Tags

, , , , ,

ढलती हुई जिंदगी की शाम होना पड़ता है
संघर्ष करने के लिए मुकाम होना पड़ता है

शोहरत किसी को यूँ ही खैरात में नही मिलती
मशहूर होने के लिए बदनाम होना पड़ता है

होता है झूठ का इस्तकबाल महफ़िल में
सदाकत को रुसवा सरेआम होना पड़ता है

हौसला हो जिनमे फिर उनके आगे हारकर
मंजिल को रास्ते से अंजाम होना पड़ता है

किसान बनना इतना आसान नही है दोस्तों
अपनी मौत का अपने सर इल्जाम होना पड़ता है।

– राहुल रेड

Dhalti hui zindagi ki shaam hona padta hai
Sangharsh karne ke liye mukaam hona padta hai

Shoharat kisi ko yuhin khairaat main nahi milti
Mashoor hone ke liye badnaam hona padta hai

Hota hai jhooth ka istakbaal mehfil mein
Sadakat ko ruswa sare aam hona padta hai

Hosla ho jinmain fir unke aage haarkar
Manzil ko rastei se anjaam hona padta hai

Kisaan banna itna aasan nahi hai doston
Apni maut ka apne sar ilzaam hona padta hai

– Rahul Red

Advertisements