hindi Poem on Plight of a Woman – Tum Kaun Ho

तुम कौन हो (कविता का शीर्षक ) तुम चांद की चंचल चांदनी,या नवल पात पतझड़ की हो,तुम ओस बूंद की मोती,या आंखों की सबकी ज्योति हो,हर लेती सब कष्ट पल में,क्या शमशान की भभूती हो,!तुम सरयू का किनारा ,या गंगा की अमृत धारा हो,गज़ब के गीत हो तुम गाती,क्या राग तुम्ही मल्हार हो..!!तुम भानु की […]

%d bloggers like this: