Hindi poem on brother and sister relations

now browsing by tag

 
 

Hindi Love Poem on Brother-Sister Love` -Meri Behnein

मेरी बहनें

माँ जैसा दुलार
पापा सी फटकार
भाई सी रक्षा करी
बहने हैं ऐसी मेरी

बचपन सारा लड़ाई में बिताया
जवानी में माँ जैसा बनाया
माँ न होकर भी
मुझसे मातृत्व दिखाया

साथ हमेशा देती हैं
जब भी दो पुकार
ईश्वर से पहले सुन लेती हैं
मेरी हर दरकार

मेरी ये कविता पढ़कर
आंसू ना आ जाए तो कहना
माँ बाप दोस्त हर रिश्ते से
बढ़कर है मेरी बहना

कैसे कह दूं के मेरी सिर्फ एक माँ है
जन्म नहीं दिया मुझे पर
हमेशा मेरा साथ देने वाली
मेरी और भी……तीन माँ हैं

-स्नेहा शुक्ला

Meri Behnein

Maa jaisa dular
Papa si fatkar
Bhai si raksha kari
Bahne hain aesi meri

Bachpan sara ladai me bitaya
Jawani me maa jaisa banaya
Maa na hokar bhi
Mujhse matritva dikhaya

Sath hamesha deti hain
Jab bhi do pukar
Ishwar se pahle sun leti hain
Meri har darkar

Meri ye kavita padhkar
Aanshu na aa jaye to kahna
Maa baap dost har rishte se
Badhkar hai meri bahna

Kaise kah du k meri sirf ek maa hai
Janam nahi dia mujhe par
Hamesha mera sath dene wali
Meri aur bhi…. Teen maa hain

-Sneha Shukla