Poem on five sense organs

now browsing by tag

 
 

Hindi Poem on Five Senses – पांच इन्द्रियां

five-senses-paanch-indriya

पांच इन्द्रियां हैं हम सबके पास
आओ जानें क्या है इनमें खास
नासिका यानि नोज़ से सूँघो यानि करो स्मेल
इस से पता लगेगा क्या खुशबू क्या बदबू का हेल
त्वचा यानि स्किन से महसूस करो यानि फील
ये बता देगी कितना ठंडा कितना गर्म है हिल
कानों यानि ईयर्स से सुनो यानि करो हीयर
ये तुरंत बता देंगे कब कौन आवाज़ हुई नियर
आँखों यानि आईज़ से देखो यानि करो सी
ये बता देंगी सामने रिवर है या सी
जीभ यानि टंग से लो स्वाद यानि करो टेस्ट
स्वादिष्ट खाने को किन्तु मत होने दो वेस्ट
– अनुष्का सूरी