poem on waqt in hindi

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Hindi Poems on Time- रफ़्तार से

clock-650753_960_720

चल रहा है वक्त धीमी रफ़्तार से
चल रही हूँ में धीमी रफ़्तार से
ना जाने क्यूँ चल रहा है वक़्त
ना जाने क्यूँ चल रही हूँ मैं
धीमी रफ़्तार से
ख़ुशी के वक़्त चलता वक़्त तेज़ रफ़्तार से
दर्द के वक़्त चलता वक़्त धीमी रफ़्तार से
शायद चल रहा है दर्द मेरे अंदर
धीमी रफ़्तार से
किसी ने पकड़ा था हाथ तो चल पड़ा वक़्त रफ़्तार से
छोड़ दिया उसने हाथ तो रुक गया वक़्त बिना बात के
वक़्त तो वो ही है और चल रहा वो अपनी रफ़्तार से
शायद मैं ही चल रही हूँ खुद अपनी रफ़्तार से
शायद मैं ही चल रही हूँ खुद अपनी रफ़्तार से

-मानसी गोयल

Chal raha hai waqt dheemi raftaar se…
Chal rahi hun me dheemi raftaar se…
Na jaane kyun chal rha h waqt…
Na jaane kyun chal rhi hun main
Dheemi raftaar se…..
Khushi ke waqt chalta waqt tez raftaar se…
Dard ke waqt chalta waqt dheemi raftaar se…
Shayad chal rha h dard mere andar
Dheemi raftaar se…
Kisi ne pakda tha hath toh chal pada waqt raftaar se…
Chhodh diya usne hath toh ruk gya waqt bina baat ke…
Waqt toh wo hi h or chal rha wo apni raftaar se
Shayad main hi chal rh hun khudh ki apni raftaar se…
Shayad main hi chal rh hun khudh ki apni raftaar se…

-Mansi Goyal