Makar sakranti festival

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Hindi Poem on Makar Sakranti-Bezubaan Parinda

amusement-2456905__340

मकर संक्रांति:::: बेज़ुबान परिन्दा

बौराया हुआ शहर अपनी कटी पतंगे ढूंढ रहा है,
खामोश मांजा सर सर हाथ से निकल रहा है,
आसमान में जलती लालटेनें, रोशन सा सकरात मन रहा है,
एक बच्चा हाथ में कटी पतंगे का ढेर लिए घर लौट रहा है,
कल लाल परसों पीली दिन भर का उत्सव नहीं,
साल भर की उम्मीदें जगा रहा है,
बेखौफ जमीं की दूरी को नगें पांव खगालते,
नजरें ऊपर आसमान की रोशनियों को ढूंढते,
सामने बेसुध पडा परिन्दा, मांजे के जख्म में तर बतर सांसे गिन रहा है,
एक रोशनी होले से नीचे आयी,
आह! गाड़ियों की सरसराहट खून में तब्दील, हर शख्मुस मुआयना कर रहा है,
बेसुध परिन्दा मानो चीखे जा रहा है,
कोई मसीहा इधर भी देखे,
शहर की बेपरवाही से कोई बेजान कट रहा है,
तो कोई गिरती रोशनियों से जल रहा है,
फिर कौन कहता है कि मेरा शहर संवर रहा है,
झुठी चमक से रोशन और सच से सब कुछ दहक रहा है,
तीन से फुटपाथ पर बैठा गोलू दुबका हुआ है,
रंगीन पतंग से बहक रहा है, मांजे से कट रहा है,
और पता नहीं किस बेरहम बेपरवाही से सुकून जल रहा है,
बौराया हुआ शहर अपनी कटी पतंग को ढूंढ रहा है!!!!!!!!
डाॅ. अवन्तिका

Hindi Poem on Makar Sakranti-मकर सक्रांति का शुभ दिन

मकर सक्रांति का शुभ दिन है आज
सूर्य देव को करेगा नमन मानव समाज
चहुँ ओर नन्हे बच्चों की टोली चलेगी
कहीं मिठाई तो कहीं हलवा पूरी तलेगी
गंगा तट पर कुम्भ मेला सजेगा
श्रद्धा युक्त दिव्य प्रेम बढ़ेगा
आकाश में पतंगों की होगी होड़
दान कर्म होगा सब मृग तृष्णा छोड़
आओ हम भी करें आज यह प्रण
करेंगे प्रभु को निश्छल समर्पण
-अनुष्का सूरी

How to read:

Makar Sakranti ka shubh din hai aj

Surya Dev ko karega naman manav samaj

Chahu or nanhe baccho ki toli chalegi

Kahin mithai to kahin halwa puri talegi

Ganga tat par Kumbh Mela sajega

Shradha yukt divya prem badhega

Akash mein patango ki hogi hod

Dan -karm hoga sab mrig trishna chod

Ao ham bhi karein aj yah pran

Karenge Prabhu ko nishchal samarpan

-Anushka Suri

English Translation:

It is the auspicious day of Makar Sakranti today

The entire human fraternity will worship Lord Sun today

Groups of young kids will wander on streets

Some places will serve sweets, while others will prepare halwa -poori (pooris are fried in oil or ghee)

Kumb Fair will be organized on the banks of River Ganges

Divine love based in strong faith will grow

Kite flying contests will flood the sky

People will engage in charity while leaving greed for materialistic objects such as wealth and property

Let us take a pledge today

We will surrender selflessly to the Supreme Lord