Advertisements

Hindi Poem on God-अभिवादन हो

Tags

, , , ,


अभिवादन हो। ईश्वरीय प्रेम की एक झलक,
मै अचरज मे ठहरा। काला हुआ संसार,
चारो ओर अंधेरा। पावस अभिवादन हो।
काली घटा चमन मेँ, सर्वत्र वीरान सा।
एक तरंग ह्रदय मेँ कौँधी, वह ध्वनि किसकी थी।
पावस अभिवादन हो। टूट पडा एक संदेश,
जलद का भूलोक पर। तृप्त हुई धरती अंगार सी,
बुझी प्यास मानो शोणित तलवार की।
पावस अभिवादन हो। प्रफुल्लित हुऐ वे नैन,
जो सूख चुके थे वीरान से।
सतरंगी एक सरिता दिखी अनन्त मेँ,
दुखी क्षुधा की भूख,मिट गई क्रांति बाण से।

-हितेश कुमार गर्ग

Abhivadan ho ishvriy prem ki jhalak
Main achraz mein thera kala hua sansaar
Charon aur andhera pawas abhivadan ho
Kali ghata chamn mein savtar viraan sa
Ek tarnag hardy mein kondhi , veh dhabni kiski thi
Pawas abhivadan ho toot pada ek sandesh
Jalad ka bhulok par tripat hue dharti angaar si
Bujhipyaas mano shonit talwar ki
Pawas abhivadan ho prafulit hue ve nain
Jo sukh chuke they viraan se
Satrangi ek sarita dikhi annat mein
Dukhi shudha ki bhukh mit gayi kranti baan se

-Hitesh Kumar Garag

Advertisements

Hindi Poem on Childhood-बचपन

Tags

, , ,


बचपन दोपहर की कड़ी धूप में नंगे पाँव दौड़ जाना
जब गांव की गलियों को सरपट नाप आना
खेल खेल में यारो से दुश्मन सा लड़ जाना
कट्टी बट्टी के सिस्टम से सारे झगड़े निपटाना
वो मासूम सी शरारते,वो बेख़ौफ़ सी जिंदगी जाने कहाँ रह गयी,
जाने कहाँ रह गयी स्कूल न जाने के अनसुने बहाने ,
जाते थे कक्षा में चीखने चिल्लाने रेत के टीलों पर महल बनाकर ,
खुश होते थे कितना हम बेगाने नन्हे पैरो के वो बड़े होंसले,
चढ़ते थे पेड़ो पर आम खाने नीम के पत्तो को ज़मीं में छुपाकर,
सीखे थे हमने पैसे बनाने वो नादानियाँ,
वो शैतानिया वो अनगिनत बचखानिया जाने कहाँ रह गयी,
जाने कहाँ रह गयी वो कंचि,गीली डंडा और खो खो का खेल
वो गली क्रिकेट,सतोलिया और पेलमपेल सक्रांति की पतंगलूट
और मंझे के झोलमेल वो लंगड़ी टांग, साँपसीढ़ी, लूडो और रेल
वो सन्नाटा वो शोर,वो बेखुदी का दौर वो कटती पतंग की डोर,
वो खूबसूरत भोर, जाने कहाँ रह गयी, जाने कहाँ रह गयी
वो बैर तोड़ते कांटे चुभ जाना, वो इमली खाके दाँत बजाना
वो साइकिल सीखते गिर जाना वो मिटटी में सनकर घर जाना
बारिश में झूम झूम कर नहाना वो तीखी सी डाँट,
और रो जाना वो दादी नानी से रात-२बतियाना वो चोट की निशानिया
वो सच्ची सी कहानिया वो भोली सी शैतानिया वो मस्ती की रवानियाँ
जाने कहाँ रह गयी, जाने कहाँ रह गयी

-जीत

Bachpan dophar ki kadi dhoop mein nange paanv daud jana
Jab gaon ki galiyon ko sarpat naap aana
Khel khel mein yaaron se dushman sa lad jana
Katti batti ke system me sare jhgade niptana
Wo masoom si shararte, wo bekhof si zindagi jane kahan rah gayi
Jane kahan  rah gye school na jane ke ansune bahane
Jate they kaksh me chikhne chilane reit ke tilo me
Mahal bna ke tilon par mahal bnakar
Khush hote they kitna hum begaane nanhe peiron ke wo bade honslein
Chadte they pedon par aam kahne neem ke paton ko jami main chupakar
Sikhe they hamne pese bnanne wo nadaniyon
Wo shtaniya wo anginat bachkhaniya jane kahan  rah gayi
Jane kahan  rah gai wo kanchi,gili danda aur kho kho ka khel
Wo gali criket,stoliya aur peilmpeil sankrati ki patangloot
Aur manjhe ke jholmal wo langdi taang saanpsidi ,ludo aur rail
Wo sanaata wo shor,wo bekhudi ka dor wo katti patang ki dor
Wo khubsurat bhor jane kahan rah gayi jane kha rah gai
Wo beir todte kanta chub jana,wo emli kahan  ke daant bjana
Wo cycle sikhte gir jana wo mitti me sunkar ghar jana
Barish mein jhoom jhoom kar nhana wo tikhi si dant
Aur ro jana wo dadi nani se raat raat batiyana wo chot ki nishaniya
Wo sachi si khaniyaan wo bholi si shtaniya wo masti ki rawaniyaan
Jane kahan rah gai jane kahan rah gayi

-Jeet

Experience of Buying Voltas AC Online-एक रोज़, ऐ सी की खोज

Tags

, , ,


ac

Poem in Hindi Font:

हुआ कुछ यूं एक रोज़
भाई बोला गर्मी है तेज़
पहले जब कहा था ऐ सी लेलो
तो कहता था कूलर में रहलो
पर गर्मी का जब सहा न गया वार
तब वो हुआ ऐ सी लेने को तैयार
बड़ी बहन होने के नाते
चली मैं ऑनलाइन अमेज़न की दूकान पे
अमेज़न की मैं रोज़ की ग्राहक
खोजा ऐ सी जो दे राहत
सभी ऐ सी के थे बड़े ब्रांड
किन्तु हमको भाया वोल्टास ब्रांड
फाइव स्टार रेटिड है भाई
बिजली की होगी कम खपाई
हमने तुरंत पैसा चुकाया
और यह ऐ सी घर लगवाया
इस बात को हुआ आज एक माह
कहते हैं हम वोल्टास वाह भाई वाह
ठंडक देता है ये बढ़िया जनाब
आप भी लगवाएं निःसंकोच इसे आज
-अनुष्का सूरी

यह एक सच्ची घटना पर आधारित कविता है।
यदि आप भी वोल्टास ऐ सी लेना चाहते हैं, लिंक द्वारा अमेज़न की वेबसाइट से खरीदें:

Reading the Hindi Font in English:

Hua kuch yoon ek roz

Bhai bola garmi hai tez

Pehle jab kaha tha AC lelo

To kehta tha cooler mein reh lo

Par garmi ka jab saha na gaya vaar

Tab wo hua AC lene ko taiyar

Badi behan hone ke naatey

Chali main online Amazon ki dukan pe

Amazon ki main roz ki grahak 

Khoja AC jo de rahat

Sabhi AC ke the bade brand

Kintu hamko bhaya Voltas brand

Five star rated hai bhai

Bijli ki hogi kam khapayi

Hamne turant paisa chukaya 

Aur yeh AC ghar lagwaya

Is baat ko hua aj ek mah

Kehte hain ham Voltas wah bhai wah

Thandak deta hai ye badhiya janab

Aap bhi lagwayein nisankoch ise aaj

-Anushka Suri

English translation:

It happened so that one day my brother complained

The weather was getting very hot

Earlier when I suggested that we buy an air conditioner

He advised us to stay complacent with an air cooler

But, when the extreme summer was beyond his tolerance levels

He was convinced enough to buy an air conditioner

Being his elder sister

I started browsing online ecommerce website Amazon

Since we are a regular customer of Amazon

We searched Amazon website to advise us with an effective air conditioner

The online store had all top brands of AC with them

But, we liked Voltas brand ACs

We selected a 5 star rated AC model

This implied cost savings on electricity bill

We quickly paid the bill online

And brought the Voltas AC home

It has been one month since we purchased the AC

We say that our experience has been outstanding

It cools effectively

We highly recommend that you buy a Voltas AC for yourself too!

-Anushka Suri

This poem summarizes a real purchase experience.

Please click here to buy a Voltas AC on Amazon.

Hindi Poems on Life – चौराहा राह भटक गए

Tags

, , , , , , , , , , , , ,


चौराहा राह भटक गए राह भटकते है
चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
एक रास्ता हो तो चले,आखिर कितने रास्ते चले।
मंजिल भी तो तय नही, किसके वास्ते चले।
इस चौराहे के हर रास्ते अलग मंजिल दर्शाते हैं।
कुछ लोग तो मंजिल पहुंचकर भी वापस लौट आते है।
ये अनजाने रास्ते मन को खटकते है।
राह भटक गए राह भटकते है।
ये अनजाने रास्ते और और कई सारे है
इनमे चलते चलते चलते हां… हम हारे है।

एक रास्ता,दो रास्ते राहगीर को परेशान कर देती राहे है।
मंजिल सामने फिर भी उसे ढूढती निगाहे है।
इन निगाहों कि तड़प को जानता है
हम सच भी कहे कौन मानता है
इस मंजिल को देखने के लिए आँखे तरसती है
कभी कभी तो बादलो की तरह बरसते है
वो तब जब राह भटकते है

चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
जिंदगी चार दिन की है चलते चलते गुजर जाएगी
जब हम आपसे दूर हो जाएंगे तब हमारी याद आएगी
मेरी चाहत बदलो सी है जिन्हें राहत मिलती नही ।
और मुस्कान……….. मुस्कान है
कांटो सी जो कभी खिलती नही।
कई तरह के सपने लेकर चैराहे में खड़े है।
कौन सा रास्ता सही रहेगा इसी सोच में पड़े है।
मंजिल डर नही हमारी मजबूरी है
एक रास्ता चुनना और उसमें चलना भी तो जरूरी है।

-संतोष

Chauraha raah bhatak gye raah bhtakte hai
Chauraha bhi aaye jo man ko khatkte hai
Ek rasta ho to chle, aakhir kitne raste chle
Manzil bhi tay nahi kiske vaste chale
Es chaurahe ke har raste alag raste alag manzil darshate hai
Kuch log to manzil phuch kar bhi bapis laut aate hai
ye anjane raste man ko khatkte hai
Raahbhatak gye raah bhatkte hai
Ye anjane raste aur kai sare hai
Enme chalte chalte haan hum hare hai

Ek rasta, do raste rahgeer ko pareshan kar deti hai
Rahe hai manzil samne fir bhi use dhundti nigaahe hai
En nigahoon ki tadap ko janta hai
Hum such bhi kahe kon manta hai
Es manzil ko dekhne ke liye aankhei tarsti hai
Kabhi to badlon ki tarh barsti hai
Wo tab jab raah bhatkte hai

Chaurahe bhi aaye jo man ko khatkte hai
Zindagi char din ki hai chalte chalte guzar jayegi
Jab hum aapse dur ho jayenge tab humari yaad aayegi
Meri chahat badlon si hai jinhe rahat milti nahi
Aur muskaan muskaan hai
Kanton si jo bhi khilati nhi
Kai tarh ke sapne lekar chaurahe me khade hai
Kon sa rasta sahi rhega yahi soch me pade hai
Manzil dar nahi hmari majburi hai
Ek rasta chunna aur chalna bhi to jaruri hai

-Santosh

Hindi Poem on Water-पानी है धरती की शान

Tags

, , , , , , , , , , , , ,


पानी है धरती की शान, पानी बचत हमारा काम
जीवन का ऐसा कोई काज नही,
बिना नीर हो उसका नाम अम्बु है अम्बर तक फैला,
सजते सागर नदी तालाब गीता और कुरान कहे है,
बिन जल बजे न कोई राग धरा में जल का सीमित भंडार,
जल सरंक्षण है हमारी जान बिन जल के समस्त चराचर,
ये दुनिया हो जाती शमशान जल से ही बनता है खून,
बिन जल के न होता शाम पानी है धरती की शान,
पानी बचत हमारा काम बिन पानी सब सून है,
खुद रहीम ने कह डाला जल से ही होती हरियाली,
चले झूम के हस्ती मतवाला फसलें भी चमकती सलिल से,
बसती इसमे सबकी जान पंछी भी कोकिल है मारे,
मछली की है जल में प्रान कोई पेय पीने को तरसे,
किसी की रहती जल में प्रान न करेंगे जल को जाया,
इसकी महत्ता का हो गया है ज्ञान जिस दिन सूखा वारि वसुधा से,
उस दिन आये संकट में प्राण जल से चले हैं सारे उद्योग,
जल से ही होती हमारी आन व्यर्थ करो न जल को तुम,
करो जरूरी अपना काम पानी है धरती की शान,
पानी बचत हमारा काम

-प्रदीप कुमार पटेल

Pani hai dharti ki shaan pani bachat hamara kaam
Jeevan ka koi esa kaaz nahi
Bina neer ho uska naam ambbu hai ambar tak feila
Sajte sagar nadi talaab geeta aur kuran  kahe hai
Bin bin baje na koi raag dhara me jal ka simit bhandaar
Jal saraksan hai hamari jaan bin jal ke samast charachar
Ye duniya ho jati hai shamshaan jal se banta hai khun
Bbina jal ke na hota sham pani hai dharti ki shaan
Pani bachat hamara kaam bin pani sab sun hai
Khud rahim ne kah dala jal se hi hoti haryali
Chale jhoom ke hasti matwala fasle bhi chamkti salil se
Basti esme sabki jaan panchi bhi kokil hai mare ,
Machli ki hai jal praan koi pay pine ko tarse
Kisi ki rahti jal me praan na kroge jal ko jaya
Eski mahata ko ho gya hai gyaan jis din sukha vaari vasuda se
Us din aaye sankat me pran jal se chale hai sare udhog,
Jal se hi hoti hai hamari aan vyarth karo na jal ko tum
Karo jaruri apna kam pani hai dharti ki shaan
Pani bachat hamara kaam

-Pradeep Kumar Patel