Hindi Poem on Vijaydashmi – विजयदशमी का त्यौहार

indrajit-2805034_960_720.jpg

आज है विजयदशमी का त्यौहार
बुराई पर अच्छाई की जीत का वार
रावण संग जलेंगे कुम्भकरण मेघनाथ
बुरे काज में रावण का दिया जो साथ
सीता राम लक्ष्मण की जय जय कार
लंकापति को दिखाया हार का द्वार
ख़त्म हुआ अब राम लीला का वयापार
देखा हमने हर्ष से संग परिवार
-अनुष्का सूरी

2 Commentsto Hindi Poem on Vijaydashmi – विजयदशमी का त्यौहार

Leave a Reply