Tags

, , , , , , , , , , , , ,


पानी है धरती की शान, पानी बचत हमारा काम
जीवन का ऐसा कोई काज नही,
बिना नीर हो उसका नाम अम्बु है अम्बर तक फैला,
सजते सागर नदी तालाब गीता और कुरान कहे है,
बिन जल बजे न कोई राग धरा में जल का सीमित भंडार,
जल सरंक्षण है हमारी जान बिन जल के समस्त चराचर,
ये दुनिया हो जाती शमशान जल से ही बनता है खून,
बिन जल के न होता शाम पानी है धरती की शान,
पानी बचत हमारा काम बिन पानी सब सून है,
खुद रहीम ने कह डाला जल से ही होती हरियाली,
चले झूम के हस्ती मतवाला फसलें भी चमकती सलिल से,
बसती इसमे सबकी जान पंछी भी कोकिल है मारे,
मछली की है जल में प्रान कोई पेय पीने को तरसे,
किसी की रहती जल में प्रान न करेंगे जल को जाया,
इसकी महत्ता का हो गया है ज्ञान जिस दिन सूखा वारि वसुधा से,
उस दिन आये संकट में प्राण जल से चले हैं सारे उद्योग,
जल से ही होती हमारी आन व्यर्थ करो न जल को तुम,
करो जरूरी अपना काम पानी है धरती की शान,
पानी बचत हमारा काम

-प्रदीप कुमार पटेल

Pani hai dharti ki shaan pani bachat hamara kaam
Jeevan ka koi esa kaaz nahi
Bina neer ho uska naam ambbu hai ambar tak feila
Sajte sagar nadi talaab geeta aur kuran  kahe hai
Bin bin baje na koi raag dhara me jal ka simit bhandaar
Jal saraksan hai hamari jaan bin jal ke samast charachar
Ye duniya ho jati hai shamshaan jal se banta hai khun
Bbina jal ke na hota sham pani hai dharti ki shaan
Pani bachat hamara kaam bin pani sab sun hai
Khud rahim ne kah dala jal se hi hoti haryali
Chale jhoom ke hasti matwala fasle bhi chamkti salil se
Basti esme sabki jaan panchi bhi kokil hai mare ,
Machli ki hai jal praan koi pay pine ko tarse
Kisi ki rahti jal me praan na kroge jal ko jaya
Eski mahata ko ho gya hai gyaan jis din sukha vaari vasuda se
Us din aaye sankat me pran jal se chale hai sare udhog,
Jal se hi hoti hai hamari aan vyarth karo na jal ko tum
Karo jaruri apna kam pani hai dharti ki shaan
Pani bachat hamara kaam

-Pradeep Kumar Patel

Advertisements