Tag Archives: patriotic poem

Hindi poem on India-देश का दुश्मन


देश का दुश्मन वही नहीं होता है
जो सीमाओं पर हमला करता है
जो आतंक फैलाता है स्मगलिग करता है।
देश का दुश्मन वह भी होता है
जो विकास की फाईले लटकाता है
विकास के नाम पर गावों को उजाड़ता है
दवाओं के अभाव मे बच्चो को मारता है
शिक्षा -स्वास्थ्य के मौलिक हक को व्यापार बनाता है
युवाओ के हाथो से काम छीनता है
देशवासियो के जाति-धर्म के शब्द बीनता है

-पुलस्तेय 

Desh ka dushman vaahee nahin hota hai
Jo seemaon par hamala karata hai
jJo aatank phailata hai meglig karata hai
Desh ka dushman vah bhee hota hai
Jo vikaas kee phaeele latakaata hai
Vikaas ka naam par gaavon ko ujaadata hai
Davaon ke abhaav mein bachcha ko maarata hai
Shiksha-svasth ka mool hak ko vyaapaar banaata hai
Yuvaon ke haathon se kaam chheenate hain
Deshavaasiyon ke jaati-dharm ke shabd binata hai.

-Pulsatey

Advertisements

Hindi Poem on Soldier-हे वीर जवानों!


sd

हे वीर जवानों! तुम सब कुछ हो,
फ़िर इस जग में और क्या है?
तुम से ही तो देश का अस्तित्त्व रहा,
तुम बिन इस जग में क्या नया है?
जियो चराचर तुम भारत के वीरों,
हम सब जन की उमर लग जाये।
शत-शत नमन करे हम सब तो,
प्यारे वीर जवान अमर हो जाये।
-सर्वेश कुमार मारुत

Hei veer jawano tum sab kuch ho
Fir es jag main aur kya hain
Tum se hi to desh ka aastitab rha
Tum bin es jag me kya nya hai
Jyo chrachar tum bharat k veero
Hum sab jan ki umar lag jaye
Shat shat naman kre hum sab to
Pyare veer jwan amar ho jaye
-Servesh Kumar Marut