Earthquake par kavita

now browsing by tag

 
 

Hindi Poem on Earthquake-भूकंप पर कविता

earthquake-1665886_960_720.jpg

जब जब ये धरती कुछ डोले
भूकंप के आने लगें हिचकोले
फ़ौरन भागो अंदर से बाहर भोले
सोशल मीडिया वॉट्सएप कुछ भी बोले
भूचाल एक ऐसी है घटना
जिसपर ज़ोर नहीं है अपना
कब आएगा कितनी अवधि
कभी कुछ पता ही नहीं
इसीलिए तुम करो विचार
क्या सुरक्षित है तुम्हारा घर बार
घर ऑफिस की जांच कराओ
भूकंप की सहनशीलता नपवाओ
अगर बनना है सुरक्षित श्रीमान
तो रहना होगा सदा सावधान
– अनुष्का सूरी