Drinking alcohol is bad poem

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Hindi Poem on Alcoholism-May Aur Main

मय और मैं

मेरा नाम अगर शराब होता,
काम से ज़्यादा, बवाल होता,
पीता हर कोई, यूं रोज़-रोज़,
काम उसका, नाम मेरा होता,

होंठ पर लगा कर अगर वो चूमता,
निशान औरों के अधर पर होता,
अगर लगे शहर में भले शराब बंदी,
शराब पे नहीं, ताला मुंह पर होता,

इमारत बन गई है ऊंची ऊंची,
ईमान ख़तम, बची नहीं सूची,
कच्चे मकान में थे सच्चे लोग,
शीशे के मकान, पत्थर के लोग,

शराबियों के बीच गुज़ारी जो रात,
आज दीगर जरायम हो गया मुझसे,
कहा राम, पर सुना कुछ और बात,
राम कह मिलाया गया शराब को मुझसे
-नरसिंह यादव

भावार्थ:

इस कविता में कवि नरसिंह यादव एक शराबी की व्यथा बता रहे हैं। एक आदमी जो सदाचारी था उसको ख़राब संग के कारण भगवान् राम के नाम पर शराब का सेवन कराया गया। कवि कहता है कि शराब को बुरा नहीं कहो, गलती शराबी की है जो बार बार सेवन करता है।

आवश्यक सूचना: शराब पीना सेहत के लिए हानिकारक है|

May Aur Main

Mera naam agar sharab hota,
Kaam se zyada, bawal hota,
Peeta har koi, yu roz roz.
Kaam uska naam mera hota,

Hoth par laga kar agar wo chumta,
Nishan auro ke adhar par hota,
Agar lage shahar mein bhale sharab bandi,
Sharab pe nahi, taala muh par hota,

Imarat ban gayi hai oonchi-oonchi,
Imaan khatam, bachi nahin suchi,
Kacche makaan mein the sacche log,
Sheeshe ke makaan, pathar ke log,

Sharabiyo ke beech guzati jo raat,
Aaj digar jarayam ho gaya mujhse,
Kaha Ram, par suna kuch aur baat,
Ram kah sharab ko milaya gaya mujhse
-Narsingh Yadav

Meaning in English:

The poem describes the story of a man who was lured into drinking alcohol in the name of God. He never wanted to be an alcoholic but a bad company made him one. He says that alcoholics are to be blamed and not alcohol as they become addicted to the substance due to constant use.

Disclaimer: Drinking is injurious to health.

Hindi Poem on Alcohol Addiction – शराब की लत

शराब कहो वोडका कहो
शैम्पेन कहो या मदिरा
इस कड़वी ड्रिंक को पी कर
हाल होगा बड़ा बुरा
सर तुम्हारा चकराने लगेगा
होश हाथ से जाने लगेगा
समझ-बूझ सब घटेगी
एक वस्तु तुम्हें दो दिखेगी
रोज़ पियोगे इसे तो लत लगेगी
एक दिन शराब जिगर खा लेगी
शराब की लत में तुम्हारा घर जलेगा
आज जहाँ शांति है वहां बवाल मचेगा
इसीलिए शराब को कभी न पीना
अगर तुमको है सवस्थ जीवन जीना
-अनुष्का सूरी