Hindi poem on dreams

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Motivational Poem in Hindi-Sapna

जिंदगी में जब तू हार गया
बचा न कुछ भी अपना है
रहेगी अंतिम सांस तक जो
कुछ है तो तेरा सपना है।

हँसेंगे लोग तेरे सपने पे
खींचकर भी कोई गिरायेगा
हार न मानना इन मुश्किलों से कभी
हर मंजिल फतह कर दिखाना है
रहेगी अंतिम सांस तक जो 
कुछ है तो तेरा सपना है।

हार पराजय मुश्किलों को
अगर पकड़ तू रोता रहा
छूट जायेगी जिंदगी से ओ भी पल
जो तेरे पास पड़ा खजाना है
रहेगी अंतिम सांस तक जो
कुछ है तो तेरा सपना है।

लहरों से लड़कर जो जीता
ओ सिंधु में गोता लगायेगा
भर -भर झोला सपनों के मोती 
बाहर वो ले आयेगा
सपने बड़े होतें हैं जिनके
खोना भी उतना पड़ता है
रहेगी अंतिम सांस तक जो 
कुछ है तो तेरा सपना है।

-रंजन कुमार सिंह

Hindi Poem on Woman Aspirations – मैं क्यों ना चाहूँ

woman

इतनी आबादी में रहना आज़ादी से,
मैं क्यूँ न चाहूँ
पंछियों सी उडक़र बादलों को चूना
मैं क्यूँ न चाहूँ
लड़कों सा मैं भी हर जगह घूमना
तारों से अलग चाँद की तरह चमकना
पर्वतों का आरोहण सपना बने मेरा
विदेशों में जा कर पढ़ना मैं क्यों न चाहूँ
इन सारे सवालों के जबाब मैं क्यों न चाहूँ
जनता है आसमान और ज़मीन
हमें नहीं है कोई कमी
फिर क्यों इतनी आबादी में रहना आजादी से
मैं क्यू न चाहूँ

– अनुष्का सूरी

 

Itni aabadi me rahna aajadi se,
Mai q na chahun.
Panchiyon si udkar badlon ko chuna
Mai q na chahun.
Ladkon sa mai bhi har jagah ghumna,
Taron se alag chand ki tarah chamakana,
Mai q na chahun.
Parwaton ka aarohan sapna bane mera,
Videshon me jakar padhna mai q na chahun.
In sare sawalon ke jawab mai q na chahun.
Janta hai aasman aur jamin
Hamme nahi hai koi kami,
Phir q itni aabadi me rahna aajadi se,
Mai q na chahun.

– Anushka suri