Advertisements

Motivational Poems on Life – जीवन एक युद्ध

Tags

, , , , , , , , , , , , , , ,


जीवन है एक अटल युद्ध..
तुझको लड़ना होगा ।
जीना-मरना घायल होना,
अटल सत्य होगा ।।
बढ़ता जा तू पवन-वेग से,
रहना अडिग, सीख ले तरु से,
ज्योतिर्मय कर, निकल जिधर से,
मग छायामय, कर दे मरू के….
राहें रुक भी जाएं,
तबभी तुझको चलना होगा…
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ||
रण भेरी की तान तरंगित,
घेर खड़े, योद्धागण अगणित,
होगा तू अरिमध्य अकेला,
बदले संबंधों से शंकित,
साथ पराए देंगे,
दुश्मन कोई अपना होगा…
जीवन है, एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।
स्वर्ग लोक बैठा चतुरानन,
तू दिग्भ्रमित, देख जग कानन,
स्वप्न धरे के धरे रहेंगे,
इच्छाओं के महामेरू मन…..
सांसे डोर झुलायेंगी,
सुख-दुख का पलना होगा….
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।
नर सा जीव नहीं कोई उत्तम,
राष्ट्रभक्ति ही भक्ति महत्तम,
मातृभूमि की एक पुकार सुन….
मृत्यु-वरण कर अमर नरोत्तम,
जन छलकेगी जिस दिन,
तेरा गवना होगा…
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।

-डॉ. रविन्द्र उपाध्याय “गुंजन”

Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Jeena marna ghayal hona
Atal satya hoga
Badta ja tu pawan – beg se
Rehna adig sikh le taru se
Jyotirmaya kar nikal jidhr se
Mag chayamaya kar de maru ke
Rahein ruk kbhi jaye
Tab bhi tujhko chalna hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Ran bheri ki taan tarangit
Gher khade yaudhagan aganit
Hoga tu arimadhya akela
Badle sambandho se shankit
Sath paraye denge
Dushman koi apna hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Swarg baith chaturanan
Tu digrbhramit dekh jag kanan
Swapn dhare ke dhare rahenge
Ichchao ke mahameru man
Saanshein dor jhulayengi
Such dukh ka palan hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Nar sa jeev nahi koi uttam
Rashtrabhakti hee bhakti hi mehttam
Matrbhumi ki ek pukar sun
Mrityu varan kar amar narottam
Jan chhalkegi jis din
Tera gawana hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga

– Dr. Ravinder Upadhayay “Gunjan”

Advertisements

Hindi Poem on Motivation – क्या बात करूँ

Tags

, , , , , , , , , , , , , , , ,


क्या बात करूँ मैं लोगो की
सब आप बताये बैठे है
कुछ दर्द छुपाये बैठे है
कुछ ख़्वाब छुपाये बैठे है

कुछ हस्ते है ऊपर ऊपर
कुछ रोते है नकली नकली
कुछ बातें ऐसे करते है
संसार चलाये बैठे है

सच झूठ किसी की बातों का
कुछ पता नहीं चलता अब तो
कुछ के सच भी अब झूठ लगे
कुछ झूठ चलाये बैठे है

ख्वाबों का पर्दा यहाँ पर अब
बंद सा है खुलता ही नहीं
संसार समाज सभी अपने
अधिकार बताये बैठे है

इस दुनिया में अगर कुछ करना है
अपनी मर्ज़ी की करना तू
हो सफल अगर तो बात ही क्या
पर न हो तो मत डरना तू

बस चलता जा तू सही डगर
और पीछे कभी न मुड़ना तू
जब पहुंचेगा तू मज़िल पर
वो बात अलग ही सी होगी

तुझसे मिलने को सब “वोह ” लोग
कतार लगाये बैठे है

-मुसाफ़िर

Kya baat karu mein logo ki,
Sab aap bataye baithe hai.
Kuch dard chupaye baithe hai,
Kuch khawab chupaye baithe hai.

Kuch haste hai upar upar,
Kuch rote hai nakli nakli.
Kuch baatein aesi karte hai,
Sansar chalye baithe hai.

Sach jhooth kisi ki baaton ka,
Kuch pata nhi chalta ab toh.
Kuch ke sach bhi ab jhooth lage,
Kuch jhooth chalye baithe hai.

Khwabon ka parda yaha par ab,
Band sa hai khulta hi nahi.
Sansar samaj sabhi apne,
Adhikar bataye baithe hai.

Is duniya me agar kuch karna hai,
Apni marzi ki karna tu.
Ho safal agar to baat hi kya,
Par na ho to mat darna tu.

Bas chalta ja tu sahi dagar,
Or peeche kabhi na mudna tu.
Jab pahuchega tu manzil par,
Vo baat alag hi si hogi,

Tujhse milne ko sab “voh” log,
Kataar lagaye baithe hai..

-Musafir

Hindi Poem on Woman – नारी

Tags

, , , , , , , , , , ,


तू ही धरा, तू सर्वथा।
तू बेटी है ,तू ही आस्था।
तू नारी है , मन की व्यथा।
तू परंपरा ,तू ही प्रथा।

तुझसे ही तेरे तपस से ही रहता सदा यहां अमन।
तेरे ही प्रेमाश्रुओं की शक्ति करती वसु को चमन।
तेरे सत्व की कथाओं को ,करते यहाँ सब नमन।
फिर क्यों यहाँ ,रहने देती है सदा मैला तेरा दामन।

तू माँ है,तू देवी, तू ही जगत अवतारी है।
मगर फिर भी क्यों तू वसुधा की दुखियारी है।
तेरे अमृत की बूंद से आते यहां जीवन वरदान हैं।
तेरे अश्रु की बूंद से ही यहाँ सागर में उफान हैं।

तू सीमा है चैतन्य की ,जीवन की सहनशक्ति है।
ना लगे तो राजगद्दी है और लग जाए तो भक्ति है।
तू वंदना,तू साधना, तू शास्त्रों का सार है।
तू चेतना,तू सभ्यता, तू वेदों का आधार है।

तू लहर है सागर की ,तू उड़ती मीठी पवन है।
तू कोष है खुशियों का ,इच्छाओं का शमन है।
तुझसे ही ये ब्रह्मांड है और तुझसे ही सृष्टि है।
तुझसे ही जीवन और तुझसे ही यहाँ वृष्टि है।

उठ खड़ी हो पूर्णशक्ति से।
फिर रोशन कर दे ये जहां।

जा प्राप्त कर ले अपने अधूरे स्वप्न को।
आ सुकाल में बदल दे इस अकाल को।
तू ही तो भंडार समस्त शक्तियों का।
प्राणी देह में भी संचार है तेरे लहू का।

-अर्चना

Tu hi dhara , tu hi sarvtha
Tu beti hai tu hi aastha
Tu nari hai man ki vytha
Tu parmpara, tu hi partha

Tujhse hi tere tapas se hi rehta sada yhan aman
Tere hi premashron ki sakti karti basu ko chaman
Tere satav ki kathaon ko yhan sab naman
Fir kyon yahan rahne deti hai sada meila tera daman

Tu maa hai tu devi,tu hi jagat awtari hai
Magar fir bhi kyon tu vasudha ki dukhiyarihai
Tere amrit ki bund se aate yhan jivan vardaan hai
Tere aashuon ki boond se hi yha sagar mein ufaan hai

Tu seema hai chaitany ki Shehnshakti hai
Na lage to rajgaddi hai aur lag jaye to bhakti hai
Tu vandana, tu sadhna, tu shastron ka saar hai
Tu chetna, tu shabhyata, tu vedon ka aadhar hai

Tu lehar hai sagar ki tu udati mithi pawan hai
Tu kosh hai khushiyon ka ichchaon ka sham hai
Tujhse hi ye brahmand hai aur tujhse hi shrishti hai
Tujhse hi jivan aur tujhse hi yhan vristhi hai

Uth khadi ho puranshkati se
Fir roshan kar de ye jhan

Ja prapt karle apne adhure swapan ko
Aa sukal me badal de es akaal ko
Tu hi to bhandar samast shaktiyoon ka
Prani deh mein bhi sanchaar hai tere lahu ka

-Archana

 

Hindi Poem on Unity – क्या चाहते हो

Tags

, , , , , , ,


सूखे पत्तों को जलाकर क्या बताना चाहते हो
हम में कितनी फूट है क्या यह जताना चाहते हो ..

मीठी तुम्हारी जुबां पे मज़हब और जात पात है
शहद मिलiकर क्या ज़हर पिलाना चाहते हो …

बड़ी खामोश हूँ फिर भी हूँ बहुत बुलंद
में कलम की आवाज़ हूँ मुझ को दबाना चाहते हो …

तुम्हारे हर फरेब को कर दूंगा बेपर्दा …
चढ़ा दो जितने भी नकाब चढ़ाना चाहते हो …

में अखबार हूँ इंक़लाब ला सकता हूँ …
फखत कागज़ नहीं जो छुपाना चाहते हो ….

हर तरह के फूलों से है ये चमन बना …
खोद कर जड़ें क्या गुलिस्तां बसना चाहते हो …

टूटने नहीं दूंगा यह मुल्क मेरा घर है
लगालो ज़ोर जितना लगाना चाहते हो ….

– राजन उज्जैनी 

Sukhe patton ko jala kar kya batana chahte ho
Hum mein kitni fut hai kya jatana chchte ho

Mithi tumhari jubab pe majhab aur jaat paat hai
Shad mila kar kya jahar pilana chhate ho

Badi khamosh hoon par fir bhi hoon buland
Mein kalam ki aawaj hoon mujh ko dabana chahte ho

Tumhare har fhrev ko kar dunga beparda
Chdha do jitne bhi nkab chadana chahte ho

Mein akhbar hoon ekbaal la sakta hoon
Fakhat kagaz nahi jo chupana chahta ho

Har taraf ke phoolon se hai ye chaman bna
Khaud kar jad kya gulistaan basana chahte ho

Tutne nahi dunga yeh mulak mera ghar hai
Lagalo jor jitna lgana chahte ho

-Rajan Ujjaini

Hindi Poem on Vishwakarma – जग का प्रथम अभियंता

Tags

, , , , ,


सागर मंथन के परिणाम से 
चौदह वस्तुओं के संग
एक रत्न भी बाहर आया, 
प्रकाण्ड अभियंता, 
शिल्प कला पारंगत 
ये देव रूप विश्वकर्मा 
भगवान कहलाया। 
कृष्ण की भव्य नगरी द्वारिका को
जिसने अति मनोरम रूप में बनाया रातोंरात, 
पाडवों की भव्य मायासभा का निर्माण कर,
इस विश्व का वो प्रथम अभियंता कहलाया।

-सतीश वर्मा

Sagar manthan ke parinaam se
Chaudah vastuon ke sang
Ek ratna bhi baha aya
Prakaand abhiyanta
Shilp kala parangat
ye dev rupi Vishwakarma
Bahgwaan kahalaya.
Krishan ki bhavy nagari dwarika ko,
Ati manorama rup mein banayaa raatonraat
Pandavon ki bhavya mahasabhaa ka nirman kar
Is vishw ka pratham abhiyanta kahalaya.

-Satish Verma