Tags

, , , , ,


ग़रीबी को एक पहचान मान लो,
अमीरों के हंसने का सामान मान लो,
और अगर भर गया हो मन मज़ाक से,
तो यार ग़रीबों को भी इन्सान मान लो,
ख़्वाबों मे उनके एक डर है जो छुपाना है,
बच्चों की फीस, माँ की दवा की कश्मकश का सब फ़साना है,
बावजूद इसके आँखों में जो स्वाभिमान एक पुराना है,
शायद उनके जीने का बस एक यही ठिकाना है,
अगर मुमकिन हो सके तो कभी उनका हाल जान लो,
यार ग़रीबों को भी इन्सान मान लो,
ज़िन्दगी में इनके बहुत रिश्तेदार नहीं,
ग़रीबों के ग़रीब भी यार नहीं,
बाक़ी बचा बस एक ख़ुदा पे ऐतबार था,
पर शायद भगवान को भी इनसे प्यार नहीं,
इन ग़रीबों को ख़ुदा की तरबियत जान लो,
इन गरीबों को भी तो इन्सान मान लो

-अतुल मणि त्रिपाठी

Garibi ko ek pehchaan maan lo
Amiron ke hasne ka saman maan lo
Aur agar bhar gya ho man mjak se
To yaar garibon ko insaan maan lo
Khwabon mein unke ek dar hai jo chupana hai
Bachon ki fees, maa ki dawa ki kashmkash ka sab fasana hai
Babjud eske aankhon mein jo swabhimaan ek purana hai
Sayad unke jine ka bas ek yahi thikana hai
Agar mumkin ho sake to kabhi unka haal jaan lo
Yaar garibon ko bhi insaan maan lo
Zinadagi mein enke bhut ristedaar nahi
Garibon ke garib bhi yaar nahi
Baki bacha bas ek khuda pe etbaar tha
Par sayd bhagwaan ko bhi ense pyar nahi
In garibon ko khuda ki tabiyat jaan lo
In garibon ko bhi to insaan maan lo

-Atul Manni Tripathi

Advertisements