Advertisements

Hindi Poems on Motivation – भँवर में सही

Tags

, , , , ,

भँवर में सही कश्ती को मोड़कर तो देखो
बारिश में पैर जमीं पे गड़ाकर तो देखो

कुछ भी है मुमकिन अगर ठान लें हम सब
हाँथ समानता की ओर बढ़ाकर तो देखो

भेदभाव ख़त्म कर अब अपनी बेटी को
शिक्षा के शिखर पर चढ़ाकर तो देखो

हुनर है इनमे दुनियाँ को बदलने का
बेटियों को बेटों सा पढ़ाकर तो देखो

हैं इनमे सुनीता और कल्पना सी उड़ान
इनके पंखो को फड़फड़ाकर तो देखो ।

– राहुल रेड

Bhanvar mein sahi kashti ko modkar to dekho
barish mein pair zamin pe gada kar to dekho

Kuch bhi hai mumkin agar thaan le hum sab
Hath smanta ki oor badha kar to dekho

Bhed bhav khatam kar ab apni beti ko
Shiksha ke shikhar par chadha kar to dekho

Hunar hai inmein duniya ko badalne ka
Betiyon ko beto sa padha kar to dekho

Hai inmein sunita aur kalpana si udaan
Inke pankhon ko fadfada kar to dekho

– Rahul Red

Advertisements

Hindi Poems on Positive Attitude – तनहाई की महफ़िल

Tags

,

तनहाई की महफ़िल में मुस्काना नहीं सीखा
नाजुक फूलों सा कभी मुरझाना नहीं सीखा

टूटा हूँ बहुत लेकिन गिर-गिर के सम्भला हूँ
कैसी भी हो राह मगर रुक जाना नहीं सीखा

भूल गए वो लोग जिनका साथ दिया हर पल
उनकी तरह मैंने अहसान जताना नहीं सीखा

कड़वा सच बोलता हूँ भले नफरत करे जमाना
झूठी तसल्ली देकर कभी समझाना नहीं सीखा

सताया बहुत था कभी इस ज़माने ने फिर भी
अनजाने में दिल किसी का दुःखाना नहीं सीखा

आँखे भी बयाँ कर देती हैं दिल की सारी बातें
कुछ बातों को लफ्जो ने मेरे बताना नहीं सीखा

दिल लगता है एक बार ही दुनियाँ में किसी से
इस दिल को मैंने बार-बार लगाना नहीं सीखा।

– राहुल रेड

Tanhai ki mehfil me muskana nahi seekha
Nazuk phoolon sa kabhi murjhana nahi seekha

Toota hoon bhut lekin gir gir ke sambhla hoon
Kaisi bhi ho rah magar ruk jana nahi sikha

Bhul gaye wo log jinka sath diya har pal
Unki tarah maine ehsaan jatana nahi seekha

Kadwa sach bolta hoon bhale nafrat kare jamana
Jhuthi tasalli de kar kabhi samjhana nahi seekha

Sataya bahut tha kabhi iis jamane ne fir bhi
Anjane me dil kisi ka dukhana nahi seekha

Aankhein bhi bayan kar deti hai dil ki sari batein
Kuch baton ko lafzo ne mere batana nahi sikha

Dil lagta hai ek bar hi duniya me kisi se
iis dil ko maine bar bar lagana nahi seekha

– Rahul Red

Hindi Poem on Farmer-किसानो की जमीने

Tags

, ,

किसानो की जमीने मकान बेच देगें
पूँजीपतियों के लिए जहान बेच देंगे

सिंघासन को अपनी जागीर समझ रखा
बस चले उनका तो संविधान बेचे देगें

दुनियाँ जानती है हमे बुद्ध के नाम से
एक दिन ये हमारी पहचान बेच देगें

कुछ नहीं बचेगा देश में बेंचने को तब
एक एक करकेे सब इन्शान बेचे देगें

चुप रही जनता अगर आज भी ऐसे तो
देख लेना कल ये हिन्दुस्तान बेच देगें।

– राहुल रेड

kisano ki jamine makan beich denge
Punjipatiyon ke liye jahan beich denge

sighasan ko apni jagir samjh rakha
bas chale unka to savidhaan beich denge

duniya janti hai hame budh ke naam se
ek din ye hamari pehchan beich denge

Kuch nai bachega desh me bechne ko tab
ek ek kar ke sab Insaan beich denge

chup rahi janta agar aaj bhi aise to
dekh lena kal ye hindustaan beich denge

– Rahul Red

Hindi Poem on GST – जी एस टी पर कविता

Tags

,

अब है नया टैक्स आया
जी एस टी है जो कहलाया
वैट सेल्स टैक्स सब निपटाया
अकेले जी एस टी ने बवाल मचाया
कुछ हुआ सस्ता
कुछ हुआ महंगा
हिसाब लगाते सर चकराया
आया भाई आया
जी एस टी आया
आशा है नए टैक्स से
जीवन होगा कुछ आसान
खूब बढ़ेगा समृद्ध बनेगा
मेरा भारत देश महान |

–  अनुष्का सूरी 

Ab hai naya tax aaya
GST hai kehlaya
VAT sales sab niptaya
Akele hi GST ne bawal machaya
Kuch hua sasta
Kuch hua mahanga
Hisab lagate hi sar chakraya
Aya bhai aaya
GST aaya
Aasha hai naye tax se
Jivan hoga kuch aasan
Khub badhega samrIdh
Mera bharat desh mahan

-Anushka Suri

Hindi Poems on Emotions – बदनामी

Tags

, , ,

 

महफ़िल सजा ली यारों की, तो हुई बदनामी
बगिया खिला ली बहारों की, तो हुई बदनामी
यह कैसा समाज, जो बदनाम करता फिरता है?
मदद कर दी बेसहारों की, तो हुई बदनामी।

किसी पे दिल अगर ये मर लिया, तो हुई बदनामी
बाँहों में किसी को भर लिया, तो हुई बदनामी।
बदनामी के दौर में भला कौन है बदनाम नही?
कभी प्यार किसी से कर लिया, तो हुई बदनामी

अगर आजदी से घूम लिया, तो हुई बदनामी
महफ़िल में कभी झूम लिया, तो हुई बदनामी
प्रेम को बदनाम कर दिया जालिमो ने इतना
माथा जो उसका चूम लिया, तो हुई बदनामी।

रोकूँ कैसे यारों आज होने से बदनामी?
स्याही के कुछ दाग भी धोने से बदनामी
जिसको पाकर बदनाम ही बदनाम हुआ हूँ
छोड़ दूँ अगर साथ उसे खोने से बदनामी।

जब ज्यादा हो पैसा, तो होती है बदनामी
चाहें गरीब हो कैसा, तो होती है बदनामी
जब बदनामी का दौर है, फिर मैं कैसे बचूँ?
हो इन्शान मेरे जैसा, तो होती है बदनामी।

अक्सर समाज में हर जगह मिलती है बदनामी
बहारों में भी फूल की जगह खिलती है बदनामी
कोई बताये वो जगह, जहाँ होतीं ना बदनामी
जिधर देखो हर जुबान से निकलती है बदनामी।

कांटे नही उससे बढ़कर है सुई बदनामी
हवा से हल्की उड़ने वाली रुई बदनामी
जितना खुद को रोका बदनाम होने से
उतनी ज्यादा और अक्सर हुई बदनामी।

– राहुल रेड

Mehfil sja li yaron ki, to hue badnami
Bagiya khila libaharon ki to hue badnam
Yeh kesa smj hai jo badnaam krta firta hai
Madd kar di besharon ki to hue badnam

Kisi pe dil ye mar liya to hue badnami
Bahon me kisi ko bhr liya to hue badnami
Badnami k dor me bha kon hai bad man nahi
Kabhi pyar kisi se kar liya to hue badnami

Agar ajadi se ghoom liya to hue badnami
Mehfil me kabhi jhoom liya to hue badnami
Prem ko badnam kar diya jalimo ne etna
Matha jo uska chum liya to hue badnami

Roku kese yaron aaj hone se badnami
Syahi k kuch daag dhone se badnami
Jisko pa kar badnaam hi badnaam hua hoon
Chor du aggr sath use khone se badnami

Jab jyada ho pesa to hoti hai badnami
Cahe garib ho kesa to hoti hai badnami
Jab badnami ka daur hai fir main kese bachu
Ho insaan mere jesa to hoti hai badnami

Aksar smaj me har jagh milti hai badnami
Baharon me bhi ful ki jagh khilti hai badnami
Koi btaye wo jgh jha hoti na badnami
Jidhr dekho har jubann se niklti hai badnami

Kate nahi usse badkar hai sui badnami
Hwa se halki udne wali rue badnami
Jitna khud ko roka badnam hone se
Utni jyada aur aksr hue badnami

– Rahul Red