Shaadi – Hindi Poem on Marriage

शादीhappy-wedding
सोच सोच के किसी ने सोचा
कि शादी का क्या मतलब होगा?
बहुत सोचा पर कुछ ना सुझा
फिर कागज़ पे ये शब्द लिखा
और उसको किया जब उल्टा फ़ूलटा
तो अंत में ये नतीजा निकला
कि मत कहो इसे बर्बादी
क्योंकि इसी से तो है ये आबादी
जैसे दिशाहीन नाव को राह दिखाता एक मांझी
वैसे ही जीवन रुपी इस नाव को जो कीनारे पे है लाती
असल में यही तो है शादी
-अर्पन शाह

3 thoughts on “Shaadi – Hindi Poem on Marriage”

Leave a Reply to Prabhat Kumar khilar Cancel reply