Hindi Poem on Self-Betterment – Andar Baitha Ravan

अंदर बैठा रावण जो सालों पहले ही मर गया, उसको हर बार जलाते हो,मिनटों की शौखों की खातिर पैसा तुम व्यर्थ बहाते हो।बुराई की पराजय का तुम क्यों ये ढोंग रचाते हो,जो अंदर बैठा है छिप के, उसको क्यों भूल जाते हो।। पूछो खुद से!! क्या खुशियाँ मनाने का यह एकमात्र तरीका है?पूछो खुद से!! […]

%d bloggers like this: