Tag Archives: Hindi Rhymes For Kids

Hindi Poem on Calculator-मैं हूँ कैलकुलेटर


calculator

कोई भी हो हिसाब का जोड़
मैं जवाब दूँ ताबड़ तोड़
चाहे किसी संख्या से कुछ घटवाओ
या किसी अंक में कुछ जुड़वाओ
मेरे बटन दबाते जाओ
और जवाब पाते जाओ
आज कल मोबाइल कंप्यूटर
सबके हूँ मैं अंदर
हाँ भाई हाँ मिस्टर
मैं हूँ कैलकुलेटर
– अनुष्का सूरी

How to read text:

Koi bei ho isba ka jod

Main jawab du tabad tod

Chahe kisi sankhya se kuch ghatwao

Ya kisi ank mein kuch judwao

Mere button debatey jao

Aur jawab paatey jao

Aj kal mobile, computer

Sabke hoon main andar

Haan bhai haan mister

Main soon calculator

-Anushka Suri (Author)

English Translation:

If it is the question of doing any mathematical calculation

I am always ready with an answer upfront

Whether you subtract any number from another

Or add any number to another number

Just keep on pressing my button

You will easily get the answer

These days all mobiles and computers

Have me built in

Yes, you are right Mister

I am a calculator!

Advertisements

Hindi Poem on Ant – चींटी रानी


ant-1350089_960_720

बहुत प्यारी चींटी रानी
बहुत सियानी चींटी रानी
मीठी चीज़ो की दीवानी
हमेशा अपनी मनमानी
जितनी छोटी उतने गुण
सदा करने की काम करने की धून
एक बात दिल में ठानी
वो चींटी कर दिखानी
बहुत प्यारी चींटी रानी
बहुत सियानी चींटी रानी

Bhut piyari Cheenti rani
Bhut siyani Cheenti rani
Mithi chijo ki diwani
Kre hamesha apni manmani
Jitni choti utne gun
Sada kam krne ki dhun
Ek bat jo dil me thani
Wo Cheenti ko kr dekani
Bhut piyari Cheenti rani
Bhut siyani Cheenti rani

Hindi Poem on Ant – चींटी हूँ मैं 


ant-697329_960_720
हाँ चींटी हूँ मैं 
हूँ तो बहूत छोटी सी
बलशाली भी मैं थोड़ी सी
कान मैं घुस जाऊँ अगर कभी
तो जीना मुशकिल कर दूँ अभी
चीनी का टुकड़ा रख दो यही
ढूंढते हुए मैं आ जाऊँ
चींटी हूँ मैं
हाँ चींटी हूँ मैं
– अनुष्का सूरी

 

Cheenti hu main
Han cheenti hu main
Hu to bahut choti si
Balshali bhi main thodi si
Kan mein ghus jau agar kabhi
To jeena mushkil kar doon abhi 
Cheeni ka tukda rakh do yahin
Dhundte hua main aa jaoon 
Cheenti hu main
Han cheenti hu main
– Anushka Suri

Hindi Poem on Newspaper- Main Hoon Akhbar


news

मैं हूँ अख़बार
भाई मैं हूँ अख़बार
पढ़लो मुझे सुबह सुबह
तो पता लगे समाचार
मैं हूँ अख़बार
भाई मैं हूँ अख़बार
जब मैं पुरानी हो जाती
तब भी मेरा है कारोबार
मैं हूँ अख़बार
भाई मैं हूँ अख़बार
मुझपे  भेल पूरी सजती
चना जोर गर्म मुझमें बिकती
मैं हूँ अख़बार
भाई  मैं  हूँ अख़बार
मुझको पढ़ना  है अगर
तो बनो पहले साक्षर
मैं हूँ अख़बार
भाई मैं हूँ अख़बार
– अनुष्का सूरी
 
 
 
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
Padh lo mujhe subah subah
To pata  lagey samachar
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
Jab main purani ho jati
Tab bhi mera hai karobaar
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
Mujhpe bhel puri sajti
Chana jor garam mujhmein bikti
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
Mujhko padhna hai agar
To bano pehle sakshar
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
 
– Anushka Suri