Tag Archives: Life Hindi Poem

Hindi Poems on Life – चौराहा राह भटक गए


चौराहा राह भटक गए राह भटकते है
चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
एक रास्ता हो तो चले,आखिर कितने रास्ते चले।
मंजिल भी तो तय नही, किसके वास्ते चले।
इस चौराहे के हर रास्ते अलग मंजिल दर्शाते हैं।
कुछ लोग तो मंजिल पहुंचकर भी वापस लौट आते है।
ये अनजाने रास्ते मन को खटकते है।
राह भटक गए राह भटकते है।
ये अनजाने रास्ते और और कई सारे है
इनमे चलते चलते चलते हां… हम हारे है।

एक रास्ता,दो रास्ते राहगीर को परेशान कर देती राहे है।
मंजिल सामने फिर भी उसे ढूढती निगाहे है।
इन निगाहों कि तड़प को जानता है
हम सच भी कहे कौन मानता है
इस मंजिल को देखने के लिए आँखे तरसती है
कभी कभी तो बादलो की तरह बरसते है
वो तब जब राह भटकते है

चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
जिंदगी चार दिन की है चलते चलते गुजर जाएगी
जब हम आपसे दूर हो जाएंगे तब हमारी याद आएगी
मेरी चाहत बदलो सी है जिन्हें राहत मिलती नही ।
और मुस्कान……….. मुस्कान है
कांटो सी जो कभी खिलती नही।
कई तरह के सपने लेकर चैराहे में खड़े है।
कौन सा रास्ता सही रहेगा इसी सोच में पड़े है।
मंजिल डर नही हमारी मजबूरी है
एक रास्ता चुनना और उसमें चलना भी तो जरूरी है।

-संतोष

Chauraha raah bhatak gye raah bhtakte hai
Chauraha bhi aaye jo man ko khatkte hai
Ek rasta ho to chle, aakhir kitne raste chle
Manzil bhi tay nahi kiske vaste chale
Es chaurahe ke har raste alag raste alag manzil darshate hai
Kuch log to manzil phuch kar bhi bapis laut aate hai
ye anjane raste man ko khatkte hai
Raahbhatak gye raah bhatkte hai
Ye anjane raste aur kai sare hai
Enme chalte chalte haan hum hare hai

Ek rasta, do raste rahgeer ko pareshan kar deti hai
Rahe hai manzil samne fir bhi use dhundti nigaahe hai
En nigahoon ki tadap ko janta hai
Hum such bhi kahe kon manta hai
Es manzil ko dekhne ke liye aankhei tarsti hai
Kabhi to badlon ki tarh barsti hai
Wo tab jab raah bhatkte hai

Chaurahe bhi aaye jo man ko khatkte hai
Zindagi char din ki hai chalte chalte guzar jayegi
Jab hum aapse dur ho jayenge tab humari yaad aayegi
Meri chahat badlon si hai jinhe rahat milti nahi
Aur muskaan muskaan hai
Kanton si jo bhi khilati nhi
Kai tarh ke sapne lekar chaurahe me khade hai
Kon sa rasta sahi rhega yahi soch me pade hai
Manzil dar nahi hmari majburi hai
Ek rasta chunna aur chalna bhi to jaruri hai

-Santosh

Hindi Poems on Positive Attitude – तनहाई की महफ़िल


तनहाई की महफ़िल में मुस्काना नहीं सीखा
नाजुक फूलों सा कभी मुरझाना नहीं सीखा

टूटा हूँ बहुत लेकिन गिर-गिर के सम्भला हूँ
कैसी भी हो राह मगर रुक जाना नहीं सीखा

भूल गए वो लोग जिनका साथ दिया हर पल
उनकी तरह मैंने अहसान जताना नहीं सीखा

कड़वा सच बोलता हूँ भले नफरत करे जमाना
झूठी तसल्ली देकर कभी समझाना नहीं सीखा

सताया बहुत था कभी इस ज़माने ने फिर भी
अनजाने में दिल किसी का दुःखाना नहीं सीखा

आँखे भी बयाँ कर देती हैं दिल की सारी बातें
कुछ बातों को लफ्जो ने मेरे बताना नहीं सीखा

दिल लगता है एक बार ही दुनियाँ में किसी से
इस दिल को मैंने बार-बार लगाना नहीं सीखा।

– राहुल रेड

Tanhai ki mehfil me muskana nahi seekha
Nazuk phoolon sa kabhi murjhana nahi seekha

Toota hoon bhut lekin gir gir ke sambhla hoon
Kaisi bhi ho rah magar ruk jana nahi sikha

Bhul gaye wo log jinka sath diya har pal
Unki tarah maine ehsaan jatana nahi seekha

Kadwa sach bolta hoon bhale nafrat kare jamana
Jhuthi tasalli de kar kabhi samjhana nahi seekha

Sataya bahut tha kabhi iis jamane ne fir bhi
Anjane me dil kisi ka dukhana nahi seekha

Aankhein bhi bayan kar deti hai dil ki sari batein
Kuch baton ko lafzo ne mere batana nahi sikha

Dil lagta hai ek bar hi duniya me kisi se
iis dil ko maine bar bar lagana nahi seekha

– Rahul Red

Hindi Poem on Courage – जिंदगी की जंग


जिंदगी की जंग जीत जाने की हिम्मत तो है
रोजगार ना सही पर कमाने की हिम्मत तो है

वक्त बेवक्त मिले फिर भी कोई गम नही
सूखी रोटी ही सही खाने की हिम्मत तो है

महलों में रहने की “राहुल” तेरी औकात नही पर
तिनका-तिनका जोड़, घर बनाने की हिम्मत तो है

डूब गयी पतवारें लेकिन हौसला अभी बाकि है
कश्ती को साहिल तक पहुँचाने की हिम्मत तो है

काट डालो जुबान चाहें शायर की आज तुम
हकीकत को कलम से बताने की हिम्मत तो है

सत्ता के गलियारों में भ्रष्ट सरकारों के खिलाफ
अकेली आवाज ही सही उठाने की हिम्मत तो है

– राहुल रेड

Zindgi ki jung jitne ki himmat to hai
Rozgar na shi par kmane ki himmat to hai

Waqt bewaqt mile fir bhi koi gum nahi
Sukhi roti hi shi khane ki himmat to hai

Mehlonme rhne ki rahul teri aukaat nahi par
Tinka tinka jod kar ghr bnane ki himmat to hai

Dub gai patware lekin hosla abhi baki hai
Kashti ko sahal tk phuchane ki himmat to hai

Kaat dalo juban chahe shayr ki aaj tum
Hakikat ko kalam se btane ki himmat to hai

Stta ke galiyaro mein bhrast sarkaro ke khilaf
Akeli aawaj hi shi uthane ki himmat to hai

– Rahul Red