Tag Archives: Hindi Poems on Phool

Hindi Poem on Flowers – प्यारे प्यारे फूल


phool

प्यारे प्यारे फूल
रंग बिरंगे प्यारे फूल
कितने कोमल कितने नाजूक
खींचे सबको अपनी और
खुशबू दूर दूर तक फैलाते
सबको अपने पास बुलाते
तुम भी बन कर फूल जैसे
सजा दो धरती को बग़ीचे जैसे

-अनु बाला

 

Pyare pyare phool
Rang birnge pyare phool
Kitne komal kitne najuk
Khinche sabko apni auor
Khushbu dur dur tak falate
Sbko apne paas bulate
Tum bhi ban kr phool jaise
Sja do dhrti ko bagiche jaise

– Anu bala

Advertisements

Hindi Poetry on Red Rose – गुलाब का फूल


आशिक़ों के महबूब के पैरो की धूल हूँ  Red Rose

हाँ मैं एक लाल गुलाब का फूल हूँ

होठों जैसे पंखुड़ियाँ मेरी कोमल

काँटों से बच के ज़रा कहीं हो न जाओ घायल

मैं तोहफा बनकर पहुँच जाता हूँ जहाँ

मुझे देख मुस्कुरा देता है सारा जहां

-अनुष्का सूरी

Hindi Poem on Flower – फूल


मुझे खिला हुआ देख है सब चहरे खिल जाए Flower

मेरी खुशबू सब दिशाओं को है महकाए

कभी बागों में कभी घर में और कभी बालों में जाऊँ सजाए

मुझे तोहफा देकर आशिक़ रूठा यार मनाए

लाल, पीला, गुलाबी, नीला, सब रंग सबको भाय

जिसकी प्यारी प्यारी कलियाँ सबके दिल को लुभाय

हाँ मैं वही हूँ जो धरती पर फूल कहाय

-अनुष्का सूरी