Tag Archives: Hindi poem for kids

Hindi Poem on Onion-प्याज़ पर कविता


onion-pyaz

गुलाबी है इसका छिलका बाहर
काटो इसे तो बहें अश्रु हज़ार
जैनी ब्राह्मण वैष्णव करते ना ना
न हो पाए इसका सेवन रोज़ाना
दाल सब्ज़ी में लगे इसका तड़का
ये है सलाद में कच्चा भी पड़ता
बताओ ज़रा कौन है ये हमराज़
जी हाँ ये है पौष्टिक प्याज़
-अनुष्का सूरी

How to read:

Gulabi hai iska chilka bahar

Kato ise to bahein ashru hazaar

Jaini, Brahman, Vaishnav karte na na

Na ho paye iska seva rozana

Dal sabzi mein lage iska tadka

Ye hai salad mein kaccha bhi padta

Batao zara kaun hai ye humraz

Ji haan ye hai paushtik pyaz

-Anushka Suri

English Translation:

It is a pinkish peel on its outer surface

When you cut it, tears flow down your eyes involuntqrily

Jains, Brahmins and Vaishbava say no to this

They ensure that they do not consume it daily

It is used as a tadka (flavoring agent) in pulses and vegetable preparations

It is also consumed in its raw form in salad

Can you guess which friend is this one?

Yes, it is the healthy vegetable onion.

Notice: Unauthorized copying or reproduction of this content on any other platform such as social media, youtube, book, website or any other electronic or non-electronic source is not allowed. If you wish to share it, please either use the share button on this website or take prior permission from author. 

Advertisements

Hindi Poem on Dog- कुत्ते पर कविता


काला, भूरा , मटमैला ,सफ़ेद
तेज़ नाक करे अच्छे-बुरे में भेद
तीखे दाँत, भौंके तेज़
प्यार, सम्मान में न करे परहेज़
देख कर मालिक दुम हिलाए
मुँह से अपनी लार लगाए
कौन है ये प्यारा जन्तु ज़रा बतलाएँ
ये है कूकर जो कुत्ता भी कहलाए

-अनुष्का सूरी

How to read text:

Kala, bhura, matmaila, safed
Tez naak kare achhe-buray mein bhed
Teekhey daant, bhaunke tez
Pyar samman mein na kare parhez
Dekh kar malik dhum hilaye
Muh se apni laar lagaye
Kaun hai ye pyara jantu zara batayein
Ye hai kukar jo kutta bhi kahlaye

-Anushka Suri

English Translation:

Black, brown, off-white, white

A sharp sense of smell that differentiates between good and bad

Sharp teeth, barks loud

Does not shy from loving and respecting humans

Starts wagging its tail on seeing its owner

Licks you with all its saliva

Guess who is this lovable animal?

It is dog (called kukar and kutta in Hindi language)

 

 

 

Hindi Poem on Vegetable Okra – हरी हरी भिन्डी


okra

मैं हूँ हरी हरी
बीजों से कुछ कुछ भरी भरी
मैं हूँ गोल तिकोनो में सजी धजी
छोटी छोटी पतली पतली
लगाती हूँ सफ़ेद बिंदी
खाओ मेरी सब्जी बनाके
करो चित्रकारी
या मुझे रंग लगा के
पालन पोषण मैं हूँ करती
मैं हूँ ओकरा मैं नहीं डरती
लेना हो जो मेरा नाम हिंदी
तो कह दो चाहिए तुमको भिन्डी

-अनुष्का सूरी

Hindi Poem On Potato- मैं आलू हूँ


दिखने में भूरा हूँ Potato
शकल से भालू हूँ
हाँ मैं आलू हूँ
मुझे समोसे में है भरते
कभी कट्लेट बना के तलते
कभी मैं हूँ बैंगन का साथी
कभी मटर का साथ निभाता
कोई मुझे उबाल के खुश है
कोई है तलकर फ्रेंच फ्राइस बनाता
मेरे साथ पूरी कचौड़ी खाओ
मेरे परांठे लस्सी के साथ चबाओ
सब सब्जियों के साथ निभालूँ
हाँ मैं हूँ वही आलू