Tag Archives: poem on social issues in hindi

Hindi Poem on Social Issues-Mahattvakankshi


महत्वाकांक्षी (कविता का शीर्षक)
हाँ मुझे सराहना चाहिए
मैं अच्छा या बुरा लिखूँ
गोडसे को देशभक्त कहूँ
या गांधी को महत्वाकांक्षी
क्योंकि मैं महत्वाकांक्षी हूँ
मैं प्रेमचंद नहीं
जो समाज पर लिखें
मैं प्रेम प्रसंग पर लिखूंगा
जो युवा पढ़ेंगे
और जो मेरी महत्वाकांक्षाओं को तेज़ी देगें
मैं मंदी पर नहीं लिखूंगा
क्योंकि मुझे सरकारी भत्ता भी चाहिए
बेरोज़गारी पर लिखने से दूर रहता हूँ
क्योंकि इससे मेरे रोज़गार पर खतरा आता है
मैं बहुत महत्वाकांक्षी हूँ
फिर भी लिखता रहता हूँ|
-शुभम ठाकुर (कवि का नाम)

English Translation:

Mahattvakanshi (Ambitious) (Title of Poem)

Haan, mujhe sarahna chahiye (Yes, I need appreciation),

Main acha y abura likhu (Whether I write good or bad)

Godse ko deshbhakt kahu (Whether I call Godse a nationalist)

Ya Gandhi ko mahattvakanshi (Or Gandhi also ambitious)

Kyonki main mehattvakanshi hu (Because I am ambitious)

Main Premchand nahi (I am not Premchand)

Jo samaj par likhe (Who writes on society)

Main prem prasang par likhunga (I will write on love affairs)

Jo yuva padhenge (Which will be read by the youth)

Aur jo mere mahattvakankshaon ko tezi denge (And who will help me in becoming great quickly)

Main mandi par nahi likhunga (I will not write on economic recession)

Kyonki mujhe sarkari bhatta bhi chahiye (Because I need government allowance)

Berozgari par likhne se door rehta hoon (I stay away from writing on unemployment)

Kyonki is se mere rozgar par khatra ata hai (Because it may risk my own employment)

Main bahut mahattvakankshi hu (I am very ambitious)

Phir bhi likhta rehta hoon (But I still keep writing)

-Shubham Thakur (Poet)

Hindi Poem on Corruption-आचार जिनके भ्रष्ट हैं


fifa-3458063__340.jpg

आचार जिनके भ्रष्ट हैं,
विचार जिनके भ्रष्ट हैं,
काले धन को जमा कर,
व्यापार जिनके मस्त हैं।
कर रहे प्रहार नमो,
पकड़कर जिनकी नब्ज़ को,
वे सभी भ्रष्टाचारी आज,
सरकारी नियमों से त्रस्त हैं।
सर्जिकल स्ट्राइक से जो,
मस्त घूमते थे आतंकी,
वे सभी आजकल ,
अपने देश में भी भयग्रस्त हैं।
जनधन औऱ उज्ज्वला से,
जिन्होंने महिलाओं को सशक्त किया,
उन युग पुरुष के मन को सुनने,
आज पूरा देश व्यस्त है।

– मयंक गुप्ता

Aachar jinke bhraṣṭ hain
Vichar jinke bhrast hain
Kale dhan ko jama kar
Vyapar jinke mast hain
Kar rahe parhaar namo
Pakad kar jinki nabaz ko
Ve sabhi bharstachari aaj
Sarkari niyamo se tryast hai
Surgical strike se jo
Mast ghumte they aatnki
Ve sabhi aajkal
Apne desh mein bhi bhyagarst hain
Jandhan aur ujwala se
Jinhone mahilayon ko sshakt kiya
Un yug pursh ke man ko sunne
Aaj pura desh vyast hai

-Mayank Gupta