Tags

, , , , , , , , , ,


नारी हूँ मैं।

ममता की छांव जनम देने वाली जननी हूँ मैं।
दुःख -सुख में हमेशा साथ देने वाली भार्या हूँ मैं।
माँ -बाप की आन बान सान सम्मान हूँ मैं।
हाँ एक बेटी …पापा की प्यारी हूँ मैं।
भाई की ताकत …अच्छी दोस्त हूँ मैं।
करती पुर्ण पुरुष को ऐसी स्त्री हूँ मैं।
नारी हूँ मैं।।

फिर क्यों दुनिया मे नही लायी जाती हूँ मैं?
जन्म कहाँ कोख में मारी जाती हूँ मैं।
नर -नारी तेरी कुदरत फिर क्यों उपेक्षित हूँ मैं।
जवानी की दो सीढ़ियाँ चढ़ी नहीं कि रोकी जाती हूँ मैं।
बेटी, बहन, माँ, बच्ची, बूढ़ी और पत्नी भी हूँ मैं।
फिर क्यों हर स्वरूप में बालात्कारी से कुचली जातीहूँ मैं ?
नारी हूँ मैं।।

सुनो ,नारी हूँ ,अबला नहीं ,दुर्गा स्वरूप हूँ मैं।
रोना -धोना छोड़ो कहो नहीं ,सम्मानित हूँ मैं।
दिखा दो ताकत से अपनी कि अभिमान हूँ मैं।
अब रक्त से भी अबला नहीं सबला हूँ मैं।
कलियुग में भी महिषासुर पर चंडी हूँ मैं।
नारी हूँ मैं!!

-अंजना

Nari hoon main
Mamhta ki chhav janam dene wali janni hoon main
Sukh-dukh mein hamesha sath dene wali baharya main
Maa-baap ki aan baan saan smaan hoon main
Haan ek beti mere papa ki pyari hu main
Bhai ki takkat achi dost hoon main
Karti puran purash ko esi satri hoon main
Nari hoon main

Fir kyon duniya main nahi lai jati hoon main
Janam kha kokh mein mari jati hoon main
Nar-nari teri kudart fir kyon upekshit hoon main
Jawani ki do seedhiyan chadhi nai ki roki jati hoon main
Beti, behen, maa, bachi, budhi aur patni bhi hoon main
Fir kyo har savroop mein balatkari se kuchli jati hoon main
Nari hoon main

Suno nari hoon abla nahi durga savroop hoon main
Rona dhona chodo kaho nahi ki smaan hoon main
Dikha do takat se apne ki abhimaan hoon main
Ab raqa se bhi abla nahi sabla hoon main
Kalyug mein bhi Mahishasur par Chandi hoon main
Nari hoon main

– Anjana

Advertisements