Tag Archives: Hindi kavita

Hindi Poem on Flattery-चापलूसी एक कला है

चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार ,प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियोंके लिए बला है ।
बॉस के पहले जो ऑफिस पहुंच जाएं,
उनके कार के सामने हाथ जोड़ खड़े हो जाए
मुस्कुराकर बस यही जता जाए
कि हम से अधिक ईमानदार आप कोई न पाए
हर क्षण मुस्कुराकर बॉस के चरणों में जो झुक जाए
बॉस के आस -पास गुड पर मक्खी की तरह मंडराये
बिना कारण बॉस के ऑफिस के चक्कर लगाए
सचमुच चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार ,प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियों के लिए बला है ।
इनका होता है केवल एक ही काम
सुबह- शाम जी हुजूरी और यस मैम
बॉस की प्रशंसा कर उसे लुभाना
औरों के सामने एडे बनकर पेडे खाना इनका न होता
कोई धर्म और ईमान चापलूसी का तो बस एक ही भगवान
उच्चाधिकारियों की जय -जयकार और गुणगान
ये तो होते हैं केवल कुर्सी के गुलाम
जो बैठे हैं कुर्सी पर उसी को ठोकते हैं सलाम
सचमुच चापलूसी एक कला है
जो ईमानदार प्रतिभाशालीं और बुद्धिजीवियोंके लिए बला है l
होती हैं इनकी आँखों में चालाकी
और होठों पर मंद- मंद मुस्कान
दूसरों के मन की बात निकालने में ,
ये होते हैं विद्वान
मीठी बोली और मन में कटुता
यही इनकी पहचान
बॉस के पसंद नापसंद का
लगा लेते हैं ये झट से अनुमान
चापलूसी के बल पर कब तक टिकेगी इनकी ये झूठी शान ?
तलवे चाट कर कब तक बने रहेंगे
ये महान ?
एक ना एक दिन तो होगी प्रतिभा की पहचान
छोड़ो चाटुकारिता और चापलूसी की ये झूठी शान
अब तो कर लो ऊपर वाले का ध्यान
अब तो छोड़ो जी हुजूरी और बढ़ाओ अपना ज्ञान
बनकर बुद्धिजीवी और प्रतिभाशाली पाओ जगत में मान और सम्मान।

-अनुपमा

 

Chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye bala hai .
Boss ke pahale jo office pahunch jaye,
Unake car ke saamane hath jod khade ho jaye
Muskuraakar bas yahi jataia jaye
Ki hum se adhik imanadar aap koi n paye
Har kṣaṇa muskurakar boss ke charaṇaon mein jo jhuk jaye
Bosske aas -paas guḍa par makkhee kee tarah mnḍaaraaye
Binaa kaaraṇa bosske ŏfis ke chakkar lagaye
Sach much chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye balaa hai .
Inakaa hota hai keval ek hi kaam
Subah- shaam jee hazori aur yes mam
Boss ke prashnsa kar use lubhana
Auron ke saamane eḍae banakar peḍae khaanaa
Inakaa n hotaa koi dharm aur imaan
Chapalusi ka to bas ek hi bhagawaan
Uchch aadhikaariyon ki jay -jayakaar aur guṇagaan
Ye to hote hain keval kursee ke gulaam
Jo baiṭhe hain kursi par use ko ṭhokate hain salaam
Sach much chapalusi ek kala hai
Jo imanadar ,pratibhashalen aur buddhijeeviyonke liye bala hai .
Hote hain inake aankhon mein chalake
Aur hoṭhon par mnd- mnd muskaan
Doosaron ke man ki baat nikalane mein ,
Ye hote hain vidvaan
Meeṭhe bole aur man men kaṭuta
Yahi inake pahachaan
Boss ke pasand naapasnd ka
Laga lete hain ye jhaṭ se anumaan
Chapalusi ke bal par kab tak ṭikegi inake ye jhooṭhe shaan ?
Talave chaaṭ kar kab tak bane rahenge
Ye mahan ? Ek na ek din to hoge pratibhaa ke pahachaan
Chhodo chaaṭukaarita aur chapalusi kee ye jhooṭhi shaan
Ab to kar lo upar wale ka dhyaan
Ab to chhodo ji hazori aur baḍhao apanaa gyaan
Banakar buddhijevi aur pratibhashalen pao jagat mein maan aur samaan.

-Anupama

Hindi Poem on Book – मैं एक किताब हूँ

तो अम्बर सी ऊंचाई भी है,
एक ख्वाबों की दुनिया है
तो अत्यधिक सच्चाई भी है
इतिहास समेटू चंद पन्नों पर
तो आज का आइना भी दिखलाऊँ मैं,
रहती हूँ खामोश तो अक्सर
मगर भविष्य भी बन जाऊँ मैं
हर विकास की जड़ भी मैं
तो समस्त शिक्षित की नींव हूँ,
किसी के लिए समस्या बनूँ
तो किसी के लिए समाधान भी हूँ
व्यक्त न हो पाएं जज़्बात जो
उनके लिए वक्ता भी हूँ,
हर पीड़ा की दवा हूँ
तो हर धनवान का स्त्रोत भी हूँ
परम मित्र भी बन जाऊँ मैं
सर्वश्रेष्ठ सलाहकार हूँ,
अकेलेपन की साथी भी हूँ
हाँ, ऐसी मैं एक किताब हूँ 

-आकांक्षा भटनागर

To ambar si unchai bhi hai,
Ek khwaabon ki duniya hai
To atyadhik sacchai bhi hai.
Itihaas sametu chand panno par
To aaj ka aaina bhi dikhlau main,
Rehta hun khamosh to aksar
Magar bhavishya bhi ban jau main.
Har vikas ki jad bhi main
To samast sikshit ki neev hun,
Kisi ke liye samasya banu
To kisi ke liye samadhan bhi hun .
Vyakt na hopaye jazbaat jo
Unke liye vaktaa bhi hun,
Har peed ki dava hun
To har dhanban ka strot bhi hun.
Param Mitra bhi banjau main
Sarvshresth salahkar hun,
Akelepan ki sathi bhi hun
Haan , aise main ek kitab hun.

-Akanksha Bhatnagar