Tags

,

खाली कन्धे हैं इन पर कुछ भार चाहिए
बेरोज़गार हूँ साहब मुझे रोज़गार चाहिए
जेब में पैसा नही डिग्री लिए फिरता हूँ
दिनो दिन अपनी ही नजरो में गिरता हूँ
कामयाबी के घर में खुले किवाड़ चाहिए
बेरोज़गार हूँ साहब मुझे रोजगार चाहिए।

दिन रात एक करके मेहनत बहुत करता हूँ
सूखी रोटी खाकर ही चैन से पेट भरता हूँ
फिर भी न जाने क्यों ठुकरा दिया ज़माने ने
भरोसा नही किया मेरा टैलेंट आजमाने में
भ्रष्टाचार से लोग खूब नौकरी पा रहे हैं
रिश्वत की कमाई खूब मजे से खा रहे हैं
नौकरी पाने ले लिए यहाँ जुगाड़ चाहिए
बेरोज़गार हूँ साहब मुझे रोजगार चाहिए।

टैलेंन्ट की कमी नही भारत की सड़को पर
दुनियाँ बदल देगे भरोसा करो इन लड़कों पर
लिखते-लिखते मेरी कलम तक घिस गयी
नौकरी कैसे मिले जब नौकरी ही बिक गयी?
नौकरी की प्रक्रिया में अब सुधार चाहिए
बेरोज़गार हूँ साहब मुझे रोजगार चाहिए।

– राहुल रेड

Khali kande hai en par kuch bhar chahiye
Berozgar hoon sahab muje rozgar chahiye
Jeb me pesa nahi dgree liye firta hoon
Dino din apni hi nazrome girta hoon
Kamyabi k ghr me khule kiwad chahiye
Berozgar hoon sahab muje rozgaar chahiye

Din raat ek kar k mehant bhut krta hoon
Sukhi roti kha kar hi chain se peit bhrta hoon
Fir bhi na jane kyu thukra diya jmane ne
Bhrosa nahi kiya mera talent ajmane me
Bhrshtachar se log khub nokri pa rhe hai
Riswat ki kmai khub mze se kha rhe hai
Naukri pane k liye yha jugad chaiye
Berozgar hu shab muje rozgar chaiye

Talent ki kami nahi bahrat ki sadko par
Duniya badal denge bhrosa kro en ladko par
Likhte likhte meri kalam tk gees gai
Naukri kese kre jab nokri hi bik gai
Naukri ki parkirya me ab sudhar chahiye
Berozgar hu shab muje rozgar chaiye

– Rahul Red

Advertisements