Advertisements

Tale of a Dying Woman – Deergh Path

Tags

, , , , ,

woods-1524606_960_720

दीर्घ पथ पर एक अबला ,अपने क्षण को काट रही थी।
नेत्र बुझे उसके दोनों थे,शायद आँखोँ में प्यास रही थी।
नभ में अवतरित मेघ काले थे,मन मन में कुछ फुसफुसा रही थी।
सफर कटा अब कटता ही चला,मृत्यु भी तो समीप ना आ रही थी।
शायद दोपहर का पहर था वह,धूप नहीं वर्षा आ रही थी।
तीव्र गति से मेघों के झुण्ड,झटपट झटपट वर्षा रही थी।
वह तो पहले ही मर रही थी,वर्षा उसकी पीड़ा और बढ़ा रही थी।
तन अधीर पट विक्षीण थे,किसी तरह बिछौने से लिपटा रही थी।
दीर्घ राह से निकले सब थे,लोगों ने देखा पर ना पुकार रही थी।
वर्षा वर्षा वर्षा घनघोर घटा से,आँखों में प्यास पर ना प्यास रही थी।
मौत के रास्ते हुए कई हैं,शायद वही पथ तलाश रही थी।
मौत बन रही सौत उसे थी,जो उसे अति प्रताड़ित कर रही थी।
मन्नते माँगी उसने कितनीं,मृत्यु उसके पास आने से शर्मा रही थी।
शरीर जीर्ण पद घायल थे,श्वासों से शीत वायु बहा रही थी।
एक आध ही दृष्टि पड़ी थी,लगता था जैसे वह मर रही थी।
लगता था मुझको कुछ ऐसा,मृत्यु भी जनों की भाँति घृणा कर रही थी।
जीवित रखता है वह सबको ,वह मरती मरती जी रही थी।
सब की होती ख़्वाहिशें व्यापक,पर वह व्यापक मृत्यु बुला रही थी।
महसूस करूँ तो ऐसा लगता,मृत्यु तो फ़रमान ही ना सुना रही थी।
पर मृत्यु उसके पास कड़ी थी, वह मृत्यु के समीप मृत्यु उससे दूर जा रही थी।
दीर्घ पथ पर एक अबला , अपने क्षण को काट रही थी।

-सर्वेश कुमार मारुत

 

Deergh path par ek abla , apne kshan ko kaat rhi thi
Neitra buhjhe uske dono the, shayad aankhon mein pyas rahi thi
Nabh mein avtarit megh kaley the man man me kuch fusfusa rhi thi
Safar kata ab kat-ta hi chala, mrityu bhi to samip na aa rahi thi
Shayad dophar ka pahar tha veh, dhoop nahi varsha aa rahi thi
Tivra gati se megho ke jhund, jhat pat jhat pat varsha rahi th
veh to pahle hi mar rahi thi, varsha uski pida aur badha rahi thi
Tan adhir pat viksheen the, kisi tarah bichone se lipta rahi thi
Deergh rah se nikle sab the, logon ne dekha par na pukar rahi thi
Varsha varsha varsha ghanghor ghata se, aankhon mein pyas par na pyas rahi thi
Maut ke raste hue kai hain, shayad wahi path talash rahi thi
Maut ban rahi saut use thi, jo use ati pratadit kar rahi thi
Mannatein mangi usne kitni,mrityu uske paas ane se sharma rahi thi
Sharir jeerna pad ghayal the, shwaso se sheet vayu baha rahi thi
Ek aadh hi drishti padi thi, lagta tha jeaie veh mar rahi thi
Lagta tha mujhko kuch aisa,mrityu bhi jano ki bhanti ghrina kar rahi thi
Jeevit rakhta hai veh sabko, veh marti marti jee rahi thi
Sabki hoti khwahishein vyapak par veh vyapak mirtyu bula rahi thi
Mahsus karu to aisa lagta mrityu to farmaan hi na suna rahi thi
Par mirtyu uske paas khadi thi, veh mrityu ke sameep mrityu usse dur ja rahi thi
Deergh path par ek abla , apne kshan ko kaat rahi thi

-Sarvesh Kumar Marut

Advertisements

Hindi Poems on Time- रफ़्तार से

Tags

, , ,

clock-650753_960_720

चल रहा है वक्त धीमी रफ़्तार से
चल रही हूँ में धीमी रफ़्तार से
ना जाने क्यूँ चल रहा है वक़्त
ना जाने क्यूँ चल रही हूँ मैं
धीमी रफ़्तार से
ख़ुशी के वक़्त चलता वक़्त तेज़ रफ़्तार से
दर्द के वक़्त चलता वक़्त धीमी रफ़्तार से
शायद चल रहा है दर्द मेरे अंदर
धीमी रफ़्तार से
किसी ने पकड़ा था हाथ तो चल पड़ा वक़्त रफ़्तार से
छोड़ दिया उसने हाथ तो रुक गया वक़्त बिना बात के
वक़्त तो वो ही है और चल रहा वो अपनी रफ़्तार से
शायद मैं ही चल रही हूँ खुद अपनी रफ़्तार से
शायद मैं ही चल रही हूँ खुद अपनी रफ़्तार से

-मानसी गोयल

Chal raha hai waqt dheemi raftaar se…
Chal rahi hun me dheemi raftaar se…
Na jaane kyun chal rha h waqt…
Na jaane kyun chal rhi hun main
Dheemi raftaar se…..
Khushi ke waqt chalta waqt tez raftaar se…
Dard ke waqt chalta waqt dheemi raftaar se…
Shayad chal rha h dard mere andar
Dheemi raftaar se…
Kisi ne pakda tha hath toh chal pada waqt raftaar se…
Chhodh diya usne hath toh ruk gya waqt bina baat ke…
Waqt toh wo hi h or chal rha wo apni raftaar se
Shayad main hi chal rh hun khudh ki apni raftaar se…
Shayad main hi chal rh hun khudh ki apni raftaar se…

-Mansi Goyal

Hindi Poem On Freedom – उड़ान की शुरुआत

Tags

,

woman
लग रहा था  कि ये बात की शुरुआत होगी
पर क्या पता था की ये अंत की शुरुआत होगी
चलो शुरुआत  तो हुई , चाहे अंत की या शुरूआत  की
पिंजरे में कैद थी वो सोच रही थी फुर्र होने की
पर लगे उसके फड़फड़ाने ,हो गई शुरुआत उड़ान की
भरने लगी जब वो उड़ान तो उड़ ना सकी वो नादान
दम  तोड़ दिया उसने हो गई उसके अंत की शुरुआत
चाहे अंत की हो या उड़ान की
चाहे अंत की हो या उड़ान की
पर हो तो गई शुरुआत
 पर हो तो गई शुरुआत

-मानसी गोयल

Lag raha tha ki ye baat ki shruaat hogi…
par kya pta tha ki ye aant ki shruaat hogi…
chalo shruaat toh hui, chaahe aant ki ya shuruaat ki…
pinjade main kaid thi wo, soch rh thi furrr hone ki..
par lage uske phadfhadaane, ho gyi shruaat udaan ki…
bharne lagi jab wo udaan, toh udh na saki wo naadaan,
dam tod diya usne ho gyi uske aant ki shruaat…
chahe aant ki hui ho ya udaan ki…
chahe aant ki hui ho ya udaan ki…
par ho toh gyi shruaat…
par ho toh gyi shruaat..

-Mansi Goyal

Hindi Poems on Emotions- छोड़ आए

Tags

, , ,

young-people-412041_960_720

बहुत पुराना घर छोड़ आए,
हम उन आँखों को तन्हा अकेला छोड़ आए,
गलियों से निकले कूचे छोड़ आए,
आँखों से निकले आंसू छोड़ आए,
दोस्ती के पुराने दोस्त छोड़ आए,
शहर क्या आ गए गाँव छोड़ आए,
चलते चलते ये किधर चले आए,
अकेले रह गए सब छोड़ आए,
समुन्दर में कितने भवंर छोड़ आए,
मोहबत के हसीं सफर छोड़ आए,
शामों में चुलबुली राते छोड़ आए,
सुबह की वो पहली किरण छोड़ आए,
कोयल की कूकती कूक छोड़ आए,
वो वारिस की पहली फूआर छोड़ आए,
ये कैसे पल आये की सब छोड़ आए,
क्यों तन्हा अकेला तुम्हे छोड़ आए,
क्यों बहुत पुराना वो घर छोड़ आए।

-गौरव

Bahut purana ghar chhod aaye
hum un aankhon ko tanha akela chhod aaye
galiyon se nikle kuche chhod aaye
aankhon se nikle aansu chhod aaye
dosti k purane dost chhod aaye
shar kya aa gye gaon chhod aaye
chalte chalte ye kidhar chle aaye
akele reh gye sab chhod aaye
smunder me kitne bhbar chhod aaye
mhhobbat k hasi sfr chhod aaye
shamo me chul buli raatein chhod aaye
subh ki wo phli kiran chhod aaye
koyal ki kukti kuk chhod aaye
wo barish ki phali faar chhod aaye
ye kese pal aaye ki sab chhod aaye
kyon tanha akela tumhe chhod aaye
kyon purana ghr chhod aaye

-Gurav

Hindi Poem on Demonetization: नोटबंदी पर कविता

Tags

,

money-1811934_960_720

बंद हुए है पाँच सौ हज़ार
चारो तरफ है हाहाकार
बैंक के आगे लगी कतार
ए टी ऍम में भीड़ भरमार
काला धन जिसका भरमार
वो करो घोषित भरो आयकर
गरीब अमीर व्यापार घर संसार
सबपे है भारी नोटबंदी का विचार

-अनुष्का सूरी
Band hue hain paanch sau hazaar
Chaaro taraf hai hahakar
Bank ke aage lagi kataar
Atm mein bheed bharmar
Kala dhan jiska bharmar
Wo karo ghoshit bharo aykar
Gareeb ameer vyapaar ghar sansar
Sabpe hai bhari notebandi ka vichar

-Anushka Suri