Tag Archives: patriotic poems in hindi

Patriotic Hindi Poem-Desh

This slideshow requires JavaScript.

देश
मेरे देशवासियों अब तो नींद छोड़ो
दिनकर निकल गया है सवेर हो रहा है
दुनिया में हर तरफ भोर हो रही है
अज्ञानता की रातें कब की गुजर गई हैं
इस सोई हुई फ़िज़ा में एक ख्वाब दिख रहा है
देखो सूरज के तेज से आलोक आ रहा है
इस निकली हुई सुबह में ख्वाब आ रहा है
पूरब हो या और वो पश्चिम कब के जगे हुए है
एक हम हैं कि जो अब तक ख्वाबों में ही पड़े है
उठो नींद तोड़ो अब सुबह हो गयी है
देखो इन फ़िज़ाओं में कलियाँ खिली खिली हैं
सदियों से नींद में थे अबतक जो पीछे रह गए थे
सब दुनिया बदल रहे थे इधर हम आपस में लड़ रहे थे
अब उठो ख्वाब बदलो और बदलो ये नज़ारा
आसमां और धरा पर आगे हो हिन्दोस्ताँ हमारा
दुनिया को दिखा दो अब अपने मिट्टी की ताकत
पता उन्हें भी चलेगा जब वो जानेंगे हकीकत
-अलोक दूबे

Desh

Mere deshwasiyo ab to neend chodo

Dinkar nikal gaya hai savera ho raha hai

Duniya mei har taraf bhor ho rahi hai

Agyanta ki ratei kab ki guzar gayi hain

Is soyi hui fiza mein ek khwab dikh raha hai 

Dekho suraj ke tej se alok araha hai 

Is nikli hui subah mein khwab araha hai 

Purab ho ya aur wo paschim kab ke jage hue hain

Ek ham hain ki jo ab tak khwabon mein hi pade hain 

Utho neend todo ab subah ho gayi hai

Dekho in fizaon mein kaliyan khili khili hain

Sadiyon se neend mein the ab tak jo peeche reh gaye the

Sab duniya badalrahe the idhar ham apas mein lad rahe the

Ab utho khwab badlo aur badlo ye nazara

Asmaa aur dhara par aage ho hindustaa hamara

Duniya ko dikha do ab apne mitti ki takat

Pata unhein bhi chalega jab wo janenge haqiqat 

-Alok Dube (Poet)

 

Hindi poem on India-देश का दुश्मन

देश का दुश्मन वही नहीं होता है
जो सीमाओं पर हमला करता है
जो आतंक फैलाता है स्मगलिग करता है।
देश का दुश्मन वह भी होता है
जो विकास की फाईले लटकाता है
विकास के नाम पर गावों को उजाड़ता है
दवाओं के अभाव मे बच्चो को मारता है
शिक्षा -स्वास्थ्य के मौलिक हक को व्यापार बनाता है
युवाओ के हाथो से काम छीनता है
देशवासियो के जाति-धर्म के शब्द बीनता है

-पुलस्तेय 

Desh ka dushman vaahee nahin hota hai
Jo seemaon par hamala karata hai
jJo aatank phailata hai meglig karata hai
Desh ka dushman vah bhee hota hai
Jo vikaas kee phaeele latakaata hai
Vikaas ka naam par gaavon ko ujaadata hai
Davaon ke abhaav mein bachcha ko maarata hai
Shiksha-svasth ka mool hak ko vyaapaar banaata hai
Yuvaon ke haathon se kaam chheenate hain
Deshavaasiyon ke jaati-dharm ke shabd binata hai.

-Pulsatey