Hindi Poem on Life Struggles – Aey Zindagi

ज़िन्दगी एक नदी के समान होती है – वह जन्म से लेकर आखरी सांस तक चलती रहती है। कभी सुख का समय आता है और कभी जीवन कठिन हो जाता है। आइये इस कठिन जीवन पर कविता द्वारा ज़िन्दगी के उतार चढ़ावों का अनुभव करें :

ऐ ज़िंदगी (कविता का शीर्षक)
ऐ ज़िंदगी कभी तो इश्क़ करले ,
कम ज़रा ये रश्क करले ।
शिकायतें हैं जो,
कभी तो बयां करदे ।
हारी हुई शामों में,
साथ एक पल का तो दे- दे
कभी तो गले से लगाले ।
ऐ ज़िंदगी कभी तो इश्क़ करले ,
कम ज़रा ये रश्क करले
उलझने मन की,
कभी तो सुन ले ।
कब तक अनजान रहेगी तू ,
कभी तो अपना पता बता दे ,
खिजा से कभी तो बहार लादे ,
ऐ ज़िंदगी कभी तो इश्क़ करले ,
ऐ ज़िंदगी कभी तो इश्क़ करले ।
-पार्शवी वर्मा (कवयित्री)

Aey Zindagi
Aey zindagi kabhi to ishq karle,
Kam zara ye rashq karle.
Shikayatein hain jo,
Kabhi to bayaan karde.
Haari hui shamo mein,
Sath ek pal ka to de de,
Kabhi to galey se laga le.
Aey zindagi kabhi to ishq karle,
am zara ye rashq karle.
Uljhanein man ki,
Kabhi to sun le.
Kab tak anjaan rahegi tu,
Kabhi to apna pata bata de,
Khija se kabhi to bahaar la de,
Aey zindagi kabhi to ishq karle,
Aey zindagi kabhi to ishq karle.
-Parshavi Verma

कविता का भावार्थ:

यह कविता कवि के जीवन की सबसे कठोर परिस्थितियों का वर्णन करती है |

Wallpaper

Good Morning Poem in Hindi-Sundar Subah

Good Morning

सुन्दर सुबह (कविता का शीर्षक)
सूरज आने वाला है
सूरज आने वाला है
कौन कौन और आयेगा
सोचकर इतराती मैं
सूरज संग किरणें लाएगा
खुशी का माहौल छायेगा
नन्हे पौधे मुसकुराऐंगे
फसलों के खेत खिलखिलाएंगे
सूरज आने वाला है
सूरज आने वाला है
फूल खिल उठेंगे
अब भौरे भी मंडराऐंगे
तितलियाँ रस चुरा लेंगी
पक्षी भी इठलाऐंगे
भौरे ,पक्षी , तितली, पौधे
सभी खुशी से खिल उठेंगे
लेकिन मानव उदासी के साथ
आलस की डोरियों मे बंधकर
क्यों सुंदर सुबह से रूठेंगे!?
-ख़ुशी (कवयित्री)

कविता का सन्देश:

इस कविता के माध्यम से मेरा मतलब है कि प्रातः काल में सारे पौधे, पक्षी ख़ुशी से खिल उठते हैं लेकिन मानव हालात की डोरियों में बंध कर ही रह जाते हैं और सुन्दर प्रभात का फायदा नहीं उठा पाते।

Sundar Subah (Title of Poem)
Suraj aane wala hai
Suraj aane wala hai
Kaun kaun aur ayega
Sochkar itrati main
Suraj sang kiranein layega
Khushi ka mahaul chhayega
Nanhe paudhey muskurayenge
Faslo mein khet khilkhilayenge
Suraj aane wala hai
Suraj aane wala hai
Phool khil uthenge

An bhaurey bhi mandrayenge
Titliyan ras chura lengi
Pakshi bhi ithlayenge
Bhaurey, pakshi, titli, paudhey
Sabhi khushi se khil uthenge
Lekin manav udasi ke sath
Alas ki doriyo mein bandhkar
Kyo sundar subah se ruthenge?
-Khushi (Poet)