड़े है
उठो नींद तोड़ो अब सुबह हो गयी है
देखो इन फ़िज़ाओं में कलियाँ खिली खिली हैं
सदियों से नींद में थे अबतक जो पीछे रह गए थे
सब दुनिया बदल रहे थे इधर हम आपस में लड़ रहे थे
अब उठो ख्वाब बदलो और बदलो ये नज़ारा
आसमां और धरा पर आगे हो हिन्दोस्ताँ हमारा
दुनिया को दिखा दो अब अपने मिट्टी की ताकत
पता उन्हें भी चलेगा जब वो जानेंगे हकीकत
-अलोक दूबे

Desh

Mere deshwasiyo ab to neend chodo

Dinkar nikal gaya hai savera ho raha hai

Duniya mei har taraf bhor ho rahi hai

Agyanta ki ratei kab ki guzar gayi hain

Is soyi hui fiza mein ek khwab dikh raha hai 

Dekho suraj ke tej se alok araha hai 

Is nikli hui subah mein khwab araha hai 

Purab ho ya aur wo paschim kab ke jage hue hain

Ek ham hain ki jo ab tak khwabon mein hi pade hain 

Utho neend todo ab subah ho gayi hai

Dekho in fizaon mein kaliyan khili khili hain

Sadiyon se neend mein the ab tak jo peeche reh gaye the

Sab duniya badalrahe the idhar ham apas mein lad rahe the

Ab utho khwab badlo aur badlo ye nazara

Asmaa aur dhara par aage ho hindustaa hamara

Duniya ko dikha do ab apne mitti ki takat

Pata unhein bhi chalega jab wo janenge haqiqat 

-Alok Dube (Poet)

 

Advertisements

Hindi poem on India-देश का दुश्मन


देश का दुश्मन वही नहीं होता है
जो सीमाओं पर हमला करता है
जो आतंक फैलाता है स्मगलिग करता है।
देश का दुश्मन वह भी होता है
जो विकास की फाईले लटकाता है
विकास के नाम पर गावों को उजाड़ता है
दवाओं के अभाव मे बच्चो को मारता है
शिक्षा -स्वास्थ्य के मौलिक हक को व्यापार बनाता है
युवाओ के हाथो से काम छीनता है
देशवासियो के जाति-धर्म के शब्द बीनता है

-पुलस्तेय 

Desh ka dushman vaahee nahin hota hai
Jo seemaon par hamala karata hai
jJo aatank phailata hai meglig karata hai
Desh ka dushman vah bhee hota hai
Jo vikaas kee phaeele latakaata hai
Vikaas ka naam par gaavon ko ujaadata hai
Davaon ke abhaav mein bachcha ko maarata hai
Shiksha-svasth ka mool hak ko vyaapaar banaata hai
Yuvaon ke haathon se kaam chheenate hain
Deshavaasiyon ke jaati-dharm ke shabd binata hai.

-Pulsatey

Hindi poem on India – तुम लौट के अब न आना


यहाँ बसते हैं सब धर्मों के इंसा
तुम घर सरहद पे बना लेना तहज़ीब
मेरे हिंदुस्तान की ज़रा उनको भी सिखा देना
आईना वो रखना साथ अपने इस पार जो देखें तो
उस पार चमक जाना खुशबू से
मेरे देश की मिट्टी की उनको भी महकना
भूख-प्यास हम सह लेंगे आन-शान तुमको हैं
बचना ये देश हैं वीरों का पीछे न तुम हट जाना
उम्मीद कम हो जब प्राण की तो मुस्कुराना
दिल के दर्द को होटो पे कभी न लाना टूट कर बिखर भी जाओ
अगर तुम ज़र्रा-ज़र्रा तो लौट के तुम न आना
तुम देश पे मर जाना हसरतें अह-ले-वतन की पूरी
तू करके जाना कफ़न तिरंगा हो तेरा लिपट के
उसमे आना तुम देश पे मर जाना,तुम देश पे मर जाना।।

-सलीम राओ

Yaha baste hai sab dharmo ke insa
Tum ghr sarhad ko bana lena tehzeeb
Mere hindustan ki zara unko bhi samjhana
Aaena vo rekhna saath apne is paar jo dekhe to
Us paar chamak jana khushboo se
Mere desh ki unko bhi mehkana
Bhookh pyas hm seh lege aan shaan tumko hai
Bachana ye desh hai veero ka piche na tum hat jana
Ummed jab kam ho jaan ki ti muskurana
Dil ke dard ko hoto pe kabhi na lana tut kar bikhar bhi jao
Agar tum zarra zarra to laut ke tum na aana
Tum desh pe mar jana hasrate ehle-e-vaten ki puri
Tu karke jana kafan tiranga ho tera lipat ke
Usme aana tum desh pe mar jana tum desh pe mar jana.

-Saleem Rao

Hindi Poem on Soldier-हे वीर जवानों!


sd

हे वीर जवानों! तुम सब कुछ हो,
फ़िर इस जग में और क्या है?
तुम से ही तो देश का अस्तित्त्व रहा,
तुम बिन इस जग में क्या नया है?
जियो चराचर तुम भारत के वीरों,
हम सब जन की उमर लग जाये।
शत-शत नमन करे हम सब तो,
प्यारे वीर जवान अमर हो जाये।
-सर्वेश कुमार मारुत

Hei veer jawano tum sab kuch ho
Fir es jag main aur kya hain
Tum se hi to desh ka aastitab rha
Tum bin es jag me kya nya hai
Jyo chrachar tum bharat k veero
Hum sab jan ki umar lag jaye
Shat shat naman kre hum sab to
Pyare veer jwan amar ho jaye
-Servesh Kumar Marut

Hindi poem on India – हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर


bharat-mataImage source: prernabharti.com

हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर,
लेकर यह अभियान चले।
अपनी जान हथेली पर हम,
तुझ पर होने बलिदान चले।
हम घट-घट के वासी हैं,
जो भी नज़र उठा चले।
हम वीर नहीं-हम वीर नहीं,
इसकी रक्षा करने मिलकर साथ चले।
रोम-रोम बस रोम-रोम,
बस यही हमें याद दिलाता है।
हम रह पाये या न रहें,
यह लेकर मन में प्रतिघात चले।
हमें प्रेम है प्यार बहुत है,
बलिहारी इस पर हम होने चले।
घात-घात है बात-बात है,
घात-बात पर अपना सिर चढ़ा चले।
यह देश नहीं-यह देश नहीं,
हम कहते इसको भारत माता।
जिसने देखा या घात किया,
उसको करने हम ख़ाक चले।
मित्र के साथ मित्रवत् बनें,
हन्त के साथ अरिहन्त बन चले।
देश का जवां बच्चा इस पर,
क्यों न न्यौछावर होना चाहे?
इसे देख सब अचरज में पड़े,
तथा हाथ मलते चले-मलते चले।
इसे देख ऐसा लगता सबको,
हम लोग नहीं सब हैं भारतवासी।
आओ नमन करें सब मिलकर,
जो रक्षा करते चलते चले-चलते चले।
हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर,
लेकर यह अभियान चले।
अपनी जान हथेली पर हम,
तुझ पर होने बलिदान चले।

-रचयिता- सर्वेश कुमार मारुत
Hei matarbhumi teri khatir
Lekar yeh abhiyaan chle
Apni jaan hathali par hum
Tujh par hone balidaan chle
Hum ght ght k basi hai
Jo bhi nazar utha chle
Jum veer nai hum veer nahi
Eski rksha krne mil kar sath chle
Rom rom bs rom rom
Bas yhi hum yaad dilata hai
Hum reh paye ya na rehe
Yeh lekar man me partighat chle
Hme prem hai pyar bhut hai
Balihari es par hum hone chle
Ghaat ghaat hai baat baat hai
Ghaat baat par apna seer chdha chle
Yeh desh nahi yeh desh nahi
Hum khte esko bharat mata
Jisne dekha ya ghaat kiya
Usko krne hum khak chle
Mitar ke sath mitrbat bne
Hant k sath arihant ban chle
Desh ka jwa bcha es par
Kyon na nyochawar hona chahe
Ese dekh sab achraz me pade
Ttha hath malte chle malte chle
Ese dekh esa lagta hai sabko
Hum log nahi sab hai bharat basi
Aao naman kre sab milkar
Jo rkhsha krte chlte chle chalte chle
He matrbhumi teri khatir
Lekar ye abhiyaan chle
Apni jaan hatheli par hum
Tujhpar hone balidaan chle

-Servesh Kumar Marut